BackBack
-11%

Rag Darbari Aalochana Ki Phans

Rs. 600 Rs. 534

‘राग दरबारी’ पर यह पहली आलोचना पुस्तक है। ‘राग दरबारी’ को लेकर हिन्दी समालोचना के क्षेत्र में जो तर्क-वितर्क और विवेचनात्मक वाग्युद्ध हुए हैं, उन्हें ऐतिहासिक क्रम से इस पुस्तक में प्रस्तुत किया गया है। श्रीलाल शुक्ल पर लिखे गए शोध ग्रन्थों में भी यह सामग्री उपलब्ध नहीं होती है।... Read More

Description

‘राग दरबारी’ पर यह पहली आलोचना पुस्तक है। ‘राग दरबारी’ को लेकर हिन्दी समालोचना के क्षेत्र में जो तर्क-वितर्क और विवेचनात्मक वाग्युद्ध हुए हैं, उन्हें ऐतिहासिक क्रम से इस पुस्तक में प्रस्तुत किया गया है। श्रीलाल शुक्ल पर लिखे गए शोध ग्रन्थों में भी यह सामग्री उपलब्ध नहीं होती है। अत: इस पुस्तक में राग दरबारी से सम्बन्धित तमाम बहसों की जाँच-पड़ताल की गई है।
‘राग दरबारी’ के प्रकाशन के तुरन्त बाद नेमिचन्द्र जैन और श्रीपत राय ने जो समीक्षाएँ लिखी थीं, उनसे कृति को लेकर भयंकर विवाद छिड़ गया था। इस पुस्तक में उस दौर की समीक्षाओं के अतिरिक्त अब तक के अनेक आलोचकों और सृजनकर्मियों के उन आलेखों और टिप्पणियों का संचयन-संकलन भी किया गया है जो अभी तक किसी पुस्तक में संगृहीत नहीं हैं। कथा समालोचना के मौजूदा स्वरूप का वस्तुपरक आकलन करने की दृष्टि से यह पुस्तक सार्थक और महत्त्वपूर्ण सामग्री प्रस्तुत करती है।
इस संचयन-संकलन के चार खंड हैं। पहला खंड समालोचना पर केन्द्रित है। दूसरा खंड लोकप्रियता और व्याप्ति से सम्बन्धित है जिसके अन्तर्गत रंगकर्मी, फ़िल्म निर्देशक और अनुवादक के संस्मरण समेत पाठकों की प्रतिक्रियाओं का दिग्दर्शन करानेवाले लेख भी सम्मिलित हैं। तीसरा खंड बकलमख़ुद श्रीलाल शुक्ल के ख़ुद के वक्तव्यों को समेटता है और चौथा खंड शख़्सियत उनके व्यक्तित्व से सम्बन्धित टिप्पणियों और संस्मरणों को प्रस्तुत करता है। इतनी भरी-पूरी सामग्री के संचयन के कारण यह पुस्तक ‘राग दरबारी’ का आलोचनात्मक दर्पण बन गई है। ‘rag darbari’ par ye pahli aalochna pustak hai. ‘rag darbari’ ko lekar hindi samalochna ke kshetr mein jo tark-vitark aur vivechnatmak vagyuddh hue hain, unhen aitihasik kram se is pustak mein prastut kiya gaya hai. Shrilal shukl par likhe ge shodh granthon mein bhi ye samagri uplabdh nahin hoti hai. At: is pustak mein raag darbari se sambandhit tamam bahson ki janch-padtal ki gai hai. ‘rag darbari’ ke prkashan ke turant baad nemichandr jain aur shripat raay ne jo samikshayen likhi thin, unse kriti ko lekar bhayankar vivad chhid gaya tha. Is pustak mein us daur ki samikshaon ke atirikt ab tak ke anek aalochkon aur srijankarmiyon ke un aalekhon aur tippaniyon ka sanchyan-sanklan bhi kiya gaya hai jo abhi tak kisi pustak mein sangrihit nahin hain. Katha samalochna ke maujuda svrup ka vastuprak aaklan karne ki drishti se ye pustak sarthak aur mahattvpurn samagri prastut karti hai.
Is sanchyan-sanklan ke char khand hain. Pahla khand samalochna par kendrit hai. Dusra khand lokapriyta aur vyapti se sambandhit hai jiske antargat rangkarmi, film nirdeshak aur anuvadak ke sansmran samet pathkon ki prtikriyaon ka digdarshan karanevale lekh bhi sammilit hain. Tisra khand bakalamkhud shrilal shukl ke khud ke vaktavyon ko sametta hai aur chautha khand shakhsiyat unke vyaktitv se sambandhit tippaniyon aur sansmarnon ko prastut karta hai. Itni bhari-puri samagri ke sanchyan ke karan ye pustak ‘rag darbari’ ka aalochnatmak darpan ban gai hai.