Pathron Ka Kya Hai

Regular price Rs. 103
Sale price Rs. 103 Regular price Rs. 111
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pathron Ka Kya Hai

Pathron Ka Kya Hai

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

यशस्वी युवा कवि विनय विश्वास का यह पहला कविता-संग्रह है। अपने समय के सच से टकराते संवेदनशील मनुष्य के अनुभव इनकी कविताओं का आधार हैं। न यह सच एक जैसा है, न इससे टकराव के अनुभव—इसलिए ये कविताएँ भी एकायामी नहीं। न इनमें प्रकृति और मनुष्य को अलग-अलग किया जा सकता है, न युगीन वास्तव और व्यक्तिगत संसार को। न राजनीति और परिवार को अलग-अलग किया जा सकता है, न शब्द और जीवन को। अनुभव की बहुलता और बहुस्तरीयता इनका ऐसा सच है, जिसने इन्हें दम्भी मुद्राओं की बनावट, कलात्मक दिखाई देनेवाली निरीहता और वहशी अराजकता से बचाकर ज़िन्दगी के प्रति सच्ची कविताएँ बनाया है।
इन कविताओं की सच्चाई उन पर बड़ी सहजता से व्यंग्य करती है, जो धर्म-ईमान की सौदागरी बड़े गर्व से किया करते हैं, दूसरों की मौत से अपनी साँसें खींचा करते हैं, पानी की तरह हर रंग में मिल जाया करते हैं और इनसान होते हुए भी कभी मक्खियों तो कभी केंचुओं को मात दिया करते हैं। इन कविताओं की सच्चाई उन सपनों की लड़ाई में कन्धे से कन्धा मिलाए जूझती है, जिनका भरोसा ईमानदारी और मेहनत की अप्रासंगिक होती पूँजी पर अब भी क़ायम है। इन कविताओं की सच्चाई सम्बन्धों के लगातार क्रूर होते इस्तेमाल का विरोध भी करती है और टूट-टूटकर बनते हुए नए मनुष्य के सौन्दर्य को जीती भी है। इन कविताओं की सच्चाई संवेदनात्मक उद्देश्य की मिट्टी से फूटते वैचारिक भावों के उन अंकुरों की पक्षधर है, जो हवा के ज़हर को ऑक्सीजन की तरह सर्जनात्मक चुनौती देने के लिए ही जन्मे हैं। इन कविताओं की सच्चाई रचना के हर स्तर पर अनुभव से नाभिनालबद्ध होने के कारण अतिरिक्त तराश या सपाटता से मुक्त है। इसीलिए इनमें से बहुत-सी कविताओं को जिस उत्सुकता के साथ पढ़ा गया है, उसी उत्साह के साथ सुना भी गया है।
सम्प्रेषण के संकट से दो-चार होती समकालीन कविता के दौर में ये कविताएँ प्रमाण हैं कि पाठकों और श्रोताओं को एक साथ प्रभावित करनेवाली कविताई बिना कोई रचनागत समझौता किए अब भी सम्भव है। निःसंकोच कहा जा सकता है कि पढ़ी और सुनी जानेवाली कविताओं के बीच की गहरी खाई को पाटते हुए सम्प्रेषण के संकट को सर्जनात्मक तरीक़े से हल करने में इन कविताओं की भूमिका उल्लेखनीय है। Yashasvi yuva kavi vinay vishvas ka ye pahla kavita-sangrah hai. Apne samay ke sach se takrate sanvedanshil manushya ke anubhav inki kavitaon ka aadhar hain. Na ye sach ek jaisa hai, na isse takrav ke anubhav—isaliye ye kavitayen bhi ekayami nahin. Na inmen prkriti aur manushya ko alag-alag kiya ja sakta hai, na yugin vastav aur vyaktigat sansar ko. Na rajniti aur parivar ko alag-alag kiya ja sakta hai, na shabd aur jivan ko. Anubhav ki bahulta aur bahustriyta inka aisa sach hai, jisne inhen dambhi mudraon ki banavat, kalatmak dikhai denevali nirihta aur vahshi arajakta se bachakar zindagi ke prati sachchi kavitayen banaya hai. In kavitaon ki sachchai un par badi sahajta se vyangya karti hai, jo dharm-iiman ki saudagri bade garv se kiya karte hain, dusron ki maut se apni sansen khincha karte hain, pani ki tarah har rang mein mil jaya karte hain aur insan hote hue bhi kabhi makkhiyon to kabhi kenchuon ko maat diya karte hain. In kavitaon ki sachchai un sapnon ki ladai mein kandhe se kandha milaye jujhti hai, jinka bharosa iimandari aur mehnat ki aprasangik hoti punji par ab bhi qayam hai. In kavitaon ki sachchai sambandhon ke lagatar krur hote istemal ka virodh bhi karti hai aur tut-tutkar bante hue ne manushya ke saundarya ko jiti bhi hai. In kavitaon ki sachchai sanvednatmak uddeshya ki mitti se phutte vaicharik bhavon ke un ankuron ki pakshdhar hai, jo hava ke zahar ko auksijan ki tarah sarjnatmak chunauti dene ke liye hi janme hain. In kavitaon ki sachchai rachna ke har star par anubhav se nabhinalbaddh hone ke karan atirikt tarash ya sapatta se mukt hai. Isiliye inmen se bahut-si kavitaon ko jis utsukta ke saath padha gaya hai, usi utsah ke saath suna bhi gaya hai.
Sampreshan ke sankat se do-char hoti samkalin kavita ke daur mein ye kavitayen prman hain ki pathkon aur shrotaon ko ek saath prbhavit karnevali kavitai bina koi rachnagat samjhauta kiye ab bhi sambhav hai. Niःsankoch kaha ja sakta hai ki padhi aur suni janevali kavitaon ke bich ki gahri khai ko patte hue sampreshan ke sankat ko sarjnatmak tariqe se hal karne mein in kavitaon ki bhumika ullekhniy hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products