Look Inside
Mera Desh Tumhara Desh
Mera Desh Tumhara Desh
Mera Desh Tumhara Desh
Mera Desh Tumhara Desh

Mera Desh Tumhara Desh

Regular price Rs. 739
Sale price Rs. 739 Regular price Rs. 795
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Mera Desh Tumhara Desh

Mera Desh Tumhara Desh

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अतीत की साझेदारी के बावजूद भारत और पाकिस्तान के स्कूलों में स्वाधीनता संघर्ष का इतिहास बिलकुल अलग ढंग से पढ़ाया जाता है। इतिहास की पढ़ाई दो परस्पर विरोधी राष्ट्रीय अस्मिताओं का निर्माण करती है। कुछ घटनाओं पर ज़ोर देकर और कुछ को छोड़कर स्कूली पाठ्य-पुस्तकें किस तरह दो अलग आख्यान रचती हैं, प्रोफ़ेसर कृष्ण कुमार की यह किताब इसी प्रश्न की गहराइयों में जाकर बच्चों की शिक्षा को प्रभावित करनेवाले सांस्कृतिक और विचारधारा-सम्बन्धी आग्रहों की पड़ताल करती है।
विश्लेषण के दायरे में 1857 के विद्रोह से लेकर विभाजन और स्वतंत्रता तक की सभी घटनाओं का भारत और पाकिस्तान की समकालीन पाठ्य-पुस्तकों में चित्रण शामिल किया गया है। इसके अलावा गांधी और जिन्ना जैसे व्यक्तित्वों की प्रस्तुतियों की छानबीन और व्याख्या भी की गई है। किताब के अन्तिम हिस्से में लाहौर और दिल्ली के बच्चों द्वारा लिखे गए निबन्धों का विश्लेषण शामिल है। यह विश्लेषण बच्चों की प्रतिक्रियाओं में निहित ताज़गी और दोटूकपने को चिन्हित करता है।
‘मेरा देश, तुम्हारा देश’ यह उम्मीद जगानेवाली किताब है कि भारत और पाकिस्तान अपनी आज़ादी के साठ वर्ष बाद विभाजन की पीड़ादायी स्मृति से उबरकर शान्ति का रास्ता खोज सकते हैं। प्रख्यात इतिहासकार सुमित सरकार ने इस पुस्तक को अपनी तरह के पहले कदम की संज्ञा दी है। Atit ki sajhedari ke bavjud bharat aur pakistan ke skulon mein svadhinta sangharsh ka itihas bilkul alag dhang se padhaya jata hai. Itihas ki padhai do paraspar virodhi rashtriy asmitaon ka nirman karti hai. Kuchh ghatnaon par zor dekar aur kuchh ko chhodkar skuli pathya-pustken kis tarah do alag aakhyan rachti hain, profesar krishn kumar ki ye kitab isi prashn ki gahraiyon mein jakar bachchon ki shiksha ko prbhavit karnevale sanskritik aur vichardhara-sambandhi aagrhon ki padtal karti hai. Vishleshan ke dayre mein 1857 ke vidroh se lekar vibhajan aur svtantrta tak ki sabhi ghatnaon ka bharat aur pakistan ki samkalin pathya-pustkon mein chitran shamil kiya gaya hai. Iske alava gandhi aur jinna jaise vyaktitvon ki prastutiyon ki chhanbin aur vyakhya bhi ki gai hai. Kitab ke antim hisse mein lahaur aur dilli ke bachchon dvara likhe ge nibandhon ka vishleshan shamil hai. Ye vishleshan bachchon ki prtikriyaon mein nihit tazgi aur dotukapne ko chinhit karta hai.
‘mera desh, tumhara desh’ ye ummid jaganevali kitab hai ki bharat aur pakistan apni aazadi ke saath varsh baad vibhajan ki pidadayi smriti se ubarkar shanti ka rasta khoj sakte hain. Prakhyat itihaskar sumit sarkar ne is pustak ko apni tarah ke pahle kadam ki sangya di hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products