Look Inside
Kharashein
Kharashein
Kharashein
Kharashein
Kharashein
Kharashein

Kharashein

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kharashein

Kharashein

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सन् 1947 में जब मुल्क आज़ाद हुआ तो इस आज़ादी के साथ-साथ आग और लहू की एक लकीर ने मुल्क को दो टुकड़ों में तकसीम कर दिया। यह बँटवारा सिर्फ़ मुल्क का ही नहीं बल्कि दिलों का, इंसानियत का और सदियों की सहेजी गंगा-जमनी तहज़ीब का भी हुआ। साम्प्रदायिकता के शोले ने सब कुछ जलाकर ख़ाक कर दिया और लोगों के दिलों में हिंसा, नफ़रत और फ़िरक़ापरस्ती के बीज बो दिए। इस फिर कावाराना वहशत ने वतन और इंसानियत के ज़िस्म पर अनगिनत ख़राशें पैदा कीं। बार-बार दंगे होते रहे। समय गुज़रता गया लेकिन ये ज़ख़्म भरे नहीं बल्कि और भी बर्बर रूप में हमारे सामने आए। ज़ख़्म रिसता रहा और इंसानियत कराहती रही...लाशें ही लाशें गिरती चली गईं।
‘ख़राशें’ मुल्क के इस दर्दनाक क़िस्से को बड़े तल्ख़ अन्दाज़़ में हमारे सामने रखती है। लब्धप्रतिष्ठ फ़िल्मकार और अदीब गुलज़ार की कविताओं और कहानियों की यह रंगमंचीय प्रस्तुति इन दंगों के दौरान आम इंसान की चीख़ों-कराहों के साथ पुलिसिया ज़ुल्म तथा सरकारी मीडिया के झूठ का नंगा सच भी बयाँ करती है। यह कृति हमारी संवेदनशीलता को कुरेदकर एक सुलगता हुआ सवाल रखती है कि इन दुरूह परिस्थितियों में यदि आप फँसे तो आपकी सोच और निर्णयों का आधार क्या होगा—मज़हब या इंसानियत?
प्रवाहपूर्ण भाषा और शब्द-प्रयोग की जादूगरी गुलज़ार की अपनी ख़ास विशेषता है। अपने अनूठे अन्दाज़़ के कारण यह कृति निश्चय ही पाठकों को बेहद पठनीय लगेगी। San 1947 mein jab mulk aazad hua to is aazadi ke sath-sath aag aur lahu ki ek lakir ne mulk ko do tukdon mein taksim kar diya. Ye bantvara sirf mulk ka hi nahin balki dilon ka, insaniyat ka aur sadiyon ki saheji ganga-jamni tahzib ka bhi hua. Samprdayikta ke shole ne sab kuchh jalakar khak kar diya aur logon ke dilon mein hinsa, nafrat aur firqaprasti ke bij bo diye. Is phir kavarana vahshat ne vatan aur insaniyat ke zism par anaginat kharashen paida kin. Bar-bar dange hote rahe. Samay guzarta gaya lekin ye zakhm bhare nahin balki aur bhi barbar rup mein hamare samne aae. Zakhm rista raha aur insaniyat karahti rahi. . . Lashen hi lashen girti chali gain. ‘kharashen’ mulk ke is dardnak qisse ko bade talkh andaz mein hamare samne rakhti hai. Labdhaprtishth filmkar aur adib gulzar ki kavitaon aur kahaniyon ki ye rangmanchiy prastuti in dangon ke dauran aam insan ki chikhon-karahon ke saath pulisiya zulm tatha sarkari midiya ke jhuth ka nanga sach bhi bayan karti hai. Ye kriti hamari sanvedanshilta ko kuredkar ek sulagta hua saval rakhti hai ki in duruh paristhitiyon mein yadi aap phanse to aapki soch aur nirnyon ka aadhar kya hoga—mazhab ya insaniyat?
Prvahpurn bhasha aur shabd-pryog ki jadugri gulzar ki apni khas visheshta hai. Apne anuthe andaz ke karan ye kriti nishchay hi pathkon ko behad pathniy lagegi.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products