BackBack
-11%

Khaki Mein Insan

Rs. 199 Rs. 177

इस किताब में ग्रामीण परिवेश से उठकर आई.आई.टी. दिल्ली से शिक्षा प्राप्त कर भारतीय पुलिस सेवा में आए एक अधिकारी द्वारा कुछ वास्तविक घटनाओं पर आधारित कहानियों के ज़रिए यह दर्शाने का प्रयास किया गया है कि अच्छी पुलिस व्यवस्था से सचमुच ग़रीब व असहाय लोगों की ज़िन्दगी में फ़र्क़... Read More

BlackBlack
Description

इस किताब में ग्रामीण परिवेश से उठकर आई.आई.टी. दिल्ली से शिक्षा प्राप्त कर भारतीय पुलिस सेवा में आए एक अधिकारी द्वारा कुछ वास्तविक घटनाओं पर आधारित कहानियों के ज़रिए यह दर्शाने का प्रयास किया गया है कि अच्छी पुलिस व्यवस्था से सचमुच ग़रीब व असहाय लोगों की ज़िन्दगी में फ़र्क़ लाया जा सकता है।
पुस्तक में आज के समय के ज्वलन्त मुद्दों, जैसे—आतंकवाद, अमीर-ग़रीब के बीच बढ़ती खाई, महिलाओं के प्रति अपराध, समय के साथ बदलते व टूटते हुए मानवीय मूल्य, भू-माफ़ियाओं का बढ़ता हुआ जाल, अपराधियों के बढ़ते हुए हौसले आदि का सटीक एवं यथार्थ चित्रण किया गया है।
पुस्तक में दर्शाया गया है कि यद्यपि वर्तमान व्यवस्था में कुछ ख़ामियाँ आ गई हैं, फिर भी यदि ऊँचे पदों पर बैठे लोगों में दृढ़ इच्छाशक्ति हो, इंसानियत के नज़रिए से सोचने की क्षमता हो और कुछ कर दिखाने का जज़्बा हो तो यही व्यवस्था, यही सिस्टम लोगों की मदद करने में बहुत ही कारगर सिद्ध हो सकता है।
भारतीय पुलिस की जड़ें ब्रिटिश साम्राज्य की इम्पीरियल पुलिस से निकली हैं। पुस्तक में थानों की कार्यप्रणाली में बदलाव लाकर जन-समस्याओं की जड़ तक पहुँचने और पुलिस व्यवस्था को लोकतंत्र की आकांक्षाओं और अपेक्षाओं के अनुरूप बनाने के तौर-तरीक़ों का भी जीवन्त उल्लेख किया गया है। Is kitab mein gramin parivesh se uthkar aai. Aai. Ti. Dilli se shiksha prapt kar bhartiy pulis seva mein aae ek adhikari dvara kuchh vastvik ghatnaon par aadharit kahaniyon ke zariye ye darshane ka pryas kiya gaya hai ki achchhi pulis vyvastha se sachmuch garib va ashay logon ki zindagi mein farq laya ja sakta hai. Pustak mein aaj ke samay ke jvlant muddon, jaise—atankvad, amir-garib ke bich badhti khai, mahilaon ke prati apradh, samay ke saath badalte va tutte hue manviy mulya, bhu-mafiyaon ka badhta hua jaal, apradhiyon ke badhte hue hausle aadi ka satik evan yatharth chitran kiya gaya hai.
Pustak mein darshaya gaya hai ki yadyapi vartman vyvastha mein kuchh khamiyan aa gai hain, phir bhi yadi uunche padon par baithe logon mein dridh ichchhashakti ho, insaniyat ke nazariye se sochne ki kshamta ho aur kuchh kar dikhane ka jazba ho to yahi vyvastha, yahi sistam logon ki madad karne mein bahut hi kargar siddh ho sakta hai.
Bhartiy pulis ki jaden british samrajya ki impiriyal pulis se nikli hain. Pustak mein thanon ki karyaprnali mein badlav lakar jan-samasyaon ki jad tak pahunchane aur pulis vyvastha ko loktantr ki aakankshaon aur apekshaon ke anurup banane ke taur-tariqon ka bhi jivant ullekh kiya gaya hai.