Look Inside
Kavya Kavi-Karm : Sathottari Hindi Kavita
Kavya Kavi-Karm : Sathottari Hindi Kavita
Kavya Kavi-Karm : Sathottari Hindi Kavita
Kavya Kavi-Karm : Sathottari Hindi Kavita

Kavya Kavi-Karm : Sathottari Hindi Kavita

Regular price Rs. 186
Sale price Rs. 186 Regular price Rs. 200
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Kavya Kavi-Karm : Sathottari Hindi Kavita

Kavya Kavi-Karm : Sathottari Hindi Kavita

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

डॉ. मुरलीधरन की यह पुस्तक जहाँ एक ओर खड़ी बोली में लिखी कविताओं का संक्षिप्त परन्तु सुचिंतित इतिहास है वहीं सत्तर के बाद की कविताओं का गम्भीर विवेचन भी है। कविता और कवि-कर्म की सारगर्भित परिभाषा के साथ ही साथ सत्तर के दशक की कविता के कुल और शील का व्यापक विवरण भी इसमें है। यह कार्य एक अभाव की पूर्ति करता है। साठोत्तरी कविता के अवशेषों का उल्लेख करते हुए लेखक ने सत्तर के दशक के मोहभंगजन्य खीज, आक्रोश, विक्षोभ, विसंगति, संत्रास, अराजकता, राजनैतिक परिवर्तन की आकांक्षा और उलटफेर की आवश्यकता की प्रतीति को सप्रमाण रेखांकित किया है।
इस पुस्तक की प्रमुख विशेषता है कि इसमें वैदुषिक दृष्टि से उपलब्ध सभी कवियों की कृतियों को विश्लेषण के लिए चुना गया है, जिसके कारण इस मूल्यांकन का महत्त्व बढ़ गया है। यह पहली पुस्तक है जिसमें हिन्दी-काव्य साहित्य को राष्ट्रीय दृष्टि से विवेचित किया गया है। विचारधाराओं के दबाव और संगठनों के नज़रिए से मुक्त होकर किया गया सटीक विश्लेषण इसे छात्रों के लिए ही नहीं अध्यापकों के लिए भी उपयोगी बनाता है।
डॉ. मुरलीधरन के गहन अध्ययन और तत्त्वदर्शी दृष्टि का प्रमाण तो पुस्तक है ही। इससे भी महत्त्वपूर्ण है इसके ज़रिए उन सूक्ष्म अन्तरों और कमियों की ओर संकेत जो पीढ़ियों, दशकों के अन्तराल में मिलते हैं। इसमें कवियों की विशेषताओं और कृतियों की गुणवत्ता तथा अन्तर्वस्तु को स्पष्टता के साथ रेखांकित किया गया है। कविताओं को रचनाकार की आयु के तर्क से नहीं समकालीनता और रचनात्मकता के आधार पर परीक्षित करने के कारण पुस्तक का महत्त्व बढ़ गया है।
छठें, सातवें और आठवें दशक की सामान्यताओं, अनुरूपताओं और विरुद्धताओं को अत्यन्त सावधानी से इसमें परिभाषित किया गया है। पुस्तक विद्वानों, छात्रों और शोधकर्ताओं के लिए निश्चय ही उपयोगी है। Dau. Murlidhran ki ye pustak jahan ek or khadi boli mein likhi kavitaon ka sankshipt parantu suchintit itihas hai vahin sattar ke baad ki kavitaon ka gambhir vivechan bhi hai. Kavita aur kavi-karm ki sargarbhit paribhasha ke saath hi saath sattar ke dashak ki kavita ke kul aur shil ka vyapak vivran bhi ismen hai. Ye karya ek abhav ki purti karta hai. Sathottri kavita ke avsheshon ka ullekh karte hue lekhak ne sattar ke dashak ke mohbhangjanya khij, aakrosh, vikshobh, visangati, santras, arajakta, rajanaitik parivartan ki aakanksha aur ulatpher ki aavashyakta ki prtiti ko saprman rekhankit kiya hai. Is pustak ki prmukh visheshta hai ki ismen vaidushik drishti se uplabdh sabhi kaviyon ki kritiyon ko vishleshan ke liye chuna gaya hai, jiske karan is mulyankan ka mahattv badh gaya hai. Ye pahli pustak hai jismen hindi-kavya sahitya ko rashtriy drishti se vivechit kiya gaya hai. Vichardharaon ke dabav aur sangathnon ke nazariye se mukt hokar kiya gaya satik vishleshan ise chhatron ke liye hi nahin adhyapkon ke liye bhi upyogi banata hai.
Dau. Murlidhran ke gahan adhyyan aur tattvdarshi drishti ka prman to pustak hai hi. Isse bhi mahattvpurn hai iske zariye un sukshm antron aur kamiyon ki or sanket jo pidhiyon, dashkon ke antral mein milte hain. Ismen kaviyon ki visheshtaon aur kritiyon ki gunvatta tatha antarvastu ko spashtta ke saath rekhankit kiya gaya hai. Kavitaon ko rachnakar ki aayu ke tark se nahin samkalinta aur rachnatmakta ke aadhar par parikshit karne ke karan pustak ka mahattv badh gaya hai.
Chhathen, satven aur aathven dashak ki samanytaon, anuruptaon aur viruddhtaon ko atyant savdhani se ismen paribhashit kiya gaya hai. Pustak vidvanon, chhatron aur shodhkartaon ke liye nishchay hi upyogi hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products