BackBack
-11%

Justju-E-Nihan : Urf Runiyabas Ki Antarkatha

Rs. 150 Rs. 134

‘जुस्तजू-ए-निहां उर्फ़ रुणियाबास की अन्‍तर्कथा’ यानी तलाश एक ऐसी छिपी हुई अन्दरूनी दुनिया की, जिसे पहचानकर उस पर उँगली रख पाना सचमुच बहुत मुश्किल है, लेकिन फिर भी जिसका कोई-न-कोई अंश हमें बार-बार अपने भीतर छटपटाता दिखाई दे जाता है। इसे हम अपने होने का दु:ख, उसका अकेलापन या अकेलेपन... Read More

BlackBlack
Description

‘जुस्तजू-ए-निहां उर्फ़ रुणियाबास की अन्‍तर्कथा’ यानी तलाश एक ऐसी छिपी हुई अन्दरूनी दुनिया की, जिसे पहचानकर उस पर उँगली रख पाना सचमुच बहुत मुश्किल है, लेकिन फिर भी जिसका कोई-न-कोई अंश हमें बार-बार अपने भीतर छटपटाता दिखाई दे जाता है। इसे हम अपने होने का दु:ख, उसका अकेलापन या अकेलेपन की समूची अव्यक्त तकलीफ़ को किसी मूर्त आस्था की बैसाखियों पर खड़ा कर सकने की भोली ललक, या ठहराव को तोड़ने की उद्दाम लालसा या एक बिखरती हुई सिनिकल सभ्यता की बदहवासी के बीच से दु:ख का प्रतिदान ढूँढ़ निकाल पाने की पागल, मर्मांतक ज़िद—कुछ भी कह सकते हैं...
...किसी बेग़ैरत और मखौल-भरी ज़िन्दगी से उकताया एक अनास्थावादी ‘खोजी’ पत्रकार जब अनायास ही राजस्थान के बियाबान इलाक़े में उपेक्षित खड़े एक नामालूम खँडहर और उस खँडहर के भीतर बरसों से ‘अदृश्यवास’ कर रहे अनदेखे ‘ओझल बाबा’ की किंवदन्‍ती से जा टकराता है तो उसे लगता है कि उस रहस्य के भीतर से वह कहीं अपनी उद्देश्‍यहीन ज़ि‍न्दगी का खोया हुआ सिरा भी ढूँढ़ निकालेगा।...क्या सचमुच वहाँ किसी सिद्ध बाबा का वास था? क्या उनके भीतर भी वही गुमनाम, अपरिभाषित-सी बेचैनी मँडरा रही थी? चालीस वर्षों के असाध्य एकान्तवास के ज़रिए क्या वे भी उसकी तरह ही किसी नामालूम, बेग़ैरत ज़िन्दगी का तोड़ ढूँढ़ निकालने की ज़िद पर अड़े हुए थे? अगर अड़े हुए थे तो क्या आख़िरकार उन्हें वह मिल पाया? और अगर मिला, तो क्या था वह तोड़?
‘जुस्तजू-ए-निहां...’ अपने समय और सभ्यता के अवसाद और उसकी आस्थाहीनता का विकल्प ढूँढ़ निकालने का एक जुनून-भरा वैयक्तिक अभियान है, जिसमें विचारधाराओं, नसीहतों और सैद्धान्तिकताओं से अलग एक पारदर्शी ईमानदारी और तड़प साफ़ महसूस की जा सकती है। रहस्य, रोमांच, व्यंग्य, अनास्था और संवेदना के सम्मोहक ताने-बाने में छतों और दीवारों के बाहर, खुले आसमान तले रचा गया हिन्दी गद्य के सशक्त हस्ताक्षर जितेन्द्र भाटिया का यह विलक्षण उपन्यास न सिर्फ़ कई स्तरों पर हमारी संवेदनाओं को छूता है, बल्कि अपनी पुरानी संवादपरकता पर से खोया हुआ विश्वास हमें लौटाने का साहस भी दिखाता है। ‘justju-e-nihan urf runiyabas ki an‍tarktha’ yani talash ek aisi chhipi hui andruni duniya ki, jise pahchankar us par ungali rakh pana sachmuch bahut mushkil hai, lekin phir bhi jiska koi-na-koi ansh hamein bar-bar apne bhitar chhataptata dikhai de jata hai. Ise hum apne hone ka du:kha, uska akelapan ya akelepan ki samuchi avyakt taklif ko kisi murt aastha ki baisakhiyon par khada kar sakne ki bholi lalak, ya thahrav ko todne ki uddam lalsa ya ek bikharti hui sinikal sabhyta ki badahvasi ke bich se du:kha ka pratidan dhundh nikal pane ki pagal, marmantak zid—kuchh bhi kah sakte hain. . . . . . Kisi begairat aur makhaul-bhari zindagi se uktaya ek anasthavadi ‘khoji’ patrkar jab anayas hi rajasthan ke biyaban ilaqe mein upekshit khade ek namalum khandahar aur us khandahar ke bhitar barson se ‘adrishyvas’ kar rahe andekhe ‘ojhal baba’ ki kinvdan‍ti se ja takrata hai to use lagta hai ki us rahasya ke bhitar se vah kahin apni uddesh‍yahin zi‍ndgi ka khoya hua sira bhi dhundh nikalega. . . . Kya sachmuch vahan kisi siddh baba ka vaas tha? kya unke bhitar bhi vahi gumnam, aparibhashit-si bechaini mandara rahi thi? chalis varshon ke asadhya ekantvas ke zariye kya ve bhi uski tarah hi kisi namalum, begairat zindagi ka tod dhundh nikalne ki zid par ade hue the? agar ade hue the to kya aakhirkar unhen vah mil paya? aur agar mila, to kya tha vah tod?
‘justju-e-nihan. . . ’ apne samay aur sabhyta ke avsad aur uski aasthahinta ka vikalp dhundh nikalne ka ek junun-bhara vaiyaktik abhiyan hai, jismen vichardharaon, nasihton aur saiddhantiktaon se alag ek pardarshi iimandari aur tadap saaf mahsus ki ja sakti hai. Rahasya, romanch, vyangya, anastha aur sanvedna ke sammohak tane-bane mein chhaton aur divaron ke bahar, khule aasman tale racha gaya hindi gadya ke sashakt hastakshar jitendr bhatiya ka ye vilakshan upanyas na sirf kai stron par hamari sanvednaon ko chhuta hai, balki apni purani sanvadaparakta par se khoya hua vishvas hamein lautane ka sahas bhi dikhata hai.