Look Inside
Ghasiram Kotwal
Ghasiram Kotwal
Ghasiram Kotwal
Ghasiram Kotwal

Ghasiram Kotwal

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ghasiram Kotwal

Ghasiram Kotwal

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

इस नाटक में घासीराम और नाना फड़नवीस का व्यक्ति-संघर्ष प्रमुख है, लेकिन तेन्दुलकर ने इस संघर्ष के साथ अपनी विशिष्ट शैली में तत्कालीन सामाजिक एवं राजनैतिक स्थिति का मार्मिक चित्रण भी किया है। सत्ताधारी वर्ग और जनसाधारण की सम्पूर्ण स्थिति पर समय और स्थान के अन्तर से कोई वास्तविक अन्तर नहीं पड़ता। घासीराम हर काल और समाज में होते हैं और हर उस काल और समाज में उसे वैसा बनानेवाले और मौक़ा देखकर उसकी हत्या करनेवाले नाना फड़नवीस भी होते हैं—यह बात तेन्दुलकर ने अपने ढंग से प्रतिपादित की है।
घासीराम एक प्रकार से एक प्रसंग मात्र है जिसे तेन्दुलकर ने अपने वक्तव्य की अभिव्यक्ति का एक निमित्त, एक साधन बनाया है। नाटक में नाटककार का उद्देश्य नाना फड़नवीस और तत्कालीन पतनोन्मुख समाज के चित्रण द्वारा शाश्वत सच्चाइयों को उजागर करना है और उसमें वह पूरी तरह सफल हुआ है।
यह नाटक एक विशिष्ट समाज-स्थिति की ओर संकेत करता है जो न पुरानी है और न नई। न वह किसी भौगोलिक सीमा-रेखा में बँधी है, न समय से ही। वह स्थान-कालातीत है, इसलिए ‘घासीराम’ और ‘नाना फड़नवीस’ भी स्थान-कालातीत हैं। समाज की स्थितियाँ उन्हें जन्म देती हैं, और वही उनका अन्त भी करती हैं।
राजिन्दरनाथ, बृजमोहन शाह, ब.व. कारंत, अलोपी वर्मा, अरविन्द गौड़ तथा कमल वशिष्ठ आदि विभिन्न ख्यातनामा निर्देशक इसके अनेक सफल मंचन कर चुके हैं। Is natak mein ghasiram aur nana phadanvis ka vyakti-sangharsh prmukh hai, lekin tendulkar ne is sangharsh ke saath apni vishisht shaili mein tatkalin samajik evan rajanaitik sthiti ka marmik chitran bhi kiya hai. Sattadhari varg aur jansadharan ki sampurn sthiti par samay aur sthan ke antar se koi vastvik antar nahin padta. Ghasiram har kaal aur samaj mein hote hain aur har us kaal aur samaj mein use vaisa bananevale aur mauqa dekhkar uski hatya karnevale nana phadanvis bhi hote hain—yah baat tendulkar ne apne dhang se pratipadit ki hai. Ghasiram ek prkar se ek prsang matr hai jise tendulkar ne apne vaktavya ki abhivyakti ka ek nimitt, ek sadhan banaya hai. Natak mein natakkar ka uddeshya nana phadanvis aur tatkalin patnonmukh samaj ke chitran dvara shashvat sachchaiyon ko ujagar karna hai aur usmen vah puri tarah saphal hua hai.
Ye natak ek vishisht samaj-sthiti ki or sanket karta hai jo na purani hai aur na nai. Na vah kisi bhaugolik sima-rekha mein bandhi hai, na samay se hi. Vah sthan-kalatit hai, isaliye ‘ghasiram’ aur ‘nana phadanvis’ bhi sthan-kalatit hain. Samaj ki sthitiyan unhen janm deti hain, aur vahi unka ant bhi karti hain.
Rajindarnath, brijmohan shah, ba. Va. Karant, alopi varma, arvind gaud tatha kamal vashishth aadi vibhinn khyatnama nirdeshak iske anek saphal manchan kar chuke hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products