BackBack
-11%

Ek Sachchi Jhoothi Gatha

Rs. 299 Rs. 266

इक्कीसवीं सदी की यह गाथा एक स्त्री और एक पुरुष के बीच संवाद और आत्मालाप से बुनी गई है। यहाँ सिर्फ सोच की उलझनें और उनकी टकराहट ही नहीं, आत्मीयता की आहट भी है। किन्तु यह सम्बन्ध इंटरनेट की हवाई तरंगों के मार्फत है, जहाँ किसी का अनदेखा, अनजाना वजूद... Read More

Description

इक्कीसवीं सदी की यह गाथा एक स्त्री और एक पुरुष के बीच संवाद और आत्मालाप से बुनी गई है। यहाँ सिर्फ सोच की उलझनें और उनकी टकराहट ही नहीं, आत्मीयता की आहट भी है। किन्तु यह सम्बन्ध इंटरनेट की हवाई तरंगों के मार्फत है, जहाँ किसी का अनदेखा, अनजाना वजूद पूरी तरह एक धोखा भी हो सकता है। अलबत्ता यह धोखा भी है तो ऐसा, जो एक-दूसरे के जीवन को देखने के नज़रिए को उलट-पलट कर रख दे। यहाँ तक कि दो व्यक्ति एक-दूसरे के सपनों में भी आवाजाही कर लें। आज भी आतंकवाद के हर हादसे पर हैरत होती है कि किसी आस्था, तर्क या सिद्धान्त की गिर$फ्त में कोई ऐसे कैसे आ सकता है कि किसी की जान लेने या खुद अपने ही चिथड़े उड़ाने को राज़ी हो जाए। ‘एक सच्ची-झूठी गाथा’ उस मानस तक पहुँचने की कोशिश है, पर बिना फैसला या फतवा दिए, क्योंकि इस सदी की राजनीति में भी अन्याय वैसे ही व्याप्त है और उससे जूझने के तरीके हिंसा में ही समाधान खोजते हैं। यह गाथा पाठकों को एक साथ कई अनचीन्ही पगडंडियों की यात्रा कराएगी। कई बार उन्हें ऐसी जगहों पर ले जाएगी, जहाँ आगे जाने का कोई रास्ता नहीं दिख रहा। लेकिन यह जोखिम उठाना खुद के अन्दर और बाहर ब्रह्मांड की गहरी पहचान कराएगा : एक ऐसी तृप्ति के बोध के साथ, जो सिर्फ दुस्साहस और नयी अनुभूतियों को जीने के संकल्प से ही मिल सकती है। प्रेम, मित्रता, स्त्रीत्व, बतरस, लेखकी और सत्य के नये परिप्रेक्ष्य इस अनात्मकथा में खुलते रहेंगे और फिर धुँधले होकर लुकते-छिपते रहेंगे। Ikkisvin sadi ki ye gatha ek stri aur ek purush ke bich sanvad aur aatmalap se buni gai hai. Yahan sirph soch ki ulajhnen aur unki takrahat hi nahin, aatmiyta ki aahat bhi hai. Kintu ye sambandh intarnet ki havai tarangon ke marphat hai, jahan kisi ka andekha, anjana vajud puri tarah ek dhokha bhi ho sakta hai. Albatta ye dhokha bhi hai to aisa, jo ek-dusre ke jivan ko dekhne ke nazariye ko ulat-palat kar rakh de. Yahan tak ki do vyakti ek-dusre ke sapnon mein bhi aavajahi kar len. Aaj bhi aatankvad ke har hadse par hairat hoti hai ki kisi aastha, tark ya siddhant ki gir$pht mein koi aise kaise aa sakta hai ki kisi ki jaan lene ya khud apne hi chithde udane ko razi ho jaye. ‘ek sachchi-jhuthi gatha’ us manas tak pahunchane ki koshish hai, par bina phaisla ya phatva diye, kyonki is sadi ki rajniti mein bhi anyay vaise hi vyapt hai aur usse jujhne ke tarike hinsa mein hi samadhan khojte hain. Ye gatha pathkon ko ek saath kai anchinhi pagdandiyon ki yatra karayegi. Kai baar unhen aisi jaghon par le jayegi, jahan aage jane ka koi rasta nahin dikh raha. Lekin ye jokhim uthana khud ke andar aur bahar brahmand ki gahri pahchan karayega : ek aisi tripti ke bodh ke saath, jo sirph dussahas aur nayi anubhutiyon ko jine ke sankalp se hi mil sakti hai. Prem, mitrta, stritv, batras, lekhki aur satya ke naye pariprekshya is anatmaktha mein khulte rahenge aur phir dhundhale hokar lukte-chhipte rahenge.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year