BackBack
-11%

Daleeya Ghere Ke Bahar

Rs. 1,195 Rs. 1,064

भारत में ऐसे राजनेता बहुत कम रहे हैं जिन्होंने अपने विचारों को लिखित रूप में लगातार अपने समकालीनों और पाठकों तक पहुँचाया और इस प्रकार न सिर्फ़ अपना पक्ष स्पष्ट किया बल्कि लोगों को शिक्षित भी किया। चन्द्रशेखर उनमें अग्रणी हैं। वे लम्बे समय तक ‘यंग इंडियन’ का सम्पादन-प्रकाशन करते... Read More

BlackBlack
Description

भारत में ऐसे राजनेता बहुत कम रहे हैं जिन्होंने अपने विचारों को लिखित रूप में लगातार अपने समकालीनों और पाठकों तक पहुँचाया और इस प्रकार न सिर्फ़ अपना पक्ष स्पष्ट किया बल्कि लोगों को शिक्षित भी किया। चन्द्रशेखर उनमें अग्रणी हैं। वे लम्बे समय तक ‘यंग इंडियन’ का सम्पादन-प्रकाशन करते रहे, और देश, राजनीति और समाज को प्रभावित करनेवाली हर घटना पर बिना किसी पूर्वग्रह और स्वार्थ के लिखते रहे। यह साप्ताहिक ‘यंग इंडियन’ में उनके लिखे सम्पादकीय का संग्रह है। इस खंड में 1971 से 2001 तक की तीन दशकों की अवधि में लिखी सम्पादकीय टिप्पणियों को शामिल किया गया है। कहने की आवश्यकता नहीं कि यह पूरा दौर भारतीय राजनीति में बड़ी घटनाओं और फेर-बदल का समय रहा है। इसी दौर में भारत-पाक युद्ध और तदुपरान्त बांग्लादेश का अभ्युदय हमने देखा, इंदिरा गांधी का ‘ग़रीबी हटाओ’ आन्दोलन इसी दौर में चला; 1971 के लोकसभा चुनावों में उनकी जीत, उसके बाद जनता पार्टी सरकार, उसका भंग होना और पुन: इंदिरा गांधी की वापसी इसी कालखंड में हुई।
जिन मुद्दों और घटनाओं पर राजनेता और विचारक चन्द्रशेखर के विचार आप यहाँ पढ़ेंगे, उनमें उपरोक्त के अलावा आपातकाल, इंदिरा गांधी की हत्या, उसके बाद राजीव गांधी का प्रधानमंत्री बनना, बोफोर्स मामले के बाद उनका सत्ता से हटना और वी.पी. सिंह का प्रधानमंत्री बनना, स्वयं चन्द्रशेखर का अल्पकालिक प्रधानमंत्रित्व, राजीव हत्याकांड और नरसिम्हा राव शासन का आरम्भिक दौर आदि शामिल हैं। बतौर नेता और राजनीतिक चिन्तक चन्द्रशेखर को स्वतंत्र विचार के लिए जाना जाता है। इस पूरे दौर को उन्होंने निष्पक्ष भाव से देखते हुए, क्या सोचा और देशहित में क्या चाहा, उस सबका निरूपण वे लगातार अपने सम्पादकीय में करते रहे। इन सम्पादकीय लेखों से गुज़रना सिर्फ़ चन्द्रशेखर के विचारों से ही नहीं, उस दौर के इतिहास से भी गुज़रना है। Bharat mein aise rajneta bahut kam rahe hain jinhonne apne vicharon ko likhit rup mein lagatar apne samkalinon aur pathkon tak pahunchaya aur is prkar na sirf apna paksh spasht kiya balki logon ko shikshit bhi kiya. Chandrshekhar unmen agrni hain. Ve lambe samay tak ‘yang indiyan’ ka sampadan-prkashan karte rahe, aur desh, rajniti aur samaj ko prbhavit karnevali har ghatna par bina kisi purvagrah aur svarth ke likhte rahe. Ye saptahik ‘yang indiyan’ mein unke likhe sampadkiy ka sangrah hai. Is khand mein 1971 se 2001 tak ki tin dashkon ki avadhi mein likhi sampadkiy tippaniyon ko shamil kiya gaya hai. Kahne ki aavashyakta nahin ki ye pura daur bhartiy rajniti mein badi ghatnaon aur pher-badal ka samay raha hai. Isi daur mein bharat-pak yuddh aur taduprant bangladesh ka abhyuday hamne dekha, indira gandhi ka ‘garibi hatao’ aandolan isi daur mein chala; 1971 ke lokasbha chunavon mein unki jit, uske baad janta parti sarkar, uska bhang hona aur pun: indira gandhi ki vapsi isi kalkhand mein hui. Jin muddon aur ghatnaon par rajneta aur vicharak chandrshekhar ke vichar aap yahan padhenge, unmen uprokt ke alava aapatkal, indira gandhi ki hatya, uske baad rajiv gandhi ka prdhanmantri banna, bophors mamle ke baad unka satta se hatna aur vi. Pi. Sinh ka prdhanmantri banna, svayan chandrshekhar ka alpkalik prdhanmantritv, rajiv hatyakand aur narsimha raav shasan ka aarambhik daur aadi shamil hain. Bataur neta aur rajnitik chintak chandrshekhar ko svtantr vichar ke liye jana jata hai. Is pure daur ko unhonne nishpaksh bhav se dekhte hue, kya socha aur deshhit mein kya chaha, us sabka nirupan ve lagatar apne sampadkiy mein karte rahe. In sampadkiy lekhon se guzarna sirf chandrshekhar ke vicharon se hi nahin, us daur ke itihas se bhi guzarna hai.