BackBack

Channa

Krishna Sobti

Rs. 895

कृष्णा जी का सबसे पहला उपन्यास है ‘चन्ना’ जिसे पिछली सदी के पाँचवें दशक में ही पाठकों तक पहुँच जाना था, लेकिन यह नहीं हो सका। प्रकाशक ने एक नए लेखक की भाषा में बदलाव करने की कोशिश की तो लेखक ने अपने पाठ के शील-सौन्दर्य की रक्षा हेतु उसे... Read More

HardboundHardbound
Description

कृष्णा जी का सबसे पहला उपन्यास है ‘चन्ना’ जिसे पिछली सदी के पाँचवें दशक में ही पाठकों तक पहुँच जाना था, लेकिन यह नहीं हो सका। प्रकाशक ने एक नए लेखक की भाषा में बदलाव करने की कोशिश की तो लेखक ने अपने पाठ के शील-सौन्दर्य की रक्षा हेतु उसे वापस ले लिया। तब से अब तक विभाजन-पूर्व भारत के खेतिहर समाज और उस परिवेश में जन्म लेकर पलती-बढ़ती-लड़ती चन्ना की यह गाथा लेखक के तहखाने में खामोशी से इन्तज़ार करती रही।
अब ‘चन्ना’ पाठकों के सामने है और अपनी चेतना के रूप-स्वरूप से आपको हैरान करने जा रही है। चन्ना का पारिवारिक और सामाजिक परिप्रेक्ष्य भारत के उस समय का है जब दुनिया के अग्रणी मुल्कों में भी स्त्री-स्वतंत्रता की बहुत सुगबुगाहट नहीं थी। लेकिन चन्ना ठीक उन्ही अर्थों में आधुनिक है जिन्हें हम आज जानते हैं। पैदाइश के वक़्त ही माँ की छाया से वंचित, पिता के स्नेह से दूर, नाना-नानी के प्यार-तले पली-बढ़ी चन्ना आज़ाद ख़याल है, शिक्षित है, और सबसे ज्‍़यादा ध्यान देने लायक़ यह कि अपने अधिकार को लेकर सजग है । और यह अधिकार उसके व्यक्तित्व की हदों तक सीमित नहीं, उन ज़मीनों और खेतों तक फैला है जिन्हें वह अपने पुरखों की ओर से मिला दायित्व भी मानती है।
कृष्णा सोबती कभी भी उन स्त्रीवादी लेखकों में नहीं रहीं जो हिन्दी में अक्सर फ़ैशन में रहे। उन्होंने स्त्रीत्व और पुरुषत्व को दो अलग खाने कभी नहीं माना। उनका ज़ोर व्यक्ति के उस आत्मबोध को जगाने पर रहा है जो किसी भी देह में प्रकट होकर प्रकाश देता है—वह देह स्त्री की हो या पुरुष की। ‘चन्ना’ इसी आत्मबोध का साकार रूप है जिसे कृष्णा जी ने आज से लगभग सात दशक पहले गढ़ा था। यह अपनी ज़मीन, अपनी विरासत से निकलती स्त्री है जिसे हम चन्ना की व्यक्ति-सत्ता में देखते हैं। Krishna ji ka sabse pahla upanyas hai ‘channa’ jise pichhli sadi ke panchaven dashak mein hi pathkon tak pahunch jana tha, lekin ye nahin ho saka. Prkashak ne ek ne lekhak ki bhasha mein badlav karne ki koshish ki to lekhak ne apne path ke shil-saundarya ki raksha hetu use vapas le liya. Tab se ab tak vibhajan-purv bharat ke khetihar samaj aur us parivesh mein janm lekar palti-badhti-ladti channa ki ye gatha lekhak ke tahkhane mein khamoshi se intzar karti rahi. Ab ‘channa’ pathkon ke samne hai aur apni chetna ke rup-svrup se aapko hairan karne ja rahi hai. Channa ka parivarik aur samajik pariprekshya bharat ke us samay ka hai jab duniya ke agrni mulkon mein bhi stri-svtantrta ki bahut sugabugahat nahin thi. Lekin channa thik unhi arthon mein aadhunik hai jinhen hum aaj jante hain. Paidaish ke vaqt hi man ki chhaya se vanchit, pita ke sneh se dur, nana-nani ke pyar-tale pali-badhi channa aazad khayal hai, shikshit hai, aur sabse ‍yada dhyan dene layaq ye ki apne adhikar ko lekar sajag hai. Aur ye adhikar uske vyaktitv ki hadon tak simit nahin, un zaminon aur kheton tak phaila hai jinhen vah apne purkhon ki or se mila dayitv bhi manti hai.
Krishna sobti kabhi bhi un strivadi lekhkon mein nahin rahin jo hindi mein aksar faishan mein rahe. Unhonne stritv aur purushatv ko do alag khane kabhi nahin mana. Unka zor vyakti ke us aatmbodh ko jagane par raha hai jo kisi bhi deh mein prkat hokar prkash deta hai—vah deh stri ki ho ya purush ki. ‘channa’ isi aatmbodh ka sakar rup hai jise krishna ji ne aaj se lagbhag saat dashak pahle gadha tha. Ye apni zamin, apni virasat se nikalti stri hai jise hum channa ki vyakti-satta mein dekhte hain.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-9388753340
Pages 384p
Publishing Year

Channa

कृष्णा जी का सबसे पहला उपन्यास है ‘चन्ना’ जिसे पिछली सदी के पाँचवें दशक में ही पाठकों तक पहुँच जाना था, लेकिन यह नहीं हो सका। प्रकाशक ने एक नए लेखक की भाषा में बदलाव करने की कोशिश की तो लेखक ने अपने पाठ के शील-सौन्दर्य की रक्षा हेतु उसे वापस ले लिया। तब से अब तक विभाजन-पूर्व भारत के खेतिहर समाज और उस परिवेश में जन्म लेकर पलती-बढ़ती-लड़ती चन्ना की यह गाथा लेखक के तहखाने में खामोशी से इन्तज़ार करती रही।
अब ‘चन्ना’ पाठकों के सामने है और अपनी चेतना के रूप-स्वरूप से आपको हैरान करने जा रही है। चन्ना का पारिवारिक और सामाजिक परिप्रेक्ष्य भारत के उस समय का है जब दुनिया के अग्रणी मुल्कों में भी स्त्री-स्वतंत्रता की बहुत सुगबुगाहट नहीं थी। लेकिन चन्ना ठीक उन्ही अर्थों में आधुनिक है जिन्हें हम आज जानते हैं। पैदाइश के वक़्त ही माँ की छाया से वंचित, पिता के स्नेह से दूर, नाना-नानी के प्यार-तले पली-बढ़ी चन्ना आज़ाद ख़याल है, शिक्षित है, और सबसे ज्‍़यादा ध्यान देने लायक़ यह कि अपने अधिकार को लेकर सजग है । और यह अधिकार उसके व्यक्तित्व की हदों तक सीमित नहीं, उन ज़मीनों और खेतों तक फैला है जिन्हें वह अपने पुरखों की ओर से मिला दायित्व भी मानती है।
कृष्णा सोबती कभी भी उन स्त्रीवादी लेखकों में नहीं रहीं जो हिन्दी में अक्सर फ़ैशन में रहे। उन्होंने स्त्रीत्व और पुरुषत्व को दो अलग खाने कभी नहीं माना। उनका ज़ोर व्यक्ति के उस आत्मबोध को जगाने पर रहा है जो किसी भी देह में प्रकट होकर प्रकाश देता है—वह देह स्त्री की हो या पुरुष की। ‘चन्ना’ इसी आत्मबोध का साकार रूप है जिसे कृष्णा जी ने आज से लगभग सात दशक पहले गढ़ा था। यह अपनी ज़मीन, अपनी विरासत से निकलती स्त्री है जिसे हम चन्ना की व्यक्ति-सत्ता में देखते हैं। Krishna ji ka sabse pahla upanyas hai ‘channa’ jise pichhli sadi ke panchaven dashak mein hi pathkon tak pahunch jana tha, lekin ye nahin ho saka. Prkashak ne ek ne lekhak ki bhasha mein badlav karne ki koshish ki to lekhak ne apne path ke shil-saundarya ki raksha hetu use vapas le liya. Tab se ab tak vibhajan-purv bharat ke khetihar samaj aur us parivesh mein janm lekar palti-badhti-ladti channa ki ye gatha lekhak ke tahkhane mein khamoshi se intzar karti rahi. Ab ‘channa’ pathkon ke samne hai aur apni chetna ke rup-svrup se aapko hairan karne ja rahi hai. Channa ka parivarik aur samajik pariprekshya bharat ke us samay ka hai jab duniya ke agrni mulkon mein bhi stri-svtantrta ki bahut sugabugahat nahin thi. Lekin channa thik unhi arthon mein aadhunik hai jinhen hum aaj jante hain. Paidaish ke vaqt hi man ki chhaya se vanchit, pita ke sneh se dur, nana-nani ke pyar-tale pali-badhi channa aazad khayal hai, shikshit hai, aur sabse ‍yada dhyan dene layaq ye ki apne adhikar ko lekar sajag hai. Aur ye adhikar uske vyaktitv ki hadon tak simit nahin, un zaminon aur kheton tak phaila hai jinhen vah apne purkhon ki or se mila dayitv bhi manti hai.
Krishna sobti kabhi bhi un strivadi lekhkon mein nahin rahin jo hindi mein aksar faishan mein rahe. Unhonne stritv aur purushatv ko do alag khane kabhi nahin mana. Unka zor vyakti ke us aatmbodh ko jagane par raha hai jo kisi bhi deh mein prkat hokar prkash deta hai—vah deh stri ki ho ya purush ki. ‘channa’ isi aatmbodh ka sakar rup hai jise krishna ji ne aaj se lagbhag saat dashak pahle gadha tha. Ye apni zamin, apni virasat se nikalti stri hai jise hum channa ki vyakti-satta mein dekhte hain.