Look Inside
Bhojpuri-Hindi-English Shabdkosh
Bhojpuri-Hindi-English Shabdkosh
Bhojpuri-Hindi-English Shabdkosh
Bhojpuri-Hindi-English Shabdkosh
Bhojpuri-Hindi-English Shabdkosh
Bhojpuri-Hindi-English Shabdkosh
Bhojpuri-Hindi-English Shabdkosh
Bhojpuri-Hindi-English Shabdkosh

Bhojpuri-Hindi-English Shabdkosh

Regular price Rs. 929
Sale price Rs. 929 Regular price Rs. 999
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bhojpuri-Hindi-English Shabdkosh

Bhojpuri-Hindi-English Shabdkosh

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्‍दी भाषा पर विचार करते समय हम उसकी सहभाषाओं के अवदान को नहीं भुला सकते, क्योंकि हिन्‍दी की असली शक्ति उसकी तद्भव सम्‍पदा में है। इन तद्भवों का एक बड़ा स्रोत उसकी सहभाषाएँ और बोलियाँ हैं। इन जनपदीय भाषाओं में रचे साहित्य ने भक्ति आन्‍दोलन और देश के स्वतंत्रता-संग्राम में विशेष योगदान किया था।
यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि तुलसी, कबीर, सूर, रैदास, मीरा जैसी विभूतियों को लेकर ही हिन्‍दी ‘हिन्‍दी’ है। ये सभी महान रचनाकार अपनी रचनाएँ हिन्‍दी की सहभाषाओं अवधी, ब्रज, भोजपुरी और राजस्थानी में रच रहे थे। इस तथ्य की सार्थकता हेतु जनपदीय भाषाओं के शब्दकोशों की आवश्यकता स्वयंसिद्ध है।
औपचारिक भाषा के रूप में आज खड़ी बोली हिन्‍दी ही अधिक प्रचलित हो रही है, इसलिए जनपदीय भाषाएँ अतिरिक्त ध्यान की अपेक्षा करती हैं। आज नगरीकरण और वैश्वीकरण से सब कुछ एकसार हुआ जा रहा है और भाषाओं की विविधता पर ख़तरा मँडराने लगा है। ऐसे में हिन्‍दी भाषा का दायित्व बढ़ जाता है।
भोजपुरी भारत के उत्तर प्रदेश और बिहार क्षेत्र में प्रचलित एक जीवन्‍त भाषा है। साथ ही मारीशस, सूरीनाम, त्रिनिदाद, गुयाना, फ़‍िजी आदि देशों में भारतवंशियों के बीच भी भोजपुरी का प्रयोग प्रचलित है। इस तरह भोजपुरी हिन्‍दी के अन्‍तरराष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य का एक विशेष हिस्सा है जिसकी उपेक्षा नहीं की जा सकती।
भोजपुरी की वैश्विक भूमिका, लोकप्रियता, हिन्‍दी के बढ़ते अन्‍तरराष्ट्रीय महत्त्व तथा अंग्रेज़ी की सार्वदेशिक उपस्थिति के परिप्रेक्ष्य में यह त्रिभाषी 'भोजपुरी-हिन्‍दी-अंग्रेज़ी शब्दकोश’ निश्चित रूप से कोशकला का एक अनुपम प्रमाण सिद्ध होगा। विस्मृति के गर्भ में चले गए शब्दों को पुनर्जीवित करने का प्रयत्न यहाँ नहीं किया गया है और फूहड़, एकांगी और विवादास्पद शब्दों से परहेज़ करके कोश को भारी-भरकम और बोझिल होने से बचाया गया है।
आशा है पाठकों को यह शब्दकोश उपयोगी लगेगा। Hin‍di bhasha par vichar karte samay hum uski sahbhashaon ke avdan ko nahin bhula sakte, kyonki hin‍di ki asli shakti uski tadbhav sam‍pada mein hai. In tadbhvon ka ek bada srot uski sahbhashayen aur boliyan hain. In janapdiy bhashaon mein rache sahitya ne bhakti aan‍dolan aur desh ke svtantrta-sangram mein vishesh yogdan kiya tha. Ye kahna atishyokti nahin hogi ki tulsi, kabir, sur, raidas, mira jaisi vibhutiyon ko lekar hi hin‍di ‘hin‍di’ hai. Ye sabhi mahan rachnakar apni rachnayen hin‍di ki sahbhashaon avdhi, braj, bhojapuri aur rajasthani mein rach rahe the. Is tathya ki sarthakta hetu janapdiy bhashaon ke shabdkoshon ki aavashyakta svyansiddh hai.
Aupcharik bhasha ke rup mein aaj khadi boli hin‍di hi adhik prachlit ho rahi hai, isaliye janapdiy bhashayen atirikt dhyan ki apeksha karti hain. Aaj nagrikran aur vaishvikran se sab kuchh eksar hua ja raha hai aur bhashaon ki vividhta par khatra mandrane laga hai. Aise mein hin‍di bhasha ka dayitv badh jata hai.
Bhojapuri bharat ke uttar prdesh aur bihar kshetr mein prachlit ek jivan‍ta bhasha hai. Saath hi marishas, surinam, trinidad, guyana, fa‍iji aadi deshon mein bharatvanshiyon ke bich bhi bhojapuri ka pryog prachlit hai. Is tarah bhojapuri hin‍di ke an‍tarrashtriy pariprekshya ka ek vishesh hissa hai jiski upeksha nahin ki ja sakti.
Bhojapuri ki vaishvik bhumika, lokapriyta, hin‍di ke badhte an‍tarrashtriy mahattv tatha angrezi ki sarvdeshik upasthiti ke pariprekshya mein ye tribhashi bhojapuri-hin‍di-angrezi shabdkosh’ nishchit rup se koshakla ka ek anupam prman siddh hoga. Vismriti ke garbh mein chale ge shabdon ko punarjivit karne ka pryatn yahan nahin kiya gaya hai aur phuhad, ekangi aur vivadaspad shabdon se parhez karke kosh ko bhari-bharkam aur bojhil hone se bachaya gaya hai.
Aasha hai pathkon ko ye shabdkosh upyogi lagega.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products