BackBack
-11%

Bhasha Ka Samajshastra

Rs. 350 Rs. 312

वेदों में ‘मनुष्य’ और ‘मानुष’ एक साथ कैसे चलते हैं? कौन किसका अपभ्रंश है? अगर मनुष्य में षष्ठी विभक्ति है तो मानुष में कौन-सी विभक्ति है जिसके बलबूते पहले की व्युत्पत्ति मनु की सन्तति की जाती है? वैदिक ‘मान’ का अर्थ है घर, जो घर में रहता है, वह ‘मानुष’... Read More

BlackBlack
Description

वेदों में ‘मनुष्य’ और ‘मानुष’ एक साथ कैसे चलते हैं? कौन किसका अपभ्रंश है? अगर मनुष्य में षष्ठी विभक्ति है तो मानुष में कौन-सी विभक्ति है जिसके बलबूते पहले की व्युत्पत्ति मनु की सन्तति की जाती है? वैदिक ‘मान’ का अर्थ है घर, जो घर में रहता है, वह ‘मानुष’ है और जो वन में रहता है, वह ‘वनमानुष’ है; इसीलिए ‘वनमनुष्य’ पद नहीं चलता है। हिन्दी भाषी क्षेत्र की लोकबोलियों में मानुस शब्द चलता है, मनुष्य नहीं। इसलिए यह दावा करना कि लोकबोलियों के सभी शब्द संस्कृत के अपभ्रंश हैं, ग़लत होगा। भोजपुरी में जानवरों की माँद को आज भी मान/मनान कहा जाता है। लोकबोलियों में मनुष्य को ‘मनई’ भी कहा जाता है यानी मान (घर) में रहनेवाला जैसे कि मान (घर) में रहनेवाले को खड़ी बोली में ‘मानव’ कहा जाता है। ‘मान’ का क्रियामूल ‘मा’ है जिसका अर्थ होता है—निर्माण करना। यह क्रियामूल मठ, मण्डप, मन्दिर, माँद, मान, मनान, माड़ो—सभी में मौजूद है। ‘मानुष’ तत्सम है, ‘मनुष्य’ तद्भव है।
संस्कृत में बहुत सारे शब्द मिलेंगे जो लोकबोलियों के आधार पर गढ़े गए हैं परन्तु ग़लती से उसे तत्सम मान लिया जाता है। कारण कि हमारी भाषावैज्ञानिक स्थापना रही है कि संस्कृत पुरानी भाषा है, इसलिए लोकबोलियों के शब्द तद्भव हैं जबकि संस्कृत का पहला लम्बा अभिलेख 150 ई. में पश्चिमी भारत के जूनागढ़ से मिलता है। प्राकृत के अभिलेख भारत में सबसे पुराने हैं। वैदिक भाषा पुरानी है, वैदिक संस्कृति भी पुरानी है तब इस तथ्य की भी पड़ताल की जानी चाहिए कि वैदिक युग के तथाकथित सोने के सिक्के ‘निष्क’ कहाँ गए जबकि धातु के सिक्के सबसे पहले गौतम बुद्ध के युग में मिलते हैं।
भाषा का समाजशास्त्र इस बात का जवाब देगा कि मागधी प्राकृत के साथ संस्कृत के आचार्यों ने दोयम दर्जे का व्यवहार क्यों किया है। Vedon mein ‘manushya’ aur ‘manush’ ek saath kaise chalte hain? kaun kiska apabhransh hai? agar manushya mein shashthi vibhakti hai to manush mein kaun-si vibhakti hai jiske balbute pahle ki vyutpatti manu ki santati ki jati hai? vaidik ‘man’ ka arth hai ghar, jo ghar mein rahta hai, vah ‘manush’ hai aur jo van mein rahta hai, vah ‘vanmanush’ hai; isiliye ‘vanamnushya’ pad nahin chalta hai. Hindi bhashi kshetr ki lokboliyon mein manus shabd chalta hai, manushya nahin. Isaliye ye dava karna ki lokboliyon ke sabhi shabd sanskrit ke apabhransh hain, galat hoga. Bhojapuri mein janavron ki mand ko aaj bhi man/manan kaha jata hai. Lokboliyon mein manushya ko ‘manii’ bhi kaha jata hai yani maan (ghar) mein rahnevala jaise ki maan (ghar) mein rahnevale ko khadi boli mein ‘manav’ kaha jata hai. ‘man’ ka kriyamul ‘ma’ hai jiska arth hota hai—nirman karna. Ye kriyamul math, mandap, mandir, mand, maan, manan, mado—sabhi mein maujud hai. ‘manush’ tatsam hai, ‘manushya’ tadbhav hai. Sanskrit mein bahut sare shabd milenge jo lokboliyon ke aadhar par gadhe ge hain parantu galti se use tatsam maan liya jata hai. Karan ki hamari bhashavaigyanik sthapna rahi hai ki sanskrit purani bhasha hai, isaliye lokboliyon ke shabd tadbhav hain jabaki sanskrit ka pahla lamba abhilekh 150 ii. Mein pashchimi bharat ke junagadh se milta hai. Prakrit ke abhilekh bharat mein sabse purane hain. Vaidik bhasha purani hai, vaidik sanskriti bhi purani hai tab is tathya ki bhi padtal ki jani chahiye ki vaidik yug ke tathakthit sone ke sikke ‘nishk’ kahan ge jabaki dhatu ke sikke sabse pahle gautam buddh ke yug mein milte hain.
Bhasha ka samajshastr is baat ka javab dega ki magdhi prakrit ke saath sanskrit ke aacharyon ne doyam darje ka vyavhar kyon kiya hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year