Bachchan Rachanawali : Vols. 1-11

Regular price Rs. 4,185
Sale price Rs. 4,185 Regular price Rs. 4,500
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Bachchan Rachanawali : Vols. 1-11

Bachchan Rachanawali : Vols. 1-11

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

बच्चन रचनावली (11 खंड) खंड 1 हिन्दी कविता का एक दौर वह भी था जब हिन्दीभाषी समाज को जीवन के गंभीर पक्ष में पर्याप्त आस्था थी, और कविता भी अपने पाठक-श्रोता की समझ पर भरोसा करते हुए, संवाद को अपना ध्येय मानकर आगे बढ़ रही थी। मनोरंजक कविता और गंभीर कविता का कोई विभाजन नहीं था; न मनोरंजन के नाम पर शब्दकारों-कलाकारों आदि के बीच जनसाधारण की कुरुचि और अशिक्षा का दोहन करने की वह होड़ थी जिसके आज न जाने कितने रूप हमारे सामने हैं, और न कविता में इस सबसे बचने की कोशिश में जन-संवाद से बचने की प्रवृत्ति। हरिवंश राय बच्चन उसी काव्य-युग के सितारा कवि रहे हैं। उन्होंने न सिर्फ मंच से अपने पाठकों-श्रोताओं से संवाद किया बल्कि लोकप्रियता के कीर्तिमान गढ़े। कविता की शर्तों और कवि-रूप में अपने युग-धर्म का निर्वाह भी किया और जन से भी जुड़े रहे। यह रचनावली उनके अवदान की यथासम्भव समग्र प्रस्तुति है। रचनावली के इस नए संस्करण में 1983 में प्रकाशित नौ खंड बढ़कर अब ग्यारह हो गए हैं। रचनावली के प्रकाशन के बाद एक स्वतंत्र पुस्तक के रूप में आया बच्चन जी की आत्मकथा का चौथा भाग खंड दस में और पत्रों समेत कुछ अन्य सामग्री खंड ग्यारह में ली गई है। खंड 2बच्चन रचनावली के दूसरे खंड में निम्नलिखित रचनाएँ क्रमानुसार संगृहीत हैं : 'मिलन यामिनी’ (1950), 'प्रणय पत्रिका’ (1955), 'धार के इधर-उधर’ (1957), 'आरती और अंगारे’ (1958), 'बुद्ध और नाचघर’ (1958), 'त्रिभंगिमा’ (1961), 'चार खेमे चौंसठ खूँटे’ (1962)।खंड 3बच्चन रचनावली के इस तीसरे खंड में बच्चनजी की निम्नलिखित रचनाएँ क्रमानुसार संगृहीत हैं : 'दो चट्टानें’ (1965), 'बहुत दिन बीते’ (1967), 'कटती प्रतिमाओं की आवाज’ (1968), 'उभरते प्रतिमानों के रूप’ (1969), 'जाल समेटा’ (1973), 'प्रारम्भिक रचनाएँ भाग 1-2’ (रचनाकाल : 1928-33; प्रकाशन काल : 1943), अतीत की प्रतिध्वनियाँ और मरघट के कुछ पद (रचनाकाल : 1932-33), 'कुछ नवीनतम कविताएँ’ (रचनाकाल : 1973-83)।खंड 4बच्चन रचनावली के इस चौथे खंड में बच्चनजी के द्वारा अनूदित निम्नलिखित काव्य-कृतियाँ क्रमानुसार संगृहीत हैं : 'खैयाम की मधुशाला’ (1935), 'जनगीता’ (1958), 'चौंसठ रूसी कविताएँ’ (1964), 'मरकत द्वीप का स्वर’ (1965), 'नागर गीता’ (1966), 'भाषा अपनी भाव पराये’ (1970), कुछ स्फुट-असंकलित अनुवाद।खंड 5बच्चन रचनावली के इस पाँचवें खंड में बच्चनजी के द्वारा अनूदित शेक्सपियर के चार नाटक निम्न क्रम से संगृहीत हैं : 'मैकबेथ’ (1957), 'ओथेलो’, (1959), 'हैमलेट’ (1969), 'किंगलियर’ (1972)।खंड 6बच्चन रचनावली के इस छठे खंड में बच्चनजी की कुछ गद्य-कृतियों और उनके कुछ स्फुट लेखन को इस क्रम में प्रस्तुत किया गया है : 'कवियों में सौम्य सन्त’ (1960), 'नये-पुराने झरोखे’, (1962), 'टूटी-छूटी कड़ियाँ’ (1973), 'सोपान’ आदि संकलनों—संचयनों की भूमिकाएँ और कुछ असंकलित लेख।खंड 7बच्चन रचनावली के इस सातवें खंड में बच्चनजी की आत्मकथा के प्रथम दो भाग प्रस्तुत किए जा रहे हैं : 'क्या भूलूँ क्या याद करूँ’ (1969), 'नीड़ का निर्माण फिर’ (1970)।खंड 8बच्चन रचनावली के इस आठवें खंड में आत्मकथा का तीसरा भाग 'बसेरे से दूर’ (1977) और उनकी डायरी 'प्रवास की डायरी’ (1971) प्रस्तुत की जा रही है।खंड 9बच्चन रचनावली के इस नवें खंड में बच्चनजी का विविध लेखन निम्न क्रम में संगृहीत है : वार्ताएँ, साक्षात्कार, पुस्तक-समीक्षाएँ, कहानियाँ, बच्चों के लिए लिखी कविताएँ और पत्र।खंड 10बच्चन रचनावली के इस दसवें खंड में बच्चनजी की आत्मकथा का वह अन्तिम चौथा भाग संकलित किया गया है जो अभी तक 'दशद्वार’ से 'सोपान तक’ शीर्षक से स्वतंत्र रूप में उपलब्ध था। आत्मकथा के पहले तीन भाग 'क्या भूलूँ क्या याद करूँ’, 'नीड़ का निर्माण फिर’ और 'बसेरे से दूर’ रचनावली के सातवें-आठवें खंडों में पहले से ही संकलित हैं।खंड 11बच्चन रचनावली का यह संस्करण इस खंड के साथ पूर्ण होता है। इस खंड में उनकी कुछ असंकलित कविताओं, एक साक्षात्कार, एक भाषण और एक भूमिका के अतिरिक्त मुख्यत: उनके पत्र हैं। बच्चनजी ने अपने जीवन में इतने अधिक पत्र लिखे थे, जो यदि एकत्र हो सकते तो बीस-पच्चीस मोटे खंडों में समाते। उन्होंने स्वयं कम-से-कम 50 हज़ार पत्र लिखने की बात स्वीकार की है। Bachchan rachnavli (11 khand) khand 1 hindi kavita ka ek daur vah bhi tha jab hindibhashi samaj ko jivan ke gambhir paksh mein paryapt aastha thi, aur kavita bhi apne pathak-shrota ki samajh par bharosa karte hue, sanvad ko apna dhyey mankar aage badh rahi thi. Manoranjak kavita aur gambhir kavita ka koi vibhajan nahin tha; na manoranjan ke naam par shabdkaron-kalakaron aadi ke bich jansadharan ki kuruchi aur ashiksha ka dohan karne ki vah hod thi jiske aaj na jane kitne rup hamare samne hain, aur na kavita mein is sabse bachne ki koshish mein jan-sanvad se bachne ki prvritti. Harivansh raay bachchan usi kavya-yug ke sitara kavi rahe hain. Unhonne na sirph manch se apne pathkon-shrotaon se sanvad kiya balki lokapriyta ke kirtiman gadhe. Kavita ki sharton aur kavi-rup mein apne yug-dharm ka nirvah bhi kiya aur jan se bhi jude rahe. Ye rachnavli unke avdan ki yathasambhav samagr prastuti hai. Rachnavli ke is ne sanskran mein 1983 mein prkashit nau khand badhkar ab gyarah ho ge hain. Rachnavli ke prkashan ke baad ek svtantr pustak ke rup mein aaya bachchan ji ki aatmaktha ka chautha bhag khand das mein aur patron samet kuchh anya samagri khand gyarah mein li gai hai. Khand 2bachchan rachnavli ke dusre khand mein nimnalikhit rachnayen krmanusar sangrihit hain : milan yamini’ (1950), prnay patrika’ (1955), dhar ke idhar-udhar’ (1957), arti aur angare’ (1958), buddh aur nachghar’ (1958), tribhangima’ (1961), char kheme chaunsath khunte’ (1962). Khand 3bachchan rachnavli ke is tisre khand mein bachchanji ki nimnalikhit rachnayen krmanusar sangrihit hain : do chattanen’ (1965), bahut din bite’ (1967), katti pratimaon ki aavaj’ (1968), ubharte pratimanon ke rup’ (1969), jal sameta’ (1973), prarambhik rachnayen bhag 1-2’ (rachnakal : 1928-33; prkashan kaal : 1943), atit ki prtidhvaniyan aur marghat ke kuchh pad (rachnakal : 1932-33), kuchh navintam kavitayen’ (rachnakal : 1973-83). Khand 4bachchan rachnavli ke is chauthe khand mein bachchanji ke dvara anudit nimnalikhit kavya-kritiyan krmanusar sangrihit hain : khaiyam ki madhushala’ (1935), jangita’ (1958), chaunsath rusi kavitayen’ (1964), markat dvip ka svar’ (1965), nagar gita’ (1966), bhasha apni bhav paraye’ (1970), kuchh sphut-asanklit anuvad. Khand 5bachchan rachnavli ke is panchaven khand mein bachchanji ke dvara anudit sheksapiyar ke char natak nimn kram se sangrihit hain : maikbeth’ (1957), othelo’, (1959), haimlet’ (1969), kingaliyar’ (1972). Khand 6bachchan rachnavli ke is chhathe khand mein bachchanji ki kuchh gadya-kritiyon aur unke kuchh sphut lekhan ko is kram mein prastut kiya gaya hai : kaviyon mein saumya sant’ (1960), naye-purane jharokhe’, (1962), tuti-chhuti kadiyan’ (1973), sopan’ aadi sankalnon—sanchaynon ki bhumikayen aur kuchh asanklit lekh. Khand 7bachchan rachnavli ke is satven khand mein bachchanji ki aatmaktha ke prtham do bhag prastut kiye ja rahe hain : kya bhulun kya yaad karun’ (1969), nid ka nirman phir’ (1970). Khand 8bachchan rachnavli ke is aathven khand mein aatmaktha ka tisra bhag basere se dur’ (1977) aur unki dayri prvas ki dayri’ (1971) prastut ki ja rahi hai. Khand 9bachchan rachnavli ke is naven khand mein bachchanji ka vividh lekhan nimn kram mein sangrihit hai : vartayen, sakshatkar, pustak-samikshayen, kahaniyan, bachchon ke liye likhi kavitayen aur patr. Khand 10bachchan rachnavli ke is dasven khand mein bachchanji ki aatmaktha ka vah antim chautha bhag sanklit kiya gaya hai jo abhi tak dashadvar’ se sopan tak’ shirshak se svtantr rup mein uplabdh tha. Aatmaktha ke pahle tin bhag kya bhulun kya yaad karun’, nid ka nirman phir’ aur basere se dur’ rachnavli ke satven-athven khandon mein pahle se hi sanklit hain. Khand 11bachchan rachnavli ka ye sanskran is khand ke saath purn hota hai. Is khand mein unki kuchh asanklit kavitaon, ek sakshatkar, ek bhashan aur ek bhumika ke atirikt mukhyat: unke patr hain. Bachchanji ne apne jivan mein itne adhik patr likhe the, jo yadi ekatr ho sakte to bis-pachchis mote khandon mein samate. Unhonne svayan kam-se-kam 50 hazar patr likhne ki baat svikar ki hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Based on 1 review
0%
(0)
100%
(1)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
A
Arisudan Yadav
किताबें बहुत अच्छी हैं

ये तो संग्रह करने लायक किताबें हैं और Rekhta ने काफी अच्छी तरह से deliver भी किया किंतु एक किताब खराब और फटी हुई मिली, mail करने पर भी Rekhta से कोई जवाब नहीं आया, ये बात निराशाजनक है

Related Products

Recently Viewed Products