BackBack
-11%

Asthi Phool

Rs. 250 Rs. 223

यह उपन्यास आन्दोलन और स्त्री के बिकने के बारे में है। झारखंड की राजनीतिक-सामाजिक पृष्ठभूमि में जंगल और ज़मीन के सरोकारों को रेखांकित करते हुए अल्पना मिश्र यहाँ उन स्त्रियों की पीड़ा का बखान कर रही हैं जिन्हें हरियाणा जैसे सम्पन्न इलाक़ों में, जहाँ पुरुषों के मुक़ाबले स्त्रियों की संख्या... Read More

BlackBlack
Description

यह उपन्यास आन्दोलन और स्त्री के बिकने के बारे में है। झारखंड की राजनीतिक-सामाजिक पृष्ठभूमि में जंगल और ज़मीन के सरोकारों को रेखांकित करते हुए अल्पना मिश्र यहाँ उन स्त्रियों की पीड़ा का बखान कर रही हैं जिन्हें हरियाणा जैसे सम्पन्न इलाक़ों में, जहाँ पुरुषों के मुक़ाबले स्त्रियों की संख्या बहुत कम हो गई है, बेच दिया जाता है। उनका भी इस्तेमाल यहाँ पुरुषों की उत्पत्ति के लिए ही किया जाता है, गर्भ में लडक़ी हो तो उससे पैदा होने से पहले ही निजात पा ली जाती है। अपने गर्भ पर स्त्री का कोई अधिकार नहीं, ठीक वैसे ही जैसे आदिवासियों को उनके उन जंगलों की सम्पदा पर कोई अधिकार नहीं, जिन्हें वे जाने कितनी पीढ़ियों से अपना घर मानते आए हैं। स्त्री-गर्भ यहाँ पृथ्वी के भीतर छिपी खनिज सम्पदा के दोहन का रूपक बनकर आता है। उपन्यास में उस राजनीति को भी बेनक़ाब किया गया है जो आदिवासी-अधिकारों की पैरवी के बहाने अपनी जड़ें फैलाने पर लगी है। यह पूर्णतया राजनीतिक-सामाजिक उपन्यास है, और वह भी एक महिला कथाकार की संवेदनशील क़लम से उतरा हुआ। उपन्यास में उस परिवेश को भी पकड़ने की कोशिश की गई है जहाँ दूसरे पात्र अपने जीने का संघर्ष कर रहे हैं। वहाँ की शब्दावली, भाषा-भंगिमा और लोकगीतों के प्रयोग से कथा का ताना-बाना विशेष प्रामाणिकता हासिल कर लेता है।
अल्पना मिश्र ने अपने अभी तक के लेखन से आलोचकों और पाठकों के बीच अपनी एक विशिष्ट जगह बनाई है, यह कृति उसे एक और आयाम तथा एक रचनात्मक उछाल देती है। Ye upanyas aandolan aur stri ke bikne ke bare mein hai. Jharkhand ki rajnitik-samajik prishthbhumi mein jangal aur zamin ke sarokaron ko rekhankit karte hue alpna mishr yahan un striyon ki pida ka bakhan kar rahi hain jinhen hariyana jaise sampann ilaqon mein, jahan purushon ke muqable striyon ki sankhya bahut kam ho gai hai, bech diya jata hai. Unka bhi istemal yahan purushon ki utpatti ke liye hi kiya jata hai, garbh mein ladqi ho to usse paida hone se pahle hi nijat pa li jati hai. Apne garbh par stri ka koi adhikar nahin, thik vaise hi jaise aadivasiyon ko unke un janglon ki sampda par koi adhikar nahin, jinhen ve jane kitni pidhiyon se apna ghar mante aae hain. Stri-garbh yahan prithvi ke bhitar chhipi khanij sampda ke dohan ka rupak bankar aata hai. Upanyas mein us rajniti ko bhi benqab kiya gaya hai jo aadivasi-adhikaron ki pairvi ke bahane apni jaden phailane par lagi hai. Ye purnatya rajnitik-samajik upanyas hai, aur vah bhi ek mahila kathakar ki sanvedanshil qalam se utra hua. Upanyas mein us parivesh ko bhi pakadne ki koshish ki gai hai jahan dusre patr apne jine ka sangharsh kar rahe hain. Vahan ki shabdavli, bhasha-bhangima aur lokgiton ke pryog se katha ka tana-bana vishesh pramanikta hasil kar leta hai. Alpna mishr ne apne abhi tak ke lekhan se aalochkon aur pathkon ke bich apni ek vishisht jagah banai hai, ye kriti use ek aur aayam tatha ek rachnatmak uchhal deti hai.