BackBack
-11%

Achhoot

Rs. 199 Rs. 177

‘अछूत’ मराठी के दलित लेखक दया पवार का बहुचर्चित आत्मकथात्मक उपन्यास है, जो पाठकों को न केवल एक अनबूझी दुनिया में अपने साथ ले चलता है, बल्कि लेखन की नई ऊँचाई से भी परिचित कराता है। कथाकार दया पवार इस रचना के पात्र तथा भोक्ता दोनों ही हैं। इस उपन्यास... Read More

BlackBlack
Description

‘अछूत’ मराठी के दलित लेखक दया पवार का बहुचर्चित आत्मकथात्मक उपन्यास है, जो पाठकों को न केवल एक अनबूझी दुनिया में अपने साथ ले चलता है, बल्कि लेखन की नई ऊँचाई से भी परिचित कराता है।
कथाकार दया पवार इस रचना के पात्र तथा भोक्ता दोनों ही हैं। इस उपन्यास में पिछड़ी जाति में जन्मे एक व्यक्ति की पीड़ाओं का द्रवित कर देनेवाला किस्सा-भर नहीं है, महाराष्ट्र की महार जाति का झकझोर देनेवाला अंदरूनी नक़्शा है।
कथाकार ने छुटपन से वयस्क होने की संघर्ष-यात्राओं को बड़ी बारीकी से लेखनीबद्ध किया है। उसकी दृष्टि उन मार्मिक स्थलों पर अत्यन्त संवेदनशील हो जाती है, जो आभिजात्य तथा वादपरक आग्रहों के कारण उपेक्षित कर दिए जाते रहे हैं। यही कारण है कि इस रचना में वर्णित पिता मज़बूत इंसान, समर्पित कलाकार, पिसता हुआ गोदी मज़दूर और ओछा-चोट्टा सभी एक साथ हैं। माँ अत्यन्त अपमानजनक स्थितियों को नकारते हुए भी सभी कुछ को अनदेखा कर देती है। मित्रों, पड़ोसियों और आर्थिक दृष्टि से विपन्न लोगों का जीवन कठोर होते हुए भी अत्यन्त रस-रंग भरा है। राजनीति में ह्रास का वातावरण मौजूद रहते हुए भी उसकी सार्थक भूमिका खोजी जा रही है।
‘अछूत’ साधारण लोगों की असाधारण गाथा है। आद्यन्त पठनीय तथा मन को भीतर तक छू लेनेवाली रचना। ‘achhut’ marathi ke dalit lekhak daya pavar ka bahucharchit aatmakthatmak upanyas hai, jo pathkon ko na keval ek anbujhi duniya mein apne saath le chalta hai, balki lekhan ki nai uunchai se bhi parichit karata hai. Kathakar daya pavar is rachna ke patr tatha bhokta donon hi hain. Is upanyas mein pichhdi jati mein janme ek vyakti ki pidaon ka drvit kar denevala kissa-bhar nahin hai, maharashtr ki mahar jati ka jhakjhor denevala andruni naksha hai.
Kathakar ne chhutpan se vayask hone ki sangharsh-yatraon ko badi bariki se lekhnibaddh kiya hai. Uski drishti un marmik sthlon par atyant sanvedanshil ho jati hai, jo aabhijatya tatha vadaprak aagrhon ke karan upekshit kar diye jate rahe hain. Yahi karan hai ki is rachna mein varnit pita mazbut insan, samarpit kalakar, pista hua godi mazdur aur ochha-chotta sabhi ek saath hain. Man atyant apmanajnak sthitiyon ko nakarte hue bhi sabhi kuchh ko andekha kar deti hai. Mitron, padosiyon aur aarthik drishti se vipann logon ka jivan kathor hote hue bhi atyant ras-rang bhara hai. Rajniti mein hras ka vatavran maujud rahte hue bhi uski sarthak bhumika khoji ja rahi hai.
‘achhut’ sadharan logon ki asadharan gatha hai. Aadyant pathniy tatha man ko bhitar tak chhu lenevali rachna.