BackBack
-11%

Aapeshikta Siddhant Kya Hai

Rs. 250 Rs. 223

महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टाइन (1879-1955 ई.) द्वारा प्रतिपादित आपेक्षिकता-सिद्धान्‍त को वैज्ञानिक चिन्‍तन की दुनिया में एक क्रान्तिकारी खोज की तरह देखा जाता है। इस सिद्धान्त ने विश्व की वास्तविकता को समझने के लिए एक नया साधन तो प्रस्तुत किया ही है, मानव चिन्तन को भी गहराई से प्रभावित किया है।... Read More

BlackBlack
Description

महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टाइन (1879-1955 ई.) द्वारा प्रतिपादित आपेक्षिकता-सिद्धान्‍त को वैज्ञानिक चिन्‍तन की दुनिया में एक क्रान्तिकारी खोज की तरह देखा जाता है। इस सिद्धान्त ने विश्व की वास्तविकता को समझने के लिए एक नया साधन तो प्रस्तुत किया ही है, मानव चिन्तन को भी गहराई से प्रभावित किया है। अब द्रव्य, गति, आकाश और काल के स्वरूप को नए नज़रिए से देखा जा रहा है। सन् 1905 में ‘विशिष्ट आपेक्षिकता’ का पहली बार प्रकाशन हुआ, तो इसे बहुत कम वैज्ञानिक समझ पाए थे, इसके बहुत-से निष्कर्ष पहेली जैसे प्रतीत होते थे। आज भी इसे एक ‘क्लिष्ट’ सिद्धान्त माना जाता है। लेकिन इस पुस्तक में आपेक्षिकता के सिद्धान्त को, गणितीय सूत्रों का उपयोग किए बिना, इस तरह प्रस्तुत किया गया है कि इसकी महत्त्वपूर्ण बातों को सामान्य पाठक भी समझ सकते हैं। संसार की कई प्रमुख भाषाओं में अनूदित इस पुस्तक के लेखक हैं, ‘नोबेल पुरस्कार’ विजेता प्रख्यात भौतिकवेत्ता लेव लांदाऊ और उनके सहयोगी यूरी रूमेर। परिशिष्ट में इनका जीवन-परिचय भी दिया गया है। इतिहास-पुरातत्त्व और वैज्ञानिक विषयों के सुविख्यात लेखक गुणाकर मुळे ने सरल भाषा में इस पुस्तक का अनुवाद किया है। कई वैज्ञानिक शब्दों और कथनों को स्पष्ट करने के लिए अनुवादक ने पाद-टिप्पणियाँ भी दी हैं। साथ ही, परिशिष्ट में ‘विशिष्ट शब्दावली’ तथा ‘पारिभाषिक शब्दावली’ के अलावा अल्बर्ट आइंस्टाइन की संक्षिप्त जीवनी भी जोड़ी गई है, चित्रों सहित। हिन्‍दी माध्यम से ज्ञान-विज्ञान का अध्ययन करनेवाले पाठकों के लिए आपेक्षिकता सिद्धान्त के शताब्दी वर्ष में यह पुस्तक एक अनमोल उपहार की तरह है। Mahan vaigyanik albart aainstain (1879-1955 ii. ) dvara pratipadit aapekshikta-siddhan‍ta ko vaigyanik chin‍tan ki duniya mein ek krantikari khoj ki tarah dekha jata hai. Is siddhant ne vishv ki vastavikta ko samajhne ke liye ek naya sadhan to prastut kiya hi hai, manav chintan ko bhi gahrai se prbhavit kiya hai. Ab dravya, gati, aakash aur kaal ke svrup ko ne nazariye se dekha ja raha hai. San 1905 mein ‘vishisht aapekshikta’ ka pahli baar prkashan hua, to ise bahut kam vaigyanik samajh paye the, iske bahut-se nishkarsh paheli jaise prtit hote the. Aaj bhi ise ek ‘klisht’ siddhant mana jata hai. Lekin is pustak mein aapekshikta ke siddhant ko, ganitiy sutron ka upyog kiye bina, is tarah prastut kiya gaya hai ki iski mahattvpurn baton ko samanya pathak bhi samajh sakte hain. Sansar ki kai prmukh bhashaon mein anudit is pustak ke lekhak hain, ‘nobel puraskar’ vijeta prakhyat bhautikvetta lev landau aur unke sahyogi yuri rumer. Parishisht mein inka jivan-parichay bhi diya gaya hai. Itihas-puratattv aur vaigyanik vishyon ke suvikhyat lekhak gunakar muळe ne saral bhasha mein is pustak ka anuvad kiya hai. Kai vaigyanik shabdon aur kathnon ko spasht karne ke liye anuvadak ne pad-tippaniyan bhi di hain. Saath hi, parishisht mein ‘vishisht shabdavli’ tatha ‘paribhashik shabdavli’ ke alava albart aainstain ki sankshipt jivni bhi jodi gai hai, chitron sahit. Hin‍di madhyam se gyan-vigyan ka adhyyan karnevale pathkon ke liye aapekshikta siddhant ke shatabdi varsh mein ye pustak ek anmol uphar ki tarah hai.