BackBack
-11%

Aag Har Cheej Mein Batai Gayi Thi

Chandrakant Devtale

Rs. 450 Rs. 401

Rajkamal Prakashan

‘आग हर चीज़ में बताई गई थी’ चन्द्रकान्त देवताले की कविताओं का एक ऐसा संग्रह है जिसमें प्रयुक्त शब्द, कठिन दुनिया को भाषा में खोलते और रचते हुए निरन्तर एक प्रश्न अपने आप से भी करते हैं कि एक हिंसक और मनुष्य विरोधी समाज में कविता कौन सा मिथ रच... Read More

Description

‘आग हर चीज़ में बताई गई थी’ चन्द्रकान्त देवताले की कविताओं का एक ऐसा संग्रह है जिसमें प्रयुक्त शब्द, कठिन दुनिया को भाषा में खोलते और रचते हुए निरन्तर एक प्रश्न अपने आप से भी करते हैं कि एक हिंसक और मनुष्य विरोधी समाज में कविता कौन सा मिथ रच सकती है। ‘आग हर चीज़ में बताई गई थी’ में संकलित कविताएँ दुनिया का भयावह किन्तु चमकदार काव्यभाष्य प्रस्तुत करती हैं। ये कविताएँ अपने समय की व्याख्या भी करती हैं और पहले लिखी गई कविताओं की परम्परा में शामिल भी होती हैं। यह चन्द्रकान्त देवताले की फ़नकारी और भाषा कौशल का कमाल ही है कि इस संग्रह की कविताओं में बीसवीं सदी के अन्तिम वर्षों में आन्दोलित होती दुनिया में मनुष्य की स्थिति, उसकी पीड़ा और व्यथा का अक्स समग्रता में बिम्बित हुआ है। संग्रह की कविताएँ शब्दों की पवित्रता के बारे में विचार करती हैं और हमारे समय के अनेक मिथकों को तोड़ती भी हैं। इन कविताओं में विकट और दारुण सच्चाइयों की अवमानना के बजाय उनसे एक चुनौतीपूर्ण सम्बन्ध बनता है, जहाँ वर्तमान समय के अँधेरे अन्तरंग कोनों को प्रकाशित होते हुए देखा जा सकता है। चन्द्रकान्त देवताले इन कविताओं में किसी अन्तिम सत्य की कामना से दृश्य-यथार्थ के जटिल और अपरिहार्य ब्योरों को झूठ मानकर त्यागते नहीं, बल्कि उनका एक विलक्षण और अनिवार्य काव्य-नाटकीय रूपान्तर करते हैं जिससे ‘आग हर चीज़ में बताई गई थी’ की कविताएँ झूठे बिम्बों में ख़र्च नहीं होतीं, बल्कि अपने समय की सच्चाइयों को एक सम्पूर्णता में प्रतिबिम्बित करती हैं। ‘aag har chiz mein batai gai thi’ chandrkant devtale ki kavitaon ka ek aisa sangrah hai jismen pryukt shabd, kathin duniya ko bhasha mein kholte aur rachte hue nirantar ek prashn apne aap se bhi karte hain ki ek hinsak aur manushya virodhi samaj mein kavita kaun sa mith rach sakti hai. ‘aag har chiz mein batai gai thi’ mein sanklit kavitayen duniya ka bhayavah kintu chamakdar kavybhashya prastut karti hain. Ye kavitayen apne samay ki vyakhya bhi karti hain aur pahle likhi gai kavitaon ki parampra mein shamil bhi hoti hain. Ye chandrkant devtale ki fankari aur bhasha kaushal ka kamal hi hai ki is sangrah ki kavitaon mein bisvin sadi ke antim varshon mein aandolit hoti duniya mein manushya ki sthiti, uski pida aur vytha ka aks samagrta mein bimbit hua hai. Sangrah ki kavitayen shabdon ki pavitrta ke bare mein vichar karti hain aur hamare samay ke anek mithkon ko todti bhi hain. In kavitaon mein vikat aur darun sachchaiyon ki avmanna ke bajay unse ek chunautipurn sambandh banta hai, jahan vartman samay ke andhere antrang konon ko prkashit hote hue dekha ja sakta hai. Chandrkant devtale in kavitaon mein kisi antim satya ki kamna se drishya-yatharth ke jatil aur apariharya byoron ko jhuth mankar tyagte nahin, balki unka ek vilakshan aur anivarya kavya-natkiy rupantar karte hain jisse ‘aag har chiz mein batai gai thi’ ki kavitayen jhuthe bimbon mein kharch nahin hotin, balki apne samay ki sachchaiyon ko ek sampurnta mein pratibimbit karti hain.