Teen Upanyas

Regular price Rs. 181
Sale price Rs. 181 Regular price Rs. 195
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Teen Upanyas

Teen Upanyas

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘अगले जनम मोहे बिटिया न कीजो’ मामूली नाचने-गानेवाली दो बहनों की कहानी है जो बार-बार मर्दों के छलावों का शिकार होती हैं। फिर भी यह उपन्यास जागीरदार घराने के आर्थिक ही नहीं, भावनात्मक खोखलेपन को भी जिस तरह उभारकर सामने लाता है, उसकी मिसाल उर्दू साहित्य में मिलना कठिन है। एक जागीरदार घराने के आग़ा फ़रहाद बकौल ख़ुद पच्चीस साल के बाद भी रश्के-क़मर को भूल नहीं पाते और हालात का सितम यह कि उसके लिए बन्दोबस्त करते हैं तो कुछेक ग़ज़लों का ताकि “अगर तुम वापस आओ और मुशायरों में मदऊ (आमंत्रित) किया जाए तो ये ग़ज़लें तुम्हारे काम आएँगी।” आख़िर सब कुछ लुटने के बाद रश्के-क़मर के पास बचता है तो बस यही कि “कुर्तों की तुरपाई फ़ी कुर्ता दस पैसे...” जहाँ उपन्यास का शीर्षक ही हमारे समाज में औरत के हालात पर एक गहरी चोट है, वहीं रश्के-क़मर की छोटी, अपंग बहन जमीलुन्निसा का चरित्र, उसका धीरज, उसका व्यक्तियों को पहचानने का गुण और हालात का सामना करने का हौसला मन को सराबोर भी कर जाता है।
खोखलापन और दिखावा-जागीरदार तबक़े की इस त्रासदी को सामने लाने का काम ‘दिलरुबा’ उपन्यास भी करता है। मगर विरोधाभास यह है कि समाज बदल रहा है और यह तबक़ा भी इस बदलाव से अछूता नहीं रह सकता। यहाँ लेखिका ने प्रतीक इस्तेमाल किया है फ़िल्म उद्योग का, जिसके बारे में इस तबक़े की नौजवान पीढ़ी भी उस विरोध-भावना से मुक्त है जो उनके बुज़ुर्गों में पाई जाती थी। मगर उपन्यास का कथानक कितनी पेचीदगी लिए हुए है, इसे स्पष्ट करता है गुलनार बानो का चरित्र—इसी तबक़े की सताई हुई ख़ातून जो अपना बदला लेने के लिए इस तबक़े की एक लड़की को दिलरुबा बनाती है (इस तरह नज़रिए की इस तब्दीली का माध्यम भी बनती है) और ख़ुदा का शुक्रिया अदा करती है कि उसने “एक तवील मुद्दत के बाद मेरे कलेजे में ठंडक डाली।”
तीसरा उपन्यास ‘एक लड़की की ज़िन्दगी’ है जिसे लेखिका की बेहतरीन तख़लीक़ात में गिना जाता है। यहाँ उन्होंने एक रिफ़्यूजी सिन्धी लड़की के ज़रिए पूरे रिफ़्यूजी तबक़े के दुख-दर्द को उभारा है। उस लड़के की किरदार को लेखिका ने इस तरह पेश किया है कि वह अकेली शख़्सियत न रहकर रिफ़्यूजी औरत का नुमाइंदा किरदार बन जाती है।
इस तरह क़ुर्रतुल ऐन हैदर के ये तीनों उपन्यास उनके फ़न के बेहतरीन नमूनों में गिने जा सकते हैं, साथ ही ये पढ़नेवाले के सामने उर्दू फ़िक्शन के तेवर को बड़े ही कारगर ढंग से पेश करते हैं। ‘agle janam mohe bitiya na kijo’ mamuli nachne-ganevali do bahnon ki kahani hai jo bar-bar mardon ke chhalavon ka shikar hoti hain. Phir bhi ye upanyas jagirdar gharane ke aarthik hi nahin, bhavnatmak khokhlepan ko bhi jis tarah ubharkar samne lata hai, uski misal urdu sahitya mein milna kathin hai. Ek jagirdar gharane ke aaga farhad bakaul khud pachchis saal ke baad bhi rashke-qamar ko bhul nahin pate aur halat ka sitam ye ki uske liye bandobast karte hain to kuchhek gazlon ka taki “agar tum vapas aao aur mushayron mein maduu (amantrit) kiya jaye to ye gazlen tumhare kaam aaengi. ” aakhir sab kuchh lutne ke baad rashke-qamar ke paas bachta hai to bas yahi ki “kurton ki turpai fi kurta das paise. . . ” jahan upanyas ka shirshak hi hamare samaj mein aurat ke halat par ek gahri chot hai, vahin rashke-qamar ki chhoti, apang bahan jamilunnisa ka charitr, uska dhiraj, uska vyaktiyon ko pahchanne ka gun aur halat ka samna karne ka hausla man ko sarabor bhi kar jata hai. Khokhlapan aur dikhava-jagirdar tabqe ki is trasdi ko samne lane ka kaam ‘dilaruba’ upanyas bhi karta hai. Magar virodhabhas ye hai ki samaj badal raha hai aur ye tabqa bhi is badlav se achhuta nahin rah sakta. Yahan lekhika ne prtik istemal kiya hai film udyog ka, jiske bare mein is tabqe ki naujvan pidhi bhi us virodh-bhavna se mukt hai jo unke buzurgon mein pai jati thi. Magar upanyas ka kathanak kitni pechidgi liye hue hai, ise spasht karta hai gulnar bano ka charitr—isi tabqe ki satai hui khatun jo apna badla lene ke liye is tabqe ki ek ladki ko dilaruba banati hai (is tarah nazariye ki is tabdili ka madhyam bhi banti hai) aur khuda ka shukriya ada karti hai ki usne “ek tavil muddat ke baad mere kaleje mein thandak dali. ”
Tisra upanyas ‘ek ladki ki zindgi’ hai jise lekhika ki behatrin takhliqat mein gina jata hai. Yahan unhonne ek rifyuji sindhi ladki ke zariye pure rifyuji tabqe ke dukh-dard ko ubhara hai. Us ladke ki kirdar ko lekhika ne is tarah pesh kiya hai ki vah akeli shakhsiyat na rahkar rifyuji aurat ka numainda kirdar ban jati hai.
Is tarah qurrtul ain haidar ke ye tinon upanyas unke fan ke behatrin namunon mein gine ja sakte hain, saath hi ye padhnevale ke samne urdu fikshan ke tevar ko bade hi kargar dhang se pesh karte hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products