Look Inside
Teen Saheliyan Teen Premi
Teen Saheliyan Teen Premi
Teen Saheliyan Teen Premi
Teen Saheliyan Teen Premi

Teen Saheliyan Teen Premi

Regular price Rs. 92
Sale price Rs. 92 Regular price Rs. 99
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Teen Saheliyan Teen Premi

Teen Saheliyan Teen Premi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हो सकता है कि इधर कहानी कि परिभाषा बदल गई हो, लेकिन मेरे हिसाब से एक अच्छी कहानी कि अनिवार्य शर्त उसकी पठनीयता होनी चाहिए। आतंक जगानेवाली शुरुआत कहानी में न हो, वह अपनत्व से बाँधती हो तो मुझे अच्छी लगती है। आकांक्षा की कहानी 'तीन सहेलियाँ तीन प्रेमी' पढ़ना शुरू किया तो मैं पढ़ती चली गई। यह कहानी दिलचस्प संवादों में चली है। उबाऊ वर्णन कहीं है ही नहीं। सम्प्रेषणीयता कहानी के लिए ज़रूरी दूसरी शर्त है। लेखक जो कहना चाह रहा है, वह पाठक तक पहुँच रहा है। इस कहानी के पाठक को बात समझाने के लिए जद्दोजहद नहीं करनी पड़ती। संवादों में बात हम तक पहुँचती है। स्पष्ट हो जाता है कि कहानी कहती क्या है। लेखक क्या कहना चाहता है। एक चीज़ यह भी कि रचनाकार ने कोई महत्वपूर्ण मुददा उठाया है, वह है व्यक्ति या समाज का। आख़िर वह मुददा क्या है। सहज ढंग से, तीन अविवाहित लड़कियों कि कहानी है यह जो तीन विवाहित पुरुषों से प्रेम करती हैं। वहाँ हमें मिलना कुछ नहीं है, यह जानते हुए भी वे उस रास्ते पर जाती हैं। अच्छी बात यह है कि आकांक्षा ने न पुरुषों को बहुत धिक्कारा है, न आँसू बहाए हैं। कहानी सहज-सरल ढंग से चलती है। लड़कियाँ अपनी सीमाएँ जानते हुए भी सेलिब्रेट करती हैं और अन्त में अविवाहित जीवन कि त्रासदी होते हुए भी (त्रासदी मैं कह रही हूँ, कहानी में नहीं है), कहीं यह भाव नहीं है, यह जीवन का यथार्थ है। जो नहीं मिला है, उसे भी सेलिब्रेट करो। आकांक्षा से पहली बार मिलने पर मुझे लगा कि यह लड़की सहज है। फिर एक शहर का होने के नाते निकटता और बढ़ी।
—मन्‍नू भंडारी Ho sakta hai ki idhar kahani ki paribhasha badal gai ho, lekin mere hisab se ek achchhi kahani ki anivarya shart uski pathniyta honi chahiye. Aatank jaganevali shuruat kahani mein na ho, vah apnatv se bandhati ho to mujhe achchhi lagti hai. Aakanksha ki kahani tin saheliyan tin premi padhna shuru kiya to main padhti chali gai. Ye kahani dilchasp sanvadon mein chali hai. Ubau varnan kahin hai hi nahin. Sampreshniyta kahani ke liye zaruri dusri shart hai. Lekhak jo kahna chah raha hai, vah pathak tak pahunch raha hai. Is kahani ke pathak ko baat samjhane ke liye jaddojhad nahin karni padti. Sanvadon mein baat hum tak pahunchati hai. Spasht ho jata hai ki kahani kahti kya hai. Lekhak kya kahna chahta hai. Ek chiz ye bhi ki rachnakar ne koi mahatvpurn mudda uthaya hai, vah hai vyakti ya samaj ka. Aakhir vah mudda kya hai. Sahaj dhang se, tin avivahit ladakiyon ki kahani hai ye jo tin vivahit purushon se prem karti hain. Vahan hamein milna kuchh nahin hai, ye jante hue bhi ve us raste par jati hain. Achchhi baat ye hai ki aakanksha ne na purushon ko bahut dhikkara hai, na aansu bahaye hain. Kahani sahaj-saral dhang se chalti hai. Ladakiyan apni simayen jante hue bhi selibret karti hain aur ant mein avivahit jivan ki trasdi hote hue bhi (trasdi main kah rahi hun, kahani mein nahin hai), kahin ye bhav nahin hai, ye jivan ka yatharth hai. Jo nahin mila hai, use bhi selibret karo. Aakanksha se pahli baar milne par mujhe laga ki ye ladki sahaj hai. Phir ek shahar ka hone ke nate nikatta aur badhi. —man‍nu bhandari

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products