BackBack

Tamrapat

Rs. 650 Rs. 618

मौजूदा समय के जटिल यथार्थ, समाज की बहुमुखी विसंगतियों और आधुनिक मनुष्य के सम्मुख उपस्थित चुनौतियों का जैसा अंकन उपन्यास विधा में सम्भव है, ऐसा और किसी विधा में नहीं। भारतीय भाषाओं के उपन्यासकारों ने अपने समकाल को समझने और विश्लेषित रूप में पाठकों तक पहुँचाने में इस विधा का... Read More

HardboundHardbound
readsample_tab

मौजूदा समय के जटिल यथार्थ, समाज की बहुमुखी विसंगतियों और आधुनिक मनुष्य के सम्मुख उपस्थित चुनौतियों का जैसा अंकन उपन्यास विधा में सम्भव है, ऐसा और किसी विधा में नहीं। भारतीय भाषाओं के उपन्यासकारों ने अपने समकाल को समझने और विश्लेषित रूप में पाठकों तक पहुँचाने में इस विधा का बखूबी प्रयोग किया है।
मराठी में कादम्बरी यानी उपन्यास लेखन का अपना एक इतिहास रहा है। प्रसिद्ध लेखक रंगनाथ पठारे का यह चर्चित उपन्यास ‘ताम्रपट’ उन सब सम्भावनाओं को समेटे हुए है जिनकी अपेक्षा उपन्यास से की जाती है। अपने बृहद् कलेवर में ‘ताम्रपट’ की कथा का फलक भारतीय इतिहास के लगभग चार दशकों में फैला हुआ है—1942 से लेकर 1979 तक। अलग से कहना ज़रूरी नहीं कि यही वह दौर है जब देश ने स्वतंत्रता-प्राप्ति के बाद के उत्साह और अवसाद दोनों को झेलते हुए विश्व-पटल पर अपनी पहचान कराई। इस काल में हमने सत्ता के संघर्षों का विभिन्न रूप देखा, संस्थाओं का बनना और उनका भ्रष्ट होना भी देखा, शिक्षा और संस्कृति के क्षेत्र में अनेक निर्मितियों और विध्वंसों को भी देखा; नागरिकों के नैतिक उत्थान-पतन से भी हम रूबरू हुए। ‘ताम्रपट’ के माध्यम से हम इस पूरी यात्रा से गुज़रते हैं। लेखक की विराट विश्वदृष्टि और अपने आसपास के यथार्थ का विश्वसनीय अभिज्ञान इस उपन्यास में अपने सम्पूर्ण वैभव के साथ उपस्थित है। Maujuda samay ke jatil yatharth, samaj ki bahumukhi visangatiyon aur aadhunik manushya ke sammukh upasthit chunautiyon ka jaisa ankan upanyas vidha mein sambhav hai, aisa aur kisi vidha mein nahin. Bhartiy bhashaon ke upanyaskaron ne apne samkal ko samajhne aur vishleshit rup mein pathkon tak pahunchane mein is vidha ka bakhubi pryog kiya hai. Marathi mein kadambri yani upanyas lekhan ka apna ek itihas raha hai. Prsiddh lekhak rangnath pathare ka ye charchit upanyas ‘tamrpat’ un sab sambhavnaon ko samete hue hai jinki apeksha upanyas se ki jati hai. Apne brihad kalevar mein ‘tamrpat’ ki katha ka phalak bhartiy itihas ke lagbhag char dashkon mein phaila hua hai—1942 se lekar 1979 tak. Alag se kahna zaruri nahin ki yahi vah daur hai jab desh ne svtantrta-prapti ke baad ke utsah aur avsad donon ko jhelte hue vishv-patal par apni pahchan karai. Is kaal mein hamne satta ke sangharshon ka vibhinn rup dekha, sansthaon ka banna aur unka bhrasht hona bhi dekha, shiksha aur sanskriti ke kshetr mein anek nirmitiyon aur vidhvanson ko bhi dekha; nagarikon ke naitik utthan-patan se bhi hum rubru hue. ‘tamrpat’ ke madhyam se hum is puri yatra se guzarte hain. Lekhak ki virat vishvdrishti aur apne aaspas ke yatharth ka vishvasniy abhigyan is upanyas mein apne sampurn vaibhav ke saath upasthit hai.

Description

मौजूदा समय के जटिल यथार्थ, समाज की बहुमुखी विसंगतियों और आधुनिक मनुष्य के सम्मुख उपस्थित चुनौतियों का जैसा अंकन उपन्यास विधा में सम्भव है, ऐसा और किसी विधा में नहीं। भारतीय भाषाओं के उपन्यासकारों ने अपने समकाल को समझने और विश्लेषित रूप में पाठकों तक पहुँचाने में इस विधा का बखूबी प्रयोग किया है।
मराठी में कादम्बरी यानी उपन्यास लेखन का अपना एक इतिहास रहा है। प्रसिद्ध लेखक रंगनाथ पठारे का यह चर्चित उपन्यास ‘ताम्रपट’ उन सब सम्भावनाओं को समेटे हुए है जिनकी अपेक्षा उपन्यास से की जाती है। अपने बृहद् कलेवर में ‘ताम्रपट’ की कथा का फलक भारतीय इतिहास के लगभग चार दशकों में फैला हुआ है—1942 से लेकर 1979 तक। अलग से कहना ज़रूरी नहीं कि यही वह दौर है जब देश ने स्वतंत्रता-प्राप्ति के बाद के उत्साह और अवसाद दोनों को झेलते हुए विश्व-पटल पर अपनी पहचान कराई। इस काल में हमने सत्ता के संघर्षों का विभिन्न रूप देखा, संस्थाओं का बनना और उनका भ्रष्ट होना भी देखा, शिक्षा और संस्कृति के क्षेत्र में अनेक निर्मितियों और विध्वंसों को भी देखा; नागरिकों के नैतिक उत्थान-पतन से भी हम रूबरू हुए। ‘ताम्रपट’ के माध्यम से हम इस पूरी यात्रा से गुज़रते हैं। लेखक की विराट विश्वदृष्टि और अपने आसपास के यथार्थ का विश्वसनीय अभिज्ञान इस उपन्यास में अपने सम्पूर्ण वैभव के साथ उपस्थित है। Maujuda samay ke jatil yatharth, samaj ki bahumukhi visangatiyon aur aadhunik manushya ke sammukh upasthit chunautiyon ka jaisa ankan upanyas vidha mein sambhav hai, aisa aur kisi vidha mein nahin. Bhartiy bhashaon ke upanyaskaron ne apne samkal ko samajhne aur vishleshit rup mein pathkon tak pahunchane mein is vidha ka bakhubi pryog kiya hai. Marathi mein kadambri yani upanyas lekhan ka apna ek itihas raha hai. Prsiddh lekhak rangnath pathare ka ye charchit upanyas ‘tamrpat’ un sab sambhavnaon ko samete hue hai jinki apeksha upanyas se ki jati hai. Apne brihad kalevar mein ‘tamrpat’ ki katha ka phalak bhartiy itihas ke lagbhag char dashkon mein phaila hua hai—1942 se lekar 1979 tak. Alag se kahna zaruri nahin ki yahi vah daur hai jab desh ne svtantrta-prapti ke baad ke utsah aur avsad donon ko jhelte hue vishv-patal par apni pahchan karai. Is kaal mein hamne satta ke sangharshon ka vibhinn rup dekha, sansthaon ka banna aur unka bhrasht hona bhi dekha, shiksha aur sanskriti ke kshetr mein anek nirmitiyon aur vidhvanson ko bhi dekha; nagarikon ke naitik utthan-patan se bhi hum rubru hue. ‘tamrpat’ ke madhyam se hum is puri yatra se guzarte hain. Lekhak ki virat vishvdrishti aur apne aaspas ke yatharth ka vishvasniy abhigyan is upanyas mein apne sampurn vaibhav ke saath upasthit hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Tamrapat

मौजूदा समय के जटिल यथार्थ, समाज की बहुमुखी विसंगतियों और आधुनिक मनुष्य के सम्मुख उपस्थित चुनौतियों का जैसा अंकन उपन्यास विधा में सम्भव है, ऐसा और किसी विधा में नहीं। भारतीय भाषाओं के उपन्यासकारों ने अपने समकाल को समझने और विश्लेषित रूप में पाठकों तक पहुँचाने में इस विधा का बखूबी प्रयोग किया है।
मराठी में कादम्बरी यानी उपन्यास लेखन का अपना एक इतिहास रहा है। प्रसिद्ध लेखक रंगनाथ पठारे का यह चर्चित उपन्यास ‘ताम्रपट’ उन सब सम्भावनाओं को समेटे हुए है जिनकी अपेक्षा उपन्यास से की जाती है। अपने बृहद् कलेवर में ‘ताम्रपट’ की कथा का फलक भारतीय इतिहास के लगभग चार दशकों में फैला हुआ है—1942 से लेकर 1979 तक। अलग से कहना ज़रूरी नहीं कि यही वह दौर है जब देश ने स्वतंत्रता-प्राप्ति के बाद के उत्साह और अवसाद दोनों को झेलते हुए विश्व-पटल पर अपनी पहचान कराई। इस काल में हमने सत्ता के संघर्षों का विभिन्न रूप देखा, संस्थाओं का बनना और उनका भ्रष्ट होना भी देखा, शिक्षा और संस्कृति के क्षेत्र में अनेक निर्मितियों और विध्वंसों को भी देखा; नागरिकों के नैतिक उत्थान-पतन से भी हम रूबरू हुए। ‘ताम्रपट’ के माध्यम से हम इस पूरी यात्रा से गुज़रते हैं। लेखक की विराट विश्वदृष्टि और अपने आसपास के यथार्थ का विश्वसनीय अभिज्ञान इस उपन्यास में अपने सम्पूर्ण वैभव के साथ उपस्थित है। Maujuda samay ke jatil yatharth, samaj ki bahumukhi visangatiyon aur aadhunik manushya ke sammukh upasthit chunautiyon ka jaisa ankan upanyas vidha mein sambhav hai, aisa aur kisi vidha mein nahin. Bhartiy bhashaon ke upanyaskaron ne apne samkal ko samajhne aur vishleshit rup mein pathkon tak pahunchane mein is vidha ka bakhubi pryog kiya hai. Marathi mein kadambri yani upanyas lekhan ka apna ek itihas raha hai. Prsiddh lekhak rangnath pathare ka ye charchit upanyas ‘tamrpat’ un sab sambhavnaon ko samete hue hai jinki apeksha upanyas se ki jati hai. Apne brihad kalevar mein ‘tamrpat’ ki katha ka phalak bhartiy itihas ke lagbhag char dashkon mein phaila hua hai—1942 se lekar 1979 tak. Alag se kahna zaruri nahin ki yahi vah daur hai jab desh ne svtantrta-prapti ke baad ke utsah aur avsad donon ko jhelte hue vishv-patal par apni pahchan karai. Is kaal mein hamne satta ke sangharshon ka vibhinn rup dekha, sansthaon ka banna aur unka bhrasht hona bhi dekha, shiksha aur sanskriti ke kshetr mein anek nirmitiyon aur vidhvanson ko bhi dekha; nagarikon ke naitik utthan-patan se bhi hum rubru hue. ‘tamrpat’ ke madhyam se hum is puri yatra se guzarte hain. Lekhak ki virat vishvdrishti aur apne aaspas ke yatharth ka vishvasniy abhigyan is upanyas mein apne sampurn vaibhav ke saath upasthit hai.