Look Inside
Surang
Surang
Surang
Surang

Surang

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Surang

Surang

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

90 के दशक में बड़ी तेज़ी से बदल रही थी हिन्दी कहानी और उतनी ही तेज़ी से बदल रहा यह हमारा देश। वह एक खौलते हुए यथार्थ का समय था जिसे कथा साहित्य में दक्षता के साथ प्रस्तुत करनेवाले लेखकों में संजय सहाय बेहद महत्त्वपूर्ण हैं। संजय सहाय की कहानियों का पहला संग्रह था—‘सुरंग’। ‘सुरंग’ को एक तरह से बेहतरीन कहानियों का निवास भी कहा जा सकता है जहाँ हर कहानी में मनुष्य जाति का कोई न कोई ज़ख़्म और कोहराम है। अच्छी कथाओं का मोक्ष यह होता है कि उन्हें कभी मोक्ष नहीं मिलता, हमेशा इसी दुनिया में जीना-मरना उनकी नियति और सिद्धि है। इसीलिए ‘सुरंग’ की कहानियाँ अपने प्रकाशन के क़रीब दो दशक बाद आज भी प्रासंगिक और समकालीन हैं, बल्कि कई अर्थ में पहले से भी अधिक। वे मौजूदा समाज के प्रातिनिधिक चरित्र उस हिंसा का प्रत्याख्यान करती हैं जो सर्वाधिक बेबस और मुफ़लिस का आखेट करती है। संजय सूक्ष्मता में जाकर हिंसा की सत्ता-संरचना का विखंडन करते हैं; यह अनायास नहीं है कि संजय की कहानियों में ख़ून, हथियार, प्रहार, वर्दी आदि बार-बार आते हैं। इन्हीं के समानान्तर सिर उठाती देखी जा सकती है, साधारण इनसान की रुलाई, चीख़ और प्रतिरोध की आवाज़।
‘सुरंग’ की कहानियों में देखा जा सकता है कि दृश्यान्तर बहुत हैं। ‘शेषान्त’, ‘मध्यान्तर’, सरीखी कहानियों में बहुत सारे लोग मिलकर विविध दृश्य रचते हैं तो ‘खेल’, ‘सुरंग’, ‘टोपी’ जैसी कहानियों में एक-दो पात्रों की आँख के सामने अनेक अपने-अपने क़िस्सों के दृश्यों के साथ प्रकट होते हैं। यूँ भी कह सकते हैं, संजय के यहाँ जीवन अनोखेपन और चाक्षुषता के साथ है। ‘अविश्वसनीय’ और ‘सुरंग’ में जहाँ लोग-बाग ज़्यादा नहीं हैं, वहाँ उनकी जगह समय का विस्तृत फलक है। ‘अविश्वसनीय’ में संजय ने स्त्री के दु:ख तथा उसके प्रति पुरुष-सत्ता के नज़रिए को शान्त, बढ़ा, बाजिरह कहा है। ‘सुरंग’ की सुरंग इतिहास के रक्तपात से भरी हुई है। यह सुरंग अतीत से चलकर बरास्ते वर्तमान होते हुए भविष्य तक का उद्घाटन करती है जिसमें शक्तियों की बेरहमी, अन्याय और बेदखली गश्त कर रही है।
संक्षेप में कहें, ‘सुरंग’ की कहानियाँ ऐसी हैं जो कभी-कभी रची जा पाती हैं लेकिन लम्बे वक़्त के लिए साथ रह जाती हैं।
—अखिलेश 90 ke dashak mein badi tezi se badal rahi thi hindi kahani aur utni hi tezi se badal raha ye hamara desh. Vah ek khaulte hue yatharth ka samay tha jise katha sahitya mein dakshta ke saath prastut karnevale lekhkon mein sanjay sahay behad mahattvpurn hain. Sanjay sahay ki kahaniyon ka pahla sangrah tha—‘surang’. ‘surang’ ko ek tarah se behatrin kahaniyon ka nivas bhi kaha ja sakta hai jahan har kahani mein manushya jati ka koi na koi zakhm aur kohram hai. Achchhi kathaon ka moksh ye hota hai ki unhen kabhi moksh nahin milta, hamesha isi duniya mein jina-marna unki niyati aur siddhi hai. Isiliye ‘surang’ ki kahaniyan apne prkashan ke qarib do dashak baad aaj bhi prasangik aur samkalin hain, balki kai arth mein pahle se bhi adhik. Ve maujuda samaj ke pratinidhik charitr us hinsa ka pratyakhyan karti hain jo sarvadhik bebas aur muflis ka aakhet karti hai. Sanjay sukshmta mein jakar hinsa ki satta-sanrachna ka vikhandan karte hain; ye anayas nahin hai ki sanjay ki kahaniyon mein khun, hathiyar, prhar, vardi aadi bar-bar aate hain. Inhin ke samanantar sir uthati dekhi ja sakti hai, sadharan insan ki rulai, chikh aur pratirodh ki aavaz. ‘surang’ ki kahaniyon mein dekha ja sakta hai ki drishyantar bahut hain. ‘sheshant’, ‘madhyantar’, sarikhi kahaniyon mein bahut sare log milkar vividh drishya rachte hain to ‘khel’, ‘surang’, ‘topi’ jaisi kahaniyon mein ek-do patron ki aankh ke samne anek apne-apne qisson ke drishyon ke saath prkat hote hain. Yun bhi kah sakte hain, sanjay ke yahan jivan anokhepan aur chakshushta ke saath hai. ‘avishvasniy’ aur ‘surang’ mein jahan log-bag zyada nahin hain, vahan unki jagah samay ka vistrit phalak hai. ‘avishvasniy’ mein sanjay ne stri ke du:kha tatha uske prati purush-satta ke nazariye ko shant, badha, bajirah kaha hai. ‘surang’ ki surang itihas ke raktpat se bhari hui hai. Ye surang atit se chalkar baraste vartman hote hue bhavishya tak ka udghatan karti hai jismen shaktiyon ki berahmi, anyay aur bedakhli gasht kar rahi hai.
Sankshep mein kahen, ‘surang’ ki kahaniyan aisi hain jo kabhi-kabhi rachi ja pati hain lekin lambe vaqt ke liye saath rah jati hain.
—akhilesh

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products