Look Inside
Sej Per Sanskrit
Sej Per Sanskrit
Sej Per Sanskrit
Sej Per Sanskrit

Sej Per Sanskrit

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sej Per Sanskrit

Sej Per Sanskrit

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

समाज और व्यवस्था के कटु-तिक्त अनुभवों से सम्पन्न उपन्यासकार हैं मधु कांकरिया। उनका यह उपन्यास बेधक, जुझारू, धैर्यवान और अन्ततः विद्रोही स्त्री की आन्तरिक पीड़ा का बड़ा ही मार्मिक विश्लेषण-अंकन करता है। धार्मिक चिन्तन और व्यवहार से आप्लावित संसार में स्त्री-जीवन कितना कठोर, क्रूर और भयावह हो सकता है, ‘सेज पर संस्कृत’ के बहाने इस यातना-गाथा का हमें पोर-पोर परिचय मिलता है।
उपन्यास में आर्थिक विपन्नता में जकड़ी ऐसी माँ का चित्रण है जो अध्यात्म को मुक्तिमार्ग मान, यह चाहती है कि उसकी जवान बेटियाँ भी उसी मार्ग को अपना लें, ताकि उनके जीवन को नया आयाम मिले, क्योंकि उसकी धारणा है कि किसी स्त्री के साध्वी बन जाने पर परिवार का मान-सम्मान अनायास बढ़ जाता है, आर्थिक विपन्नता दूर हो जाती है। छोटी बेटी तो माँ के पद-चिह्नों पर चल पड़ती है लेकिन बड़ी बेटी शुरू से अन्त तक धर्माडम्बरों का घोर विरोध करती है।
साध्वियों की जीवन-स्थिति एवं उनके अन्तर्बाह्य संघर्ष को मार्मिक शब्द देनेवाले इस उपन्यास में जहाँ सामाजिक-आर्थिक विषमता को विस्तार दिया गया है, वहीं अन्याय और शोषण की अभिव्यक्ति को नई भाव-भूमि। Samaj aur vyvastha ke katu-tikt anubhvon se sampann upanyaskar hain madhu kankariya. Unka ye upanyas bedhak, jujharu, dhairyvan aur antatः vidrohi stri ki aantrik pida ka bada hi marmik vishleshan-ankan karta hai. Dharmik chintan aur vyavhar se aaplavit sansar mein stri-jivan kitna kathor, krur aur bhayavah ho sakta hai, ‘sej par sanskrit’ ke bahane is yatna-gatha ka hamein por-por parichay milta hai. Upanyas mein aarthik vipannta mein jakdi aisi man ka chitran hai jo adhyatm ko muktimarg maan, ye chahti hai ki uski javan betiyan bhi usi marg ko apna len, taki unke jivan ko naya aayam mile, kyonki uski dharna hai ki kisi stri ke sadhvi ban jane par parivar ka man-samman anayas badh jata hai, aarthik vipannta dur ho jati hai. Chhoti beti to man ke pad-chihnon par chal padti hai lekin badi beti shuru se ant tak dharmadambron ka ghor virodh karti hai.
Sadhviyon ki jivan-sthiti evan unke antarbahya sangharsh ko marmik shabd denevale is upanyas mein jahan samajik-arthik vishamta ko vistar diya gaya hai, vahin anyay aur shoshan ki abhivyakti ko nai bhav-bhumi.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products