BackBack
-11%

Sahitya Ki Pahachan

Namvar Singh

Rs. 450 Rs. 401

नामवर सिंह का आलोचक समाज में बातचीत करते हुए, वाद-विवाद-संवाद करते, प्रश्न-प्रतिप्रश्न करते सक्रिय रहता है और विचार, तर्क और संवाद की उस प्रक्रिया से गुज़रता है जो आलोचना की बुनियादी भूमि है। आलोचना लिखित हो या वाचिक—उसके पीछे बुनियादी प्रक्रिया है पढ़ना, विवेचना, विचारना। तर्क और संवाद। नामवर जी... Read More

BlackBlack
Description

नामवर सिंह का आलोचक समाज में बातचीत करते हुए, वाद-विवाद-संवाद करते, प्रश्न-प्रतिप्रश्न करते सक्रिय रहता है और विचार, तर्क और संवाद की उस प्रक्रिया से गुज़रता है जो आलोचना की बुनियादी भूमि है। आलोचना लिखित हो या वाचिक—उसके पीछे बुनियादी प्रक्रिया है पढ़ना, विवेचना, विचारना। तर्क और संवाद। नामवर जी के व्याख्यानों और उनकी वाचिक टिप्पणियों में इसका व्यापक समावेश है। उनकी वाचिक आलोचना मूल्यांकन की ऊपरी सीढ़ी तक पहुँचती है। निकष बनाती है। प्रतिमानों पर बहस करती है। उसमें ‘लिखित’ की तरह की ‘कौंध’ मौजूद होती है।
‘साहित्य की पहचान’ मुख्यतः कविता और कहानी केन्द्रित व्याख्यानों और वाचिक टीपों का संग्रह है। व्याख्यान ज़्यादा हैं, वाचिक टीपें कम। इनमें भी कविता से जुड़े व्याख्यान संख्या की दृष्टि से अधिक हैं।
पहले खंड में कविता केन्द्रित व्याख्यान हैं। ज़्यादातर व्याख्यान आधुनिक कवियों पर केन्द्रित हैं। निराला पर तीन स्वतंत्र व्याख्यान इस पुस्तक की उपलब्धि कहे जा सकते हैं। तीनों ही निराला की उत्तरवर्ती कविताओं पर केन्द्रित हैं और प्रायः इन पर एक नए कोण से विचार किया गया है। तीनों व्याख्यानों में एक आन्तरिक एकता है। सुमित्रानन्दन पन्त और महादेवी पर केन्द्रित व्याख्यानों से भी इनकी एक संगति बैठती है। ‘स्वच्छन्दतावाद और छायावाद’ तथा ‘रोमांटिक बनाम आधुनिक’ शीर्षक व्याख्यान इन पाँच व्याख्यानों की वैचारिक भूमि स्पष्ट करते हैं। हरिवंश राय बच्चन, दिनकर, भारतभूषण अग्रवाल पर केन्द्रित छोटे व्याख्यान यहाँ संकलित हैं। समकालीन कविता के अनेक महत्त्वपूर्ण पक्षों को ‘इधर की कविता’ व्याख्यान में नामवर जी पहचानते और व्याख्यायित करते हैं।
दूसरे खंड में उपन्यास और कहानी पर केन्द्रित अनेक व्याख्यान और वाचिक टिप्पणियाँ हैं। हिन्दी में कहानी के विश्लेषण की प्रविधियों का पहला महत्त्वपूर्ण आविष्कार करनेवाली पुस्तक ‘कहानी नयी कहानी’ के लेखक नामवर सिंह की समकालीन कहानी से सम्बन्धित अनेक चिन्ताएँ यहाँ मुखरित हैं। Namvar sinh ka aalochak samaj mein batchit karte hue, vad-vivad-sanvad karte, prashn-prtiprashn karte sakriy rahta hai aur vichar, tark aur sanvad ki us prakriya se guzarta hai jo aalochna ki buniyadi bhumi hai. Aalochna likhit ho ya vachik—uske pichhe buniyadi prakriya hai padhna, vivechna, vicharna. Tark aur sanvad. Namvar ji ke vyakhyanon aur unki vachik tippaniyon mein iska vyapak samavesh hai. Unki vachik aalochna mulyankan ki uupri sidhi tak pahunchati hai. Nikash banati hai. Pratimanon par bahas karti hai. Usmen ‘likhit’ ki tarah ki ‘kaundh’ maujud hoti hai. ‘sahitya ki pahchan’ mukhyatः kavita aur kahani kendrit vyakhyanon aur vachik tipon ka sangrah hai. Vyakhyan zyada hain, vachik tipen kam. Inmen bhi kavita se jude vyakhyan sankhya ki drishti se adhik hain.
Pahle khand mein kavita kendrit vyakhyan hain. Zyadatar vyakhyan aadhunik kaviyon par kendrit hain. Nirala par tin svtantr vyakhyan is pustak ki uplabdhi kahe ja sakte hain. Tinon hi nirala ki uttarvarti kavitaon par kendrit hain aur prayः in par ek ne kon se vichar kiya gaya hai. Tinon vyakhyanon mein ek aantrik ekta hai. Sumitranandan pant aur mahadevi par kendrit vyakhyanon se bhi inki ek sangati baithti hai. ‘svachchhandtavad aur chhayavad’ tatha ‘romantik banam aadhunik’ shirshak vyakhyan in panch vyakhyanon ki vaicharik bhumi spasht karte hain. Harivansh raay bachchan, dinkar, bharatbhushan agrval par kendrit chhote vyakhyan yahan sanklit hain. Samkalin kavita ke anek mahattvpurn pakshon ko ‘idhar ki kavita’ vyakhyan mein namvar ji pahchante aur vyakhyayit karte hain.
Dusre khand mein upanyas aur kahani par kendrit anek vyakhyan aur vachik tippaniyan hain. Hindi mein kahani ke vishleshan ki pravidhiyon ka pahla mahattvpurn aavishkar karnevali pustak ‘kahani nayi kahani’ ke lekhak namvar sinh ki samkalin kahani se sambandhit anek chintayen yahan mukhrit hain.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year