Safeena

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Safeena

Safeena

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कुछ कविताएँ नदियों में बहते-बहते अपना गीत नापती हैं। कुछ पर्वतों से पिघलकर, टहनियों पर झूल, बारिशों में धुल, सपाट काग़ज़ पर बिछ जाती हैं।
कुछ सूरज से या चाँद से, या आकाश और धरती के बीच जो भी पनपे, उससे शब्द उधार माँग लाती हैं।
कुछ ये कविताएँ भी हैं, जो एक अलग ही धरा पर उगी, सिंची और अर्पण हो गईं।
बिट्टु की कविताएँ बहुत भीतर की भभकती लौ से जन्मी, एक सुरीली लहर में तैरकर, उनकी आँखों से टपक जाती हैं।
उनके दिन कई रंगों से सने हैं। कहीं वे समाज-सेवा का रंग भरती हैं, तो कहीं रिश्तों के जालों में उलझे लोगों को काउंसल करती हैं। बहुतों की मित्र हैं, प्रेरणा हैं, चाह हैं। इन्हीं से भरे दिनों और उनके बीच के पहरों से बटोरी भावनाओं को घर ले जाती हैं। और फिर, किस शब्द को कैसे बुनना है, किसको छानना है, बीनना, सिलना, लेपना, पोतना और कुरेदना है, ये बिट्टु ख़ूब जानती हैं।
इसलिए उनकी कविताएँ कराहती हुई चाह से उठकर, खौलते पानी में सिंचकर, आँसू भी बहाती हैं, उसे पोंछती भी हैं, सपने भी सँजोती हैं, और फिर दोनों हाथों से अर्पण हो, सतहों से उठ, विशालता में लीन भी हो जाती हैं।
जब प्रेम लेन-देन से उठकर प्रार्थना बन जाए तो उनकी कविताएँ झूमती भी हैं, अर्पण में खो भी जाती हैं।
बिट्टु के शब्द किसी भी भावना में बिखरें और जुड़ें, उनका गीत लय में ही बहता है। हमेशा।
उन्हीं की तरह।
यह संग्रह इसी गीत की ध्वनि है। Kuchh kavitayen nadiyon mein bahte-bahte apna git napti hain. Kuchh parvton se pighalkar, tahaniyon par jhul, barishon mein dhul, sapat kagaz par bichh jati hain. Kuchh suraj se ya chand se, ya aakash aur dharti ke bich jo bhi panpe, usse shabd udhar mang lati hain.
Kuchh ye kavitayen bhi hain, jo ek alag hi dhara par ugi, sinchi aur arpan ho gain.
Bittu ki kavitayen bahut bhitar ki bhabhakti lau se janmi, ek surili lahar mein tairkar, unki aankhon se tapak jati hain.
Unke din kai rangon se sane hain. Kahin ve samaj-seva ka rang bharti hain, to kahin rishton ke jalon mein uljhe logon ko kaunsal karti hain. Bahuton ki mitr hain, prerna hain, chah hain. Inhin se bhare dinon aur unke bich ke pahron se batori bhavnaon ko ghar le jati hain. Aur phir, kis shabd ko kaise bunna hai, kisko chhanna hai, binna, silna, lepna, potna aur kuredna hai, ye bittu khub janti hain.
Isaliye unki kavitayen karahti hui chah se uthkar, khaulte pani mein sinchkar, aansu bhi bahati hain, use ponchhti bhi hain, sapne bhi sanjoti hain, aur phir donon hathon se arpan ho, sathon se uth, vishalta mein lin bhi ho jati hain.
Jab prem len-den se uthkar prarthna ban jaye to unki kavitayen jhumti bhi hain, arpan mein kho bhi jati hain.
Bittu ke shabd kisi bhi bhavna mein bikhren aur juden, unka git lay mein hi bahta hai. Hamesha.
Unhin ki tarah.
Ye sangrah isi git ki dhvani hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products