BackBack
-11%

Sach Pyar Aur Thodi Si Shararat

Khushwant Singh, Tr. Nirmala Jain

Rs. 400 Rs. 356

अंग्रेज़ी के प्रसिद्ध पत्रकार, स्तम्भकार और कथाकार खुशवंत सिंह की आत्मकथा सिर्फ़ आत्मकथा नहीं, अपने समय का बयान है। एक पत्रकार की हैसियत से उनके सम्पर्कों का दायरा बहुत बड़ा रहा है। इस आत्मकथा के माध्यम से उन्होंने अपने जीवन के राजनीतिक, सामाजिक माहौल की पुनर्रचना तो की ही है,... Read More

Description

अंग्रेज़ी के प्रसिद्ध पत्रकार, स्तम्भकार और कथाकार खुशवंत सिंह की आत्मकथा सिर्फ़ आत्मकथा नहीं, अपने समय का बयान है। एक पत्रकार की हैसियत से उनके सम्पर्कों का दायरा बहुत बड़ा रहा है। इस आत्मकथा के माध्यम से उन्होंने अपने जीवन के राजनीतिक, सामाजिक माहौल की पुनर्रचना तो की ही है, पत्रकारिता की दुनिया में झाँकने का मौक़ा भी मुहैया किया है। भारत के इतिहास में यह दौर हर दृष्टि से निर्णायक रहा है। इस प्रक्रिया में न जाने कितनी जानी-मानी हस्तियाँ बेनक़ाब हुई हैं और न जाने कितनी घटनाओं पर से पर्दा उठा है। ऐसा करते हुए खुशवंत सिंह ने हैरत में डालनेवाली साहसिकता का परिचय दिया है।
खुशवंत सिंह यह काम बड़ी निर्ममता और बेबाकी के साथ करते हैं। ख़ास बात यह है कि इस प्रक्रिया में औरों के साथ उन्होंने ख़ुद को भी नहीं बख़्शा है। वक़्त के सामने खड़े होकर वे उसे पूरी तटस्थता से देखने की कामयाब कोशिश करते हैं। इस कोशिश में वे एक हद तक ख़ुद अपने सामने भी खड़े हैं —ठीक उसी शरारत-भरी शैली में जिससे ‘मैलिस’ स्तम्भ के पाठक बख़ूबी परिचित हैं, जिसमें न मुरौवत है और न संकोच।
उनकी ज़िन्दगी और उनके वक़्त की इस दास्तान में ‘थोड़ी-सी गप है, कुछ गुदगुदाने की कोशिश है, कुछ मशहूर हस्तियों की चीर-फाड़ और कुछ मनोरंजन’ के साथ बहुत कुछ जानकारी भी। Angrezi ke prsiddh patrkar, stambhkar aur kathakar khushvant sinh ki aatmaktha sirf aatmaktha nahin, apne samay ka bayan hai. Ek patrkar ki haisiyat se unke samparkon ka dayra bahut bada raha hai. Is aatmaktha ke madhyam se unhonne apne jivan ke rajnitik, samajik mahaul ki punarrachna to ki hi hai, patrkarita ki duniya mein jhankane ka mauqa bhi muhaiya kiya hai. Bharat ke itihas mein ye daur har drishti se nirnayak raha hai. Is prakriya mein na jane kitni jani-mani hastiyan benqab hui hain aur na jane kitni ghatnaon par se parda utha hai. Aisa karte hue khushvant sinh ne hairat mein dalnevali sahasikta ka parichay diya hai. Khushvant sinh ye kaam badi nirmamta aur bebaki ke saath karte hain. Khas baat ye hai ki is prakriya mein auron ke saath unhonne khud ko bhi nahin bakhsha hai. Vaqt ke samne khade hokar ve use puri tatasthta se dekhne ki kamyab koshish karte hain. Is koshish mein ve ek had tak khud apne samne bhi khade hain —thik usi shararat-bhari shaili mein jisse ‘mailis’ stambh ke pathak bakhubi parichit hain, jismen na murauvat hai aur na sankoch.
Unki zindagi aur unke vaqt ki is dastan mein ‘thodi-si gap hai, kuchh gudagudane ki koshish hai, kuchh mashhur hastiyon ki chir-phad aur kuchh manoranjan’ ke saath bahut kuchh jankari bhi.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year