BackBack
-11%

Roshani Ke Raste Per

Anita Verma

Rs. 395 Rs. 352

Rajkamal Prakashan

अपने पहले संग्रह ‘एक जन्म में सब’ के प्रकाशन के साथ अनीता वर्मा ने एक ऐसे कवि के रूप में पहचान बनायी जिनके पास एक विरल संवेदना है, अपने आंतरिक संसार के स्पंदनों को सही शब्दों और सार्थक बिंबों में रूपांतरित कर पाने की क्षमता है और एक सघन सुंदर... Read More

BlackBlack
Description

अपने पहले संग्रह ‘एक जन्म में सब’ के प्रकाशन के साथ अनीता वर्मा ने एक ऐसे कवि के रूप में पहचान बनायी जिनके पास एक विरल संवेदना है, अपने आंतरिक संसार के स्पंदनों को सही शब्दों और सार्थक बिंबों में रूपांतरित कर पाने की क्षमता है और एक सघन सुंदर विन्यास है। वह एक अद्वितीय संग्रह है जिसे संवेदनशील पाठकों ने एक सुखद आश्चर्य के साथ देखा और समझा। अनीता वर्मा का दूसरा संग्रह ‘रोशनी के रास्ते पर’ उस गतिशीतला और ऊर्जा को रेखांकित करता है जो एक रचनात्मक जीवन की यात्रा से अपने आप जुड़ी होती हैं। लेकिन इस संग्रह की कविताएं इससे भी अधिक कुछ संकेत करती हैं और कवि के रचनात्मक अंतर्संघर्ष के साथ-साथ उनकी कविताओं के कथ्य और शिल्प में आये बदलावों को बतलाती हैं। यहां बिंबों से वृत्तांत की ओर, स्मृति से स्वप्न की ओर, अंतरंग से बहिरंग की ओर और अनुभूति से अनुभव की ओर जाने और कभी-कभी एक-दूसरे में आवाजाही करने की एक अनोखी यात्रा दर्ज हुई है: ‘अच्छा हुआ कि हृदय बच गया/और शब्दों को चलने के लिए पैर मिल गये।’
अनीता वर्मा की ज़्यादातर कविताओं में दिखने वाली आत्मिकता, रहस्यमयता, शमशेर बहादुर सिंह जैसी शुद्धता और गहरे आशावाद की ओर कई पाठकों-आलोचकों का ध्यान गया है। इन विशेषताओं का जन्म कवि के भीतर संवेदना की गहराइयों और ऊंचाइयों से ही हुआ है और वे इस संग्रह की कविताओं में भी पूरे घनत्व के साथ उपस्थित हैं। अंतर यह है कि अनीता अब इस संवेदना के माध्यम से बाहर के संसार को भी व्यक्त कर रही हैं जिसका प्रमाण ‘बूढ़ानाथ की औरतें’, ‘अपने घर’, ‘भय’, ‘सभागार में’, ‘मां का हाथ’, ‘अनिंदो दा के साथ’, ‘मंच पर’ जैसी विलक्षण रचनाओं में मिलता है। अनीता वर्मा की काव्य संवेदना में निराशा और विकलता के बीच उम्मीद के आत्मिक बिंदु हमेशा चमकते दिखते हैं और पाठक की संवेदना को भी प्रकाशित करते रहते हैं। ऐसे कवि की सामाजिक-राजनीतिक दृष्टि भी बहुत मानवीय और प्रतिबद्ध होगी जिनकी अभिव्यक्ति ‘महज़ नाम नहीं’, ‘झारखंड’, ‘रोशनी’ जैसी रचनाओं में हुई है। एक कविता की पंक्तियां कहती हैं: ‘मुझे अचानक दिखाई दिये कहीं खिले हुए कुछ फूल/और तभी कोई लालटेन का शीशा साफ़ कर/उसे जला कर रख गया था।’ हमारे समय में जमा हो रहे कई तरह के अंधकारों के बीच ये पंक्तियां इन कविताओं के स्वभाव को भी बतलाती हैं। Apne pahle sangrah ‘ek janm mein sab’ ke prkashan ke saath anita varma ne ek aise kavi ke rup mein pahchan banayi jinke paas ek viral sanvedna hai, apne aantrik sansar ke spandnon ko sahi shabdon aur sarthak bimbon mein rupantrit kar pane ki kshamta hai aur ek saghan sundar vinyas hai. Vah ek advitiy sangrah hai jise sanvedanshil pathkon ne ek sukhad aashcharya ke saath dekha aur samjha. Anita varma ka dusra sangrah ‘roshni ke raste par’ us gatishitla aur uurja ko rekhankit karta hai jo ek rachnatmak jivan ki yatra se apne aap judi hoti hain. Lekin is sangrah ki kavitayen isse bhi adhik kuchh sanket karti hain aur kavi ke rachnatmak antarsangharsh ke sath-sath unki kavitaon ke kathya aur shilp mein aaye badlavon ko batlati hain. Yahan bimbon se vrittant ki or, smriti se svapn ki or, antrang se bahirang ki or aur anubhuti se anubhav ki or jane aur kabhi-kabhi ek-dusre mein aavajahi karne ki ek anokhi yatra darj hui hai: ‘achchha hua ki hriday bach gaya/aur shabdon ko chalne ke liye pair mil gaye. ’Anita varma ki zyadatar kavitaon mein dikhne vali aatmikta, rahasyamayta, shamsher bahadur sinh jaisi shuddhta aur gahre aashavad ki or kai pathkon-alochkon ka dhyan gaya hai. In visheshtaon ka janm kavi ke bhitar sanvedna ki gahraiyon aur uunchaiyon se hi hua hai aur ve is sangrah ki kavitaon mein bhi pure ghanatv ke saath upasthit hain. Antar ye hai ki anita ab is sanvedna ke madhyam se bahar ke sansar ko bhi vyakt kar rahi hain jiska prman ‘budhanath ki aurten’, ‘apne ghar’, ‘bhay’, ‘sabhagar men’, ‘man ka hath’, ‘anindo da ke sath’, ‘manch par’ jaisi vilakshan rachnaon mein milta hai. Anita varma ki kavya sanvedna mein nirasha aur vikalta ke bich ummid ke aatmik bindu hamesha chamakte dikhte hain aur pathak ki sanvedna ko bhi prkashit karte rahte hain. Aise kavi ki samajik-rajnitik drishti bhi bahut manviy aur pratibaddh hogi jinki abhivyakti ‘mahaz naam nahin’, ‘jharkhand’, ‘roshni’ jaisi rachnaon mein hui hai. Ek kavita ki panktiyan kahti hain: ‘mujhe achanak dikhai diye kahin khile hue kuchh phul/aur tabhi koi lalten ka shisha saaf kar/use jala kar rakh gaya tha. ’ hamare samay mein jama ho rahe kai tarah ke andhkaron ke bich ye panktiyan in kavitaon ke svbhav ko bhi batlati hain.