Rani Roopmati Ki Aatmakatha

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Rani Roopmati Ki Aatmakatha

Rani Roopmati Ki Aatmakatha

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘रानी रूपमती की आत्मकथा’ उपन्यास इतिहास और कल्पना का अच्छा मिश्रण है। वैसे तो यह उपन्यास रूपमती और बाज़ बहादुर की प्रेम-कथा है, लेकिन इस कथा में उस दौर की दुरभिसन्धियाँ भी हैं। रानी रूपमती कौन थी, इस बारे में इतिहास मौन है, किन्तु उपन्यास में उसे राव यदुवीर सिंह, जिनके पुरखे कभी माँडवगढ़ के राजा थे, की बेटी के रूप में दर्शाया गया है। उपन्यास के अनुसार रानी रूपमती की माँ रुक्मिणी एक क्षत्राणी थीं, जिन्हें उनकी माँ के साथ मुस्लिम आक्रान्‍ताओं ने उठा लिया था। उनके चंगुल से वे निकल भागीं। एक वेश्यालय में शरण ली, जहाँ उनकी शादी राव यदुवीर से हुई।
उसके बाद की कथा इतिहास की आड़-तिरछी गलियों, सत्ता के गलियारों और युद्ध के पेंचदार प्रसंगों से होते हुए रानी रूपमती के ज़हर खाने तक जाती है।
यह कथा उस समय की राजनीति के साथ-साथ तत्कालीन समाज का भी चित्रण करती है। धर्म और धर्मनिरपेक्षता जैसे सवाल तो अपनी जगह हैं ही, उपन्यास की शैली भी रोचक है। यह स्वप्न-दर्शन और वर्णन की शैली में बुनी गई एक ऐसी कथा है जिसे ख़ुद रानी रूपमती लेखक को स्वप्न में सुनाती है। ‘rani rupamti ki aatmaktha’ upanyas itihas aur kalpna ka achchha mishran hai. Vaise to ye upanyas rupamti aur baaz bahadur ki prem-katha hai, lekin is katha mein us daur ki durabhisandhiyan bhi hain. Rani rupamti kaun thi, is bare mein itihas maun hai, kintu upanyas mein use raav yaduvir sinh, jinke purkhe kabhi mandavagadh ke raja the, ki beti ke rup mein darshaya gaya hai. Upanyas ke anusar rani rupamti ki man rukmini ek kshatrani thin, jinhen unki man ke saath muslim aakran‍taon ne utha liya tha. Unke changul se ve nikal bhagin. Ek veshyalay mein sharan li, jahan unki shadi raav yaduvir se hui. Uske baad ki katha itihas ki aad-tirchhi galiyon, satta ke galiyaron aur yuddh ke penchdar prsangon se hote hue rani rupamti ke zahar khane tak jati hai.
Ye katha us samay ki rajniti ke sath-sath tatkalin samaj ka bhi chitran karti hai. Dharm aur dharmanirpekshta jaise saval to apni jagah hain hi, upanyas ki shaili bhi rochak hai. Ye svapn-darshan aur varnan ki shaili mein buni gai ek aisi katha hai jise khud rani rupamti lekhak ko svapn mein sunati hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products