BackBack
-11%

Rang Saptak

Rs. 400 Rs. 356

‘रंग सप्तक’—पणिक्कर जी के बहुआयामी सात नाटकों का संकलन है। मान लीजिए उनके सात सुरों के समान सात मोतियों को एक धागे में पिरोकर, एक सरगम-धुन रूपी माला बनाने का प्रयास। इसमें दो खंड हैं। खंड-1 में मूलत: संस्कृत के महान नाटकों के चयनित अंशों को आधार बनाकर पुनर्रचित नाट्यालेखों... Read More

BlackBlack
Description

‘रंग सप्तक’—पणिक्कर जी के बहुआयामी सात नाटकों का संकलन है। मान लीजिए उनके सात सुरों के समान सात मोतियों को एक धागे में पिरोकर, एक सरगम-धुन रूपी माला बनाने का प्रयास।
इसमें दो खंड हैं। खंड-1 में मूलत: संस्कृत के महान नाटकों के चयनित अंशों को आधार बनाकर पुनर्रचित नाट्यालेखों का समावेश किया गया है। इसकी पुनर्रचना में पणिक्कर जी और नाट्य-लेखक दोनों का सम्मिलित योगदान है। इस खंड में स्वप्नकथा, उत्तररामचरितम् एवं माया समाविष्ट हैं। खंड-2 में पणिक्कर जी के मौलिक, मलयालम में रचित नाटकों के हिन्दी अनुवादों का समावेश किया गया है। इसमें 'तैया-तैयम', 'कलिवेषम्', 'अपना-अपना कडम्बा' एवं 'स्थित है सूर्य' समाविष्ट हैं।
पणिक्कर जी के नाटकों में मिथकों, धार्मिक अनुष्ठानों, पारम्परिक एवं लोककथाओं और सामाजिक-राजनैतिक भूमिकाओं का पुनर्व्याख्यान, पुनरोद्धार एवं रूपान्तरण होता है, जो अपने वर्तमान को भूतकाल के माध्यम से खोजने का एक नितान्त मौलिक संसाधन बनता है। पणिक्कर जी इन भूमिकाओं का, परम्परा से लेकर आधुनिक विस्फोटक संक्रमणों पर सटीक टिप्पणी करने के लिए तत्पर रहते हैं। साथ ही वह इन भूमिकाओं के ज़रिए समाज में हो रही घटनाओं के बारे में प्रश्न उठाते हैं, जिसे विशिष्ट वातावरण में प्रस्तुत करके बहुआयामी नाट्यालोक (वैश्विक नाट्य) का परिचय देते हैं, किन्तु अन्तत: नैतिक उत्तर खोजने के लिए दर्शक को उत्प्रेरित कर देते हैं।
पणिक्कर जी की रंग-यात्रा कविता से रंगमंच तक और रंगमंच से कविता तक की एक अन्तर्यात्रा है। वह अपने नाटकों को सही मायने में दृश्यकाव्य के रूप में ढालते हैं। वे अपने गाँव के निजी अनुभवों को काव्यात्मक बनाकर, नाटक के माध्यम से विषयानुरूप दृश्यात्मकता प्रदान कर सौन्दर्यमूलक बनाते हैं। मान लो कि गाँव ही पूर्ण रूप से उनकी रंग-यात्रा का प्रमुख गोमुख है। ‘rang saptak’—panikkar ji ke bahuayami saat natkon ka sanklan hai. Maan lijiye unke saat suron ke saman saat motiyon ko ek dhage mein pirokar, ek sargam-dhun rupi mala banane ka pryas. Ismen do khand hain. Khand-1 mein mulat: sanskrit ke mahan natkon ke chaynit anshon ko aadhar banakar punarrchit natyalekhon ka samavesh kiya gaya hai. Iski punarrachna mein panikkar ji aur natya-lekhak donon ka sammilit yogdan hai. Is khand mein svapnaktha, uttarramacharitam evan maya samavisht hain. Khand-2 mein panikkar ji ke maulik, malyalam mein rachit natkon ke hindi anuvadon ka samavesh kiya gaya hai. Ismen taiya-taiyam, kalivesham, apna-apna kadamba evan sthit hai surya samavisht hain.
Panikkar ji ke natkon mein mithkon, dharmik anushthanon, paramprik evan lokakthaon aur samajik-rajanaitik bhumikaon ka punarvyakhyan, punroddhar evan rupantran hota hai, jo apne vartman ko bhutkal ke madhyam se khojne ka ek nitant maulik sansadhan banta hai. Panikkar ji in bhumikaon ka, parampra se lekar aadhunik visphotak sankramnon par satik tippni karne ke liye tatpar rahte hain. Saath hi vah in bhumikaon ke zariye samaj mein ho rahi ghatnaon ke bare mein prashn uthate hain, jise vishisht vatavran mein prastut karke bahuayami natyalok (vaishvik natya) ka parichay dete hain, kintu antat: naitik uttar khojne ke liye darshak ko utprerit kar dete hain.
Panikkar ji ki rang-yatra kavita se rangmanch tak aur rangmanch se kavita tak ki ek antaryatra hai. Vah apne natkon ko sahi mayne mein drishykavya ke rup mein dhalte hain. Ve apne ganv ke niji anubhvon ko kavyatmak banakar, natak ke madhyam se vishyanurup drishyatmakta prdan kar saundarymulak banate hain. Maan lo ki ganv hi purn rup se unki rang-yatra ka prmukh gomukh hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year