BackBack

Raghuvir Sahay Rachanawali : Vols. 1-6

Rs. 5,100 Rs. 4,539

रघुवीर सहाय की रचनाएँ आधुनिक समय की धड़कनों का जीवन्त दस्तावेज़ हैं। इसीलिए छह खंडों में प्रकाशित उनकी रचनावली में आज का समय सम्पूर्णता में परिभाषित हुआ है। अपनी अद्वितीय सर्जनशीलता के कारण रघुवीर सहाय ऐसे कालजयी रचनाकारों में हैं जिनकी प्रासंगिकता समय बीतने के साथ बढ़ती ही जाती है।... Read More

BlackBlack
Description

रघुवीर सहाय की रचनाएँ आधुनिक समय की धड़कनों का जीवन्त दस्तावेज़ हैं। इसीलिए छह खंडों में प्रकाशित उनकी रचनावली में आज का समय सम्पूर्णता में परिभाषित हुआ है। अपनी अद्वितीय सर्जनशीलता के कारण रघुवीर सहाय ऐसे कालजयी रचनाकारों में हैं जिनकी प्रासंगिकता समय बीतने के साथ बढ़ती ही जाती है।
‘फिर उन्हीं लोगों से’ शीर्षक रचनावली के इस पहले खंड में रघुवीर सहाय की 1946 से 1990 तक की प्रकाशित-अप्रकाशित सम्पूर्ण कविताएँ संकलित हैं। इस खंड में शामिल कविता-संग्रहों के नाम हैं : ‘सीढ़ियों पर धूप में’ (1960), ‘आत्महत्या के विरुद्ध’ (1967), ‘हँसो, हँसो जल्दी हँसो’ (1975 ), ‘लोग भूल गए हैं’ (1982), ‘कुछ पते कुछ चिट्ठियाँ ' (1989) तथा ‘एक समय था’ (1995)। इन संग्रहों के अलावा बाद में मिली कुछ नई अप्रकाशित कविताएँ भी इस खंड में हैं। संग्रह के परिशिष्ट में ‘यह दुनिया बहुत बड़ी है, जीवन लम्बा है', शीर्षक से रघुवीर सहाय की सैकड़ों आरम्भिक कविताएँ संकलित हैं। रघुवीर सहाय ने अपने जीवनकाल में ही अपनी आरम्भिक कविताओं का संग्रह तैयार किया था, लेकिन अब तक यह अप्रकाशित था। कवि के काव्य-विकास को समझने की दृष्टि से यह सामग्री अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है। परिशिष्ट में ही रघुवीर सहाय की बरस-दर-बरस ज़िन्दगी का ख़ाक़ा और सैकड़ों वर्षों का उनका वंश-वृक्ष भी दिया गया है। अपने नए कथ्य और शिल्प के कारण रघुवीर सहाय ने हिन्दी कविता को नया रूप दिया है। इस खंड की कविताओं में आप उस नए रूप को आसानी से पहचान सकते हैं। Raghuvir sahay ki rachnayen aadhunik samay ki dhadaknon ka jivant dastavez hain. Isiliye chhah khandon mein prkashit unki rachnavli mein aaj ka samay sampurnta mein paribhashit hua hai. Apni advitiy sarjanshilta ke karan raghuvir sahay aise kalajyi rachnakaron mein hain jinki prasangikta samay bitne ke saath badhti hi jati hai. ‘phir unhin logon se’ shirshak rachnavli ke is pahle khand mein raghuvir sahay ki 1946 se 1990 tak ki prkashit-aprkashit sampurn kavitayen sanklit hain. Is khand mein shamil kavita-sangrhon ke naam hain : ‘sidhiyon par dhup men’ (1960), ‘atmhatya ke viruddh’ (1967), ‘hanso, hanso jaldi hanso’ (1975 ), ‘log bhul ge hain’ (1982), ‘kuchh pate kuchh chitthiyan (1989) tatha ‘ek samay tha’ (1995). In sangrhon ke alava baad mein mili kuchh nai aprkashit kavitayen bhi is khand mein hain. Sangrah ke parishisht mein ‘yah duniya bahut badi hai, jivan lamba hai, shirshak se raghuvir sahay ki saikdon aarambhik kavitayen sanklit hain. Raghuvir sahay ne apne jivankal mein hi apni aarambhik kavitaon ka sangrah taiyar kiya tha, lekin ab tak ye aprkashit tha. Kavi ke kavya-vikas ko samajhne ki drishti se ye samagri atyant mahattvpurn hai. Parishisht mein hi raghuvir sahay ki baras-dar-baras zindagi ka khaqa aur saikdon varshon ka unka vansh-vriksh bhi diya gaya hai. Apne ne kathya aur shilp ke karan raghuvir sahay ne hindi kavita ko naya rup diya hai. Is khand ki kavitaon mein aap us ne rup ko aasani se pahchan sakte hain.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Raghuvir Sahay Rachanawali : Vols. 1-6

रघुवीर सहाय की रचनाएँ आधुनिक समय की धड़कनों का जीवन्त दस्तावेज़ हैं। इसीलिए छह खंडों में प्रकाशित उनकी रचनावली में आज का समय सम्पूर्णता में परिभाषित हुआ है। अपनी अद्वितीय सर्जनशीलता के कारण रघुवीर सहाय ऐसे कालजयी रचनाकारों में हैं जिनकी प्रासंगिकता समय बीतने के साथ बढ़ती ही जाती है।
‘फिर उन्हीं लोगों से’ शीर्षक रचनावली के इस पहले खंड में रघुवीर सहाय की 1946 से 1990 तक की प्रकाशित-अप्रकाशित सम्पूर्ण कविताएँ संकलित हैं। इस खंड में शामिल कविता-संग्रहों के नाम हैं : ‘सीढ़ियों पर धूप में’ (1960), ‘आत्महत्या के विरुद्ध’ (1967), ‘हँसो, हँसो जल्दी हँसो’ (1975 ), ‘लोग भूल गए हैं’ (1982), ‘कुछ पते कुछ चिट्ठियाँ ' (1989) तथा ‘एक समय था’ (1995)। इन संग्रहों के अलावा बाद में मिली कुछ नई अप्रकाशित कविताएँ भी इस खंड में हैं। संग्रह के परिशिष्ट में ‘यह दुनिया बहुत बड़ी है, जीवन लम्बा है', शीर्षक से रघुवीर सहाय की सैकड़ों आरम्भिक कविताएँ संकलित हैं। रघुवीर सहाय ने अपने जीवनकाल में ही अपनी आरम्भिक कविताओं का संग्रह तैयार किया था, लेकिन अब तक यह अप्रकाशित था। कवि के काव्य-विकास को समझने की दृष्टि से यह सामग्री अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है। परिशिष्ट में ही रघुवीर सहाय की बरस-दर-बरस ज़िन्दगी का ख़ाक़ा और सैकड़ों वर्षों का उनका वंश-वृक्ष भी दिया गया है। अपने नए कथ्य और शिल्प के कारण रघुवीर सहाय ने हिन्दी कविता को नया रूप दिया है। इस खंड की कविताओं में आप उस नए रूप को आसानी से पहचान सकते हैं। Raghuvir sahay ki rachnayen aadhunik samay ki dhadaknon ka jivant dastavez hain. Isiliye chhah khandon mein prkashit unki rachnavli mein aaj ka samay sampurnta mein paribhashit hua hai. Apni advitiy sarjanshilta ke karan raghuvir sahay aise kalajyi rachnakaron mein hain jinki prasangikta samay bitne ke saath badhti hi jati hai. ‘phir unhin logon se’ shirshak rachnavli ke is pahle khand mein raghuvir sahay ki 1946 se 1990 tak ki prkashit-aprkashit sampurn kavitayen sanklit hain. Is khand mein shamil kavita-sangrhon ke naam hain : ‘sidhiyon par dhup men’ (1960), ‘atmhatya ke viruddh’ (1967), ‘hanso, hanso jaldi hanso’ (1975 ), ‘log bhul ge hain’ (1982), ‘kuchh pate kuchh chitthiyan (1989) tatha ‘ek samay tha’ (1995). In sangrhon ke alava baad mein mili kuchh nai aprkashit kavitayen bhi is khand mein hain. Sangrah ke parishisht mein ‘yah duniya bahut badi hai, jivan lamba hai, shirshak se raghuvir sahay ki saikdon aarambhik kavitayen sanklit hain. Raghuvir sahay ne apne jivankal mein hi apni aarambhik kavitaon ka sangrah taiyar kiya tha, lekin ab tak ye aprkashit tha. Kavi ke kavya-vikas ko samajhne ki drishti se ye samagri atyant mahattvpurn hai. Parishisht mein hi raghuvir sahay ki baras-dar-baras zindagi ka khaqa aur saikdon varshon ka unka vansh-vriksh bhi diya gaya hai. Apne ne kathya aur shilp ke karan raghuvir sahay ne hindi kavita ko naya rup diya hai. Is khand ki kavitaon mein aap us ne rup ko aasani se pahchan sakte hain.