BackBack
-11%

Purohit

Rs. 225 Rs. 200

ऐतिहासिक औपन्यासिक कृतियों की शृंखला में ‘प्रथमं शैलपुत्री च’ तथा ‘मंत्रपुत्र’ के बाद ‘पुरोहित’ मायानंद मिश्र का तीसरा उपन्यास है। इस उपन्यास की कथा पूर्व उत्तरवैदिक काल के संधि संक्रमणकालीन ब्राह्मण युग (ई.पू. 1200 ई. से ई.पू. 1000 ई. तक) के भारत की आर्थिक, सामाजिक, धार्मिक तथा सांस्कृतिक जीवन-परम्परा की... Read More

BlackBlack
Description

ऐतिहासिक औपन्यासिक कृतियों की शृंखला में ‘प्रथमं शैलपुत्री च’ तथा ‘मंत्रपुत्र’ के बाद ‘पुरोहित’ मायानंद मिश्र का तीसरा उपन्यास है। इस उपन्यास की कथा पूर्व उत्तरवैदिक काल के संधि संक्रमणकालीन ब्राह्मण युग (ई.पू. 1200 ई. से ई.पू. 1000 ई. तक) के भारत की आर्थिक, सामाजिक, धार्मिक तथा सांस्कृतिक जीवन-परम्परा की जटिल गुत्थियों को बहुत ही बारीकी से खोलती और विश्लेषित करती है। इस काल की महत्ता लेखक के शब्दों में : ‘‘वस्तुतः स्वयं भारतवर्ष तथा उसकी ‘आत्मा’ का जन्म इसी ब्राह्मण काल में हुआ है। आज जो भी भारत में है, चाहे वह भौतिकता का विकास हो अथवा आध्यात्मिकता का उत्कर्ष, वह इसी काल की देन है।’’
प्रामाणिक ऐतिहासिक साक्ष्यों को आधार बनाकर उस काल में आर्यावर्त्त के विभिन्न जनपदों में क़ायम शासन प्रणाली और उसकी व्यवस्था में आ रहे परिवर्तन का लेखक ने बड़ा ही जीवन्त चित्रण किया है। इस उपन्यास से उस काल के शिक्षा-कर्म, पौरोहित्य-कर्म, कृषि-कर्म, राज-काज और जीवन-दर्शन का स्वाभाविक परिचय मिलता है। काल-पात्र अनुकूल शब्दावली को काव्यात्मक सरस भाषा में ढालकर रोचक प्रवाह क़ायम रखना मायानंद मिश्र की चिर-परिचित विशेषता है जिस कारण उपन्यास में सर्वत्र ग़ज़ब की पठनीयता बनी रहती है।
मेधा और कुशबिन्दु के सहज स्वाभाविक प्रेम और चुहल के साथ उसकी कर्त्तव्यनिष्ठा और व्यावहारिकता ही नहीं; अथर्वण ऋताश्व, आचार्य गालव, आचार्य श्रुतिभव, आचार्य चाक्रायण आदि की जीवन-साधना और उनके दर्शन से सम्बन्धित विभिन्न प्रसंग उस काल की विभिन्न स्थितियों-परिस्थितियों की सूचना और वैचारिक उत्तेजना देते हैं। Aitihasik aupanyasik kritiyon ki shrinkhla mein ‘prathaman shailputri cha’ tatha ‘mantrputr’ ke baad ‘purohit’ mayanand mishr ka tisra upanyas hai. Is upanyas ki katha purv uttaravaidik kaal ke sandhi sankramankalin brahman yug (ii. Pu. 1200 ii. Se ii. Pu. 1000 ii. Tak) ke bharat ki aarthik, samajik, dharmik tatha sanskritik jivan-parampra ki jatil gutthiyon ko bahut hi bariki se kholti aur vishleshit karti hai. Is kaal ki mahatta lekhak ke shabdon mein : ‘‘vastutः svayan bharatvarsh tatha uski ‘atma’ ka janm isi brahman kaal mein hua hai. Aaj jo bhi bharat mein hai, chahe vah bhautikta ka vikas ho athva aadhyatmikta ka utkarsh, vah isi kaal ki den hai. ’’Pramanik aitihasik sakshyon ko aadhar banakar us kaal mein aaryavartt ke vibhinn janapdon mein qayam shasan prnali aur uski vyvastha mein aa rahe parivartan ka lekhak ne bada hi jivant chitran kiya hai. Is upanyas se us kaal ke shiksha-karm, paurohitya-karm, krishi-karm, raj-kaj aur jivan-darshan ka svabhavik parichay milta hai. Kal-patr anukul shabdavli ko kavyatmak saras bhasha mein dhalkar rochak prvah qayam rakhna mayanand mishr ki chir-parichit visheshta hai jis karan upanyas mein sarvatr gazab ki pathniyta bani rahti hai.
Medha aur kushbindu ke sahaj svabhavik prem aur chuhal ke saath uski karttavynishtha aur vyavharikta hi nahin; atharvan ritashv, aacharya galav, aacharya shrutibhav, aacharya chakrayan aadi ki jivan-sadhna aur unke darshan se sambandhit vibhinn prsang us kaal ki vibhinn sthitiyon-paristhitiyon ki suchna aur vaicharik uttejna dete hain.