BackBack
-11%

Pratinidhi Kahaniyan : Qurratul Ain Haider

Rs. 195 Rs. 174

क़ुर्रतुल ऐन हैदर उर्दू भाषा के सशक्त और चर्चित कथाकारों में हैं। मंटो, कृष्णचन्दर, बेदी और इस्मत चुग़ताई के बाद उभरनेवाली नस्ल में उनका महत्त्वपूर्ण स्थान है। क़ुर्रतुल ऐन हैदर की कहानियाँ प्रचलित प्रगतिशील कहानियों के मुक़ाबले नई शैली, नए माहौल और नई दुनिया को सामने लाती हैं। इनकी कहानियों... Read More

Description

क़ुर्रतुल ऐन हैदर उर्दू भाषा के सशक्त और चर्चित कथाकारों में हैं। मंटो, कृष्णचन्दर, बेदी और इस्मत चुग़ताई के बाद उभरनेवाली नस्ल में उनका महत्त्वपूर्ण स्थान है।
क़ुर्रतुल ऐन हैदर की कहानियाँ प्रचलित प्रगतिशील कहानियों के मुक़ाबले नई शैली, नए माहौल और नई दुनिया को सामने लाती हैं। इनकी कहानियों में उच्च वर्ग, ग्लैमर भरा जीवन, अतीत की स्वप्नीली ख़ूबसूरत यादें, रिश्तों के टूटने, ख़ानदानों के बिखरने और अतीत के उत्कृष्ट मानवीय मूल्यों के चूर-चूर हो जाने की त्रासदी का बेहद सूक्ष्म चित्रण मिलता है।
क़ुर्रतुल ऐन हैदर समाज में औरत की कमज़ोरी और बेबसी को उसकी पूरी सच्चाई के साथ स्वीकारने का हौसला रखती हैं। उन्होंने इसी सच्चाई को अपने कथा साहित्य में ईमानदारी से प्रस्तुत करने का भरसक प्रयत्न किया है।
यहाँ संकलित ‘कोहरे के पीछे’, ‘जिन बोलो तारा-तारा’, ‘हसब-नसब’, ‘आवारागर्द’ जैसी यथार्थवादी कहानियों के साथ ‘मलफ़ूज़ते हाजी गुलाबाना बेकताशी’ और ‘रौशनी की रफ़्तार’ शीर्षक कहानियाँ भी शामिल हैं जो उनकी सृजनशक्ति के नए आयामों को उद्घाटित करती हैं।
क़ुर्रतुल ऐन हैदर की कहानियाँ अपनी विषयवस्तु, चरित्र-सृष्टि, तकनीक, भाषा और शैली हर लिहाज़ से उर्दू कहानी साहित्य में उल्लेखनीय ‘इज़ाफा’ मानी जा सकती हैं। इनसान और इनसानियत पर गहरा विश्वास उनकी कहानी-कला और चिन्तन का केन्द्र बिन्दु है। इनकी कहानियों में प्रेम और घृणा, ख़ुशियाँ और ग़म, सुन्दरता और कुरूपता एक साथ मौजूद हैं। Qurrtul ain haidar urdu bhasha ke sashakt aur charchit kathakaron mein hain. Manto, krishnchandar, bedi aur ismat chugtai ke baad ubharnevali nasl mein unka mahattvpurn sthan hai. Qurrtul ain haidar ki kahaniyan prachlit pragatishil kahaniyon ke muqable nai shaili, ne mahaul aur nai duniya ko samne lati hain. Inki kahaniyon mein uchch varg, glaimar bhara jivan, atit ki svapnili khubsurat yaden, rishton ke tutne, khandanon ke bikharne aur atit ke utkrisht manviy mulyon ke chur-chur ho jane ki trasdi ka behad sukshm chitran milta hai.
Qurrtul ain haidar samaj mein aurat ki kamzori aur bebsi ko uski puri sachchai ke saath svikarne ka hausla rakhti hain. Unhonne isi sachchai ko apne katha sahitya mein iimandari se prastut karne ka bharsak pryatn kiya hai.
Yahan sanklit ‘kohre ke pichhe’, ‘jin bolo tara-tara’, ‘hasab-nasab’, ‘avaragard’ jaisi yatharthvadi kahaniyon ke saath ‘malfuzte haji gulabana bektashi’ aur ‘raushni ki raftar’ shirshak kahaniyan bhi shamil hain jo unki srijanshakti ke ne aayamon ko udghatit karti hain.
Qurrtul ain haidar ki kahaniyan apni vishayvastu, charitr-srishti, taknik, bhasha aur shaili har lihaz se urdu kahani sahitya mein ullekhniy ‘izapha’ mani ja sakti hain. Insan aur insaniyat par gahra vishvas unki kahani-kala aur chintan ka kendr bindu hai. Inki kahaniyon mein prem aur ghrina, khushiyan aur gam, sundarta aur kurupta ek saath maujud hain.