Look Inside
Pratinidhi Kahaniyan : Mithileshwar
Pratinidhi Kahaniyan : Mithileshwar
Pratinidhi Kahaniyan : Mithileshwar
Pratinidhi Kahaniyan : Mithileshwar

Pratinidhi Kahaniyan : Mithileshwar

Regular price Rs. 92
Sale price Rs. 92 Regular price Rs. 99
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Pratinidhi Kahaniyan : Mithileshwar

Pratinidhi Kahaniyan : Mithileshwar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मिथिलेश्वर हिन्दी कथा-साहित्य में एक अलग महत्त्व रखते हैं। प्रेमचन्द और रेणु के बाद हिन्दी कहानी से जिस गाँव को निष्कासित कर दिया गया था, अपनी कहानियों में मिथिलेश्वर ने उसी की प्रतिष्ठा की है। दूसरे शब्दों में, वे ग्रामीण यथार्थ के महत्त्वपूर्ण कथाकार हैं और उन्होंने आज की कहानी को संघर्षशील जीवन-दृष्टि तथा रचनात्मक सहजता के साथ पुन: सामाजिक बनाने का कार्य किया है।
इस संग्रह में शामिल उनकी प्राय: सभी कहानियाँ बहुचर्चित रही हैं। ये सभी कहानियाँ वर्तमान ग्रामीण जीवन के विभिन्न अन्तर्विरोधों को उद्‌घाटित करती हैं, जिससे पता चलता है कि आज़ादी के बाद ग्रामीण यथार्थ किस हद तक भयावह और जटिल हुआ है। बदलने के नाम पर ग़रीब के शोषण के तरीक़े बदले हैं और विकास के नाम पर उनमें शहर और उसकी बहुविध विकृतियाँ पहुँची हैं।
निस्सन्देह इन कहानियों में लेखक ने जिन जीवन-स्थितियों और पात्रों का चित्रण किया है, वे हमारी जानकारी में कुछ बुनियादी इज़ाफ़ा करते हैं और उनकी निराडम्बर भाषा-शैली इन कहानियों को और अधिक सार्थक बनाती हैं। Mithileshvar hindi katha-sahitya mein ek alag mahattv rakhte hain. Premchand aur renu ke baad hindi kahani se jis ganv ko nishkasit kar diya gaya tha, apni kahaniyon mein mithileshvar ne usi ki pratishta ki hai. Dusre shabdon mein, ve gramin yatharth ke mahattvpurn kathakar hain aur unhonne aaj ki kahani ko sangharshshil jivan-drishti tatha rachnatmak sahajta ke saath pun: samajik banane ka karya kiya hai. Is sangrah mein shamil unki pray: sabhi kahaniyan bahucharchit rahi hain. Ye sabhi kahaniyan vartman gramin jivan ke vibhinn antarvirodhon ko ud‌ghatit karti hain, jisse pata chalta hai ki aazadi ke baad gramin yatharth kis had tak bhayavah aur jatil hua hai. Badalne ke naam par garib ke shoshan ke tariqe badle hain aur vikas ke naam par unmen shahar aur uski bahuvidh vikritiyan pahunchi hain.
Nissandeh in kahaniyon mein lekhak ne jin jivan-sthitiyon aur patron ka chitran kiya hai, ve hamari jankari mein kuchh buniyadi izafa karte hain aur unki niradambar bhasha-shaili in kahaniyon ko aur adhik sarthak banati hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products