Pracheen Bharat Ki Sanskriti Aur Sabhyata

Regular price Rs. 925
Sale price Rs. 925 Regular price Rs. 995
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Pracheen Bharat Ki Sanskriti Aur Sabhyata

Pracheen Bharat Ki Sanskriti Aur Sabhyata

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्राचीन भारतीय संस्कृति और सभ्यता के वैज्ञानिक व्याख्याकार दामोदर धर्मानंद कोसंबी का नाम इतिहास के विद्यार्थियों के लिए सुपरिचित है। प्रो. कोसंबी पेशे से गणितज्ञ थे और लम्बे अरसे तक बम्‍बई के 'टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ़ फ़ंडामेंटल रिसर्च' में गणित के प्रोफ़ेसर रहे। इतिहास में कई ग्रन्थों का प्रणयन करने के साथ-साथ उन्होंने समाजशास्त्र, नृतत्‍त्‍व विज्ञान और संस्कृत साहित्य को लेकर अनेक शोधपत्र लिखे हैं।
प्रस्तुत पुस्तक प्राचीन भारत की संस्कृति और सभ्यता को वैज्ञानिक विकास के परिप्रेक्ष्य में व्याख्यायित-विश्लेषित करने का महत्त्वपूर्ण प्रयास है। उत्पादन के साधनों में परिवर्तन किस प्रकार हमारे सांस्कृतिक विकास को प्रभावित करता है, इसका सुसंगत विवेचन इस पुस्तक में किया गया है। इतिहास के कुछ जटिल प्रश्नों को समझने-समझाने का प्रयास भी यहाँ दिखाई पड़ता है। उन अनेक प्रश्नों में कुछ प्रश्न हैं : क्या अन्न-संकलन और पशु-चारण की अवस्था से गुज़रते हुए कृषि-युग तक आकर नए धर्म की आवश्यकता अनुभव की गई थी? सिन्धु घाटी की सभ्यता के दौरान विकसित नगरों का विनाश कैसे हुआ? क्या आर्य नाम की कोई जाति थी और अगर थी तो वे कौन लोग थे? क्या किसी काल में वर्ण-व्यवस्था की भारतीय समाज में कोई सार्थक भूमिका थी?
लन्दन के 'टाइम्स लिटरेरी सप्लीमेंट' ने इस पुस्तक की समीक्षा करते हुए इसे 'ज्वलन्त रूप से मौलिक कार्य' तथा 'भारत का पहला सांस्कृतिक इतिहास' बताया था।
इस पुस्तक के रूप में प्रो. कोसंबी ने भारत के प्राचीन इतिहास को न केवल प्रेरक बल्कि सुबोध भी बना दिया है। Prachin bhartiy sanskriti aur sabhyta ke vaigyanik vyakhyakar damodar dharmanand kosambi ka naam itihas ke vidyarthiyon ke liye suparichit hai. Pro. Kosambi peshe se ganitagya the aur lambe arse tak bam‍bai ke tata instityut auf fandamental risarch mein ganit ke profesar rahe. Itihas mein kai granthon ka pranyan karne ke sath-sath unhonne samajshastr, nritat‍‍va vigyan aur sanskrit sahitya ko lekar anek shodhpatr likhe hain. Prastut pustak prachin bharat ki sanskriti aur sabhyta ko vaigyanik vikas ke pariprekshya mein vyakhyayit-vishleshit karne ka mahattvpurn pryas hai. Utpadan ke sadhnon mein parivartan kis prkar hamare sanskritik vikas ko prbhavit karta hai, iska susangat vivechan is pustak mein kiya gaya hai. Itihas ke kuchh jatil prashnon ko samajhne-samjhane ka pryas bhi yahan dikhai padta hai. Un anek prashnon mein kuchh prashn hain : kya ann-sanklan aur pashu-charan ki avastha se guzarte hue krishi-yug tak aakar ne dharm ki aavashyakta anubhav ki gai thi? sindhu ghati ki sabhyta ke dauran viksit nagron ka vinash kaise hua? kya aarya naam ki koi jati thi aur agar thi to ve kaun log the? kya kisi kaal mein varn-vyvastha ki bhartiy samaj mein koi sarthak bhumika thi?
Landan ke taims litreri sapliment ne is pustak ki samiksha karte hue ise jvlant rup se maulik karya tatha bharat ka pahla sanskritik itihas bataya tha.
Is pustak ke rup mein pro. Kosambi ne bharat ke prachin itihas ko na keval prerak balki subodh bhi bana diya hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products