BackBack
-11%

Pracheen Bharat

Prashant Gaurav

Rs. 695 Rs. 619

भारतीय इतिहास का सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण काल प्राचीनकाल है। राजनीति, अर्थव्यवस्था, कला, संस्कृति एवं विज्ञान के क्षेत्र में इस काल का योगदान अमूल्य है। प्राचीन इतिहास के अध्ययन का मिज़ाज बदला है। संस्कृति और सभ्यता को विकसित करने में राजा–रानी, सामन्त–मंत्री, सेना आदि से ज़्यादा महत्त्वपूर्ण अब विज्ञान और प्रौद्योगिकी को... Read More

BlackBlack
Description

भारतीय इतिहास का सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण काल प्राचीनकाल है। राजनीति, अर्थव्यवस्था, कला, संस्कृति एवं विज्ञान के क्षेत्र में इस काल का योगदान अमूल्य है। प्राचीन इतिहास के अध्ययन का मिज़ाज बदला है। संस्कृति और सभ्यता को विकसित करने में राजा–रानी, सामन्त–मंत्री, सेना आदि से ज़्यादा महत्त्वपूर्ण अब विज्ञान और प्रौद्योगिकी को स्वीकारा जाने लगा है। परम्परा को जीवित रखने अथवा उसमें अदलाव–बदलाव लाने में ग़रीबों, शिल्पकारों, मज़दूरों और स्त्रियों की भूमिका के वैज्ञानिक महत्त्व को समझने–जानने को आवश्यक माना जाने लगा है। फलस्वरूप प्राचीन इतिहास का परम्परावादी रूप राष्ट्रीय–अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर बदला है। प्रस्तुत पुस्तक इन सभी नवीन तत्त्वों को ध्यान में रखकर तैयार की गई है। इसमें नकारात्मक पहलुओं पर कम ध्यान देते हुए सकारात्मक और मुख्यधारा से जुड़े तथ्यों तथा नवीन शोध परिणामों को प्रस्तुत करने का ज़्यादा प्रयास किया गया है। प्राचीनकाल के किन–किन विशेषताओं का अस्तित्व आधुनिककाल में महत्त्वपूर्ण रूप में बना हुआ है, क्या है योगदान प्राचीनकाल का—इन पर बेहतर और नवीन प्रकाश डालने का प्रयास इस पुस्तक में किया गया है।
‘भारतीय परिधान की प्राचीनता और विकास के चरण’, ‘प्राचीन और आधुनिककाल के बीच निरन्तरता’, ‘कला के विकास में विज्ञान की भूमिका’, ‘नगरीकरण का प्रथम एवं द्वितीय चरण’, ‘प्राचीन श्रृंगार की उपस्थिति आधुनिककाल में’ जैसे चन्द महत्त्वपूर्ण अध्यायों को पुस्तक में प्रस्तुत किया गया है। प्राचीन भारत के इतिहास लेखन में सम्भवत: यह पहला प्रयास है।
केन्द्रीय प्रतियोगी परीक्षाओं, प्रान्तीय प्रतियोगी परीक्षाओं और दिल्ली तथा पटना विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम को ध्यान में रखते हुए प्रस्तुत पुस्तक को तैयार किया गया है। विश्वास है, छात्रों के लिए यह पुस्तक उपयोगी सिद्ध होगी। Bhartiy itihas ka sarvadhik mahattvpurn kaal prachinkal hai. Rajniti, arthavyvastha, kala, sanskriti evan vigyan ke kshetr mein is kaal ka yogdan amulya hai. Prachin itihas ke adhyyan ka mizaj badla hai. Sanskriti aur sabhyta ko viksit karne mein raja–rani, samant–mantri, sena aadi se zyada mahattvpurn ab vigyan aur praudyogiki ko svikara jane laga hai. Parampra ko jivit rakhne athva usmen adlav–badlav lane mein garibon, shilpkaron, mazduron aur striyon ki bhumika ke vaigyanik mahattv ko samajhne–janne ko aavashyak mana jane laga hai. Phalasvrup prachin itihas ka parampravadi rup rashtriy–antarrashtriy star par badla hai. Prastut pustak in sabhi navin tattvon ko dhyan mein rakhkar taiyar ki gai hai. Ismen nakaratmak pahaluon par kam dhyan dete hue sakaratmak aur mukhydhara se jude tathyon tatha navin shodh parinamon ko prastut karne ka zyada pryas kiya gaya hai. Prachinkal ke kin–kin visheshtaon ka astitv aadhunikkal mein mahattvpurn rup mein bana hua hai, kya hai yogdan prachinkal ka—in par behtar aur navin prkash dalne ka pryas is pustak mein kiya gaya hai. ‘bhartiy paridhan ki prachinta aur vikas ke charan’, ‘prachin aur aadhunikkal ke bich nirantarta’, ‘kala ke vikas mein vigyan ki bhumika’, ‘nagrikran ka prtham evan dvitiy charan’, ‘prachin shrringar ki upasthiti aadhunikkal men’ jaise chand mahattvpurn adhyayon ko pustak mein prastut kiya gaya hai. Prachin bharat ke itihas lekhan mein sambhvat: ye pahla pryas hai.
Kendriy pratiyogi parikshaon, prantiy pratiyogi parikshaon aur dilli tatha patna vishvvidyalay ke pathyakram ko dhyan mein rakhte hue prastut pustak ko taiyar kiya gaya hai. Vishvas hai, chhatron ke liye ye pustak upyogi siddh hogi.