BackBack
-11%

Pracheen Bharat

Radhakumud Mukherji

Rs. 550 Rs. 490

Rajkamal Prakashan

राधाकुमुद मुखर्जी ने भारतीय इतिहास के अनेक पक्षों पर अपनी लेखनी चलाई है, लेकिन ख़ास तौर से प्राचीन संस्कृति, प्राचीन कला और धर्म तथा राजनीतिक विचार उनके अध्ययन और लेखन के महत्त्वपूर्ण क्षेत्र रहे हैं। प्रस्तुत पुस्तक में प्रो. मुखर्जी ने प्राचीन भारतीय इतिहास का परिचय सरल-सुबोध शैली में दिया... Read More

Description

राधाकुमुद मुखर्जी ने भारतीय इतिहास के अनेक पक्षों पर अपनी लेखनी चलाई है, लेकिन ख़ास तौर से प्राचीन संस्कृति, प्राचीन कला और धर्म तथा राजनीतिक विचार उनके अध्ययन और लेखन के महत्त्वपूर्ण क्षेत्र रहे हैं। प्रस्तुत पुस्तक में प्रो. मुखर्जी ने प्राचीन भारतीय इतिहास का परिचय सरल-सुबोध शैली में दिया है। प्रारम्भ में भारतीय इतिहास पर भूगोल के प्रभाव का विवेचन करते हुए उन्होंने इसकी मूलभूत एकता के तत्त्वों का आकलन किया है। इसमें उन तत्त्वों को उन्होंने विशेष रूप से रेखांकित किया है जो देश की एकता को सदियों से पुष्ट करते रहे हैं और जिनके कारण ही बृहत्तर भारत का निर्माण सम्भव हो सका। यहाँ यह द्रष्टव्य है कि अपने सारे विवेचन में उन्होंने राष्ट्रीयता और जनतंत्र की नैतिक आधारशिला के रूप में अखिल भारतीय दृष्टिकोण को ही प्रमुखता दी है और उनका विवेचन सर्वत्र एक धर्मनिरपेक्ष वैज्ञानिक दृष्टि से परिपुष्ट है।
प्रो. मुखर्जी ने यहाँ प्रागैतिहासिक काल से लेकर हर्षवर्धन के बाद तक के इतिहास को अपने विवेचन का विषय बनाया है और इस लम्बी अवधि के इतिहास की राजनीतिक-आर्थिक परिस्थितियों का अध्ययन करने के साथ-ही-साथ उस काल की सामाजिक-सांस्कृतिक उपलब्धियों को भी संक्षिप्त और सुगठित तरीक़े से इस पुस्तक में समेटा है।
प्रो. मुखर्जी की यह पुस्तक एक ओर अपनी प्रामाणिकता के कारण विद्वानों के लिए उपयोगी है तो दूसरी ओर भाषा-शैली की सरलता तथा रोचकता के कारण विश्वविद्यालयी छात्रों तथा इतिहास में रुचि रखनेवाले सामान्य लोगों के लिए भी उपयोगी है। Radhakumud mukharji ne bhartiy itihas ke anek pakshon par apni lekhni chalai hai, lekin khas taur se prachin sanskriti, prachin kala aur dharm tatha rajnitik vichar unke adhyyan aur lekhan ke mahattvpurn kshetr rahe hain. Prastut pustak mein pro. Mukharji ne prachin bhartiy itihas ka parichay saral-subodh shaili mein diya hai. Prarambh mein bhartiy itihas par bhugol ke prbhav ka vivechan karte hue unhonne iski mulbhut ekta ke tattvon ka aaklan kiya hai. Ismen un tattvon ko unhonne vishesh rup se rekhankit kiya hai jo desh ki ekta ko sadiyon se pusht karte rahe hain aur jinke karan hi brihattar bharat ka nirman sambhav ho saka. Yahan ye drashtavya hai ki apne sare vivechan mein unhonne rashtriyta aur jantantr ki naitik aadharashila ke rup mein akhil bhartiy drishtikon ko hi pramukhta di hai aur unka vivechan sarvatr ek dharmanirpeksh vaigyanik drishti se paripusht hai. Pro. Mukharji ne yahan pragaitihasik kaal se lekar harshvardhan ke baad tak ke itihas ko apne vivechan ka vishay banaya hai aur is lambi avadhi ke itihas ki rajnitik-arthik paristhitiyon ka adhyyan karne ke sath-hi-sath us kaal ki samajik-sanskritik uplabdhiyon ko bhi sankshipt aur sugthit tariqe se is pustak mein sameta hai.
Pro. Mukharji ki ye pustak ek or apni pramanikta ke karan vidvanon ke liye upyogi hai to dusri or bhasha-shaili ki saralta tatha rochakta ke karan vishvvidyalyi chhatron tatha itihas mein ruchi rakhnevale samanya logon ke liye bhi upyogi hai.