Patkatha Lekhan : Ek parichay

Regular price Rs. 209
Sale price Rs. 209 Regular price Rs. 225
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Patkatha Lekhan : Ek parichay

Patkatha Lekhan : Ek parichay

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

पटकथा-लेखन एक हुनर है। अंग्रेज़ी में पटकथा-लेखन के बारे में पचासों किताबें उपलब्ध हैं और विदेशों के, ख़ासकर अमेरिका के कई विश्वविद्यालयों में पटकथा-लेखन के बाक़ायदा पाठ्यक्रम चलते हैं। लेकिन भारत में इस दिशा में अभी तक कोई पहल नहीं हुई। हिन्दी में तो पटकथा-लेखन और सिनेमा से जुड़ी अन्य विधाओं के बारे में कोई अच्छी किताब छपी ही नहीं है। इसकी एक वजह यह भी है कि हिन्दी में सामान्यतः यह माना जाता रहा है कि लिखना चाहे किसी भी तरह का हो, उसे सिखाया नहीं जा सकता। कई बार तो लगता है कि शायद हम मानते हैं कि लिखना सीखना भी नहीं चाहिए। यह मान्यता भ्रामक है और इसी का नतीजा है कि हिन्दी वाले गीत-लेखन, रेडियो, रंगमंच, सिनेमा, टी.वी. और विज्ञापन आदि में ज़्यादा नहीं चल पाए।
लेकिन इधर फ़िल्म व टी.वी. के प्रसार और पटकथा-लेखन में रोज़गार की बढ़ती सम्भावनाओं को देखते हुए अनेक लोग पटकथा-लेखन में रुचि लेने लगे हैं, और पटकथा के शिल्प की आधारभूत जानकारी चाहते हैं। अफ़सोस कि हिन्दी में ऐसी जानकारी देनेवाली पुस्तक अब तक उपलब्ध ही नहीं थी।
‘पटकथा-लेखन : एक परिचय’ इसी दिशा में एक बड़ी शुरुआत है, न सिर्फ़ इसलिए कि इसके लेखक सिद्ध पटकथाकार मनोहर श्याम जोशी हैं, बल्कि इसलिए भी कि उन्होंने इस पुस्तक की एक-एक पंक्ति लिखते हुए उस पाठक को ध्यान में रखा है जो फ़िल्म और टी.वी. में होनेवाले लेखन का ‘क, ख, ग’ भी नहीं जानता। प्राथमिक स्तर की जानकारियों से शुरू करके यह पुस्तक हमें पटकथा-लेखन और फ़िल्म व टी.वी. की अनेक माध्यमगत विशेषताओं तक पहुँचाती है; और सो भी इतनी दिलचस्प और जीवन्त शैली में कि पुस्तक पढ़ने के बाद आप स्वतः ही पटकथा पर हाथ आज़माने की सोचने लगते हैं। Pataktha-lekhan ek hunar hai. Angrezi mein pataktha-lekhan ke bare mein pachason kitaben uplabdh hain aur videshon ke, khaskar amerika ke kai vishvvidyalyon mein pataktha-lekhan ke baqayda pathyakram chalte hain. Lekin bharat mein is disha mein abhi tak koi pahal nahin hui. Hindi mein to pataktha-lekhan aur sinema se judi anya vidhaon ke bare mein koi achchhi kitab chhapi hi nahin hai. Iski ek vajah ye bhi hai ki hindi mein samanyatः ye mana jata raha hai ki likhna chahe kisi bhi tarah ka ho, use sikhaya nahin ja sakta. Kai baar to lagta hai ki shayad hum mante hain ki likhna sikhna bhi nahin chahiye. Ye manyta bhramak hai aur isi ka natija hai ki hindi vale git-lekhan, rediyo, rangmanch, sinema, ti. Vi. Aur vigyapan aadi mein zyada nahin chal paye. Lekin idhar film va ti. Vi. Ke prsar aur pataktha-lekhan mein rozgar ki badhti sambhavnaon ko dekhte hue anek log pataktha-lekhan mein ruchi lene lage hain, aur pataktha ke shilp ki aadharbhut jankari chahte hain. Afsos ki hindi mein aisi jankari denevali pustak ab tak uplabdh hi nahin thi.
‘pataktha-lekhan : ek parichay’ isi disha mein ek badi shuruat hai, na sirf isaliye ki iske lekhak siddh patakthakar manohar shyam joshi hain, balki isaliye bhi ki unhonne is pustak ki ek-ek pankti likhte hue us pathak ko dhyan mein rakha hai jo film aur ti. Vi. Mein honevale lekhan ka ‘ka, kha, ga’ bhi nahin janta. Prathmik star ki jankariyon se shuru karke ye pustak hamein pataktha-lekhan aur film va ti. Vi. Ki anek madhyamgat visheshtaon tak pahunchati hai; aur so bhi itni dilchasp aur jivant shaili mein ki pustak padhne ke baad aap svatः hi pataktha par hath aazmane ki sochne lagte hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products