BackBack
-11%

Parishishta

Giriraj Kishore

Rs. 450 Rs. 401

‘दिनमान’ (5-11 अगस्त, 1984) के ‘फ़िलहाल’ स्तम्भ में, ‘परिशिष्ट’ के बारे में गिरिराज किशोर का कथन छपा था, “अनुसूचित कोई जाति नहीं, मानसिकता है। जिसे अभिजातवर्ग (जिसका वर्चस्व हो) परे ढकेल देता है, वह अनुसूचित हो जाता है।” ‘परिशिष्ट’ इसी भयानक मानसिकता को उद्घाटित करनेवाला एक महाअभियोग है। अपने बहुचर्चित... Read More

BlackBlack
Description

‘दिनमान’ (5-11 अगस्त, 1984) के ‘फ़िलहाल’ स्तम्भ में, ‘परिशिष्ट’ के बारे में गिरिराज किशोर का कथन छपा था, “अनुसूचित कोई जाति नहीं, मानसिकता है। जिसे अभिजातवर्ग (जिसका वर्चस्व हो) परे ढकेल देता है, वह अनुसूचित हो जाता है।” ‘परिशिष्ट’ इसी भयानक मानसिकता को उद्घाटित करनेवाला एक महाअभियोग है। अपने बहुचर्चित उपन्यास ‘यथा प्रस्तावित’ में भी गिरिराज ने इसी वर्ग की दारुण पीड़ा को चित्रित किया था। राष्ट्रीय महत्त्व की महान शिक्षा-संस्थाओं में किसी तरह दाख़िला प्राप्त करनेवाले साधनहीन और तथाकथित जातिहीन छात्रों की त्रासदी, उबलते तेल में डाल दिए जानेवाले व्यक्ति के संत्रास की तरह होती है जो पहली बार ‘परिशिष्ट’ के रूप में सामने आई है।
राष्ट्रीय स्तर पर ऊँच-नीच और छुआछूत का विष फैला है। आरक्षणवादी नीतियों के बावजूद इनसान को जिस अमानवीय स्थिति का सामना करना पड़ता है, वह हर एक को अपने गिरहबान में मुँह डालकर झाँकने के लिए मजबूर करती है। उपन्यास से पता चलता है कि लेखक उस सबका अन्तरंग साक्षी है। अपनी मुक्ति की लड़ाई लड़नेवाला हर पात्र एक ऐसे दबाव में जीने के लिए मजबूर है जो या तो उसे मरने के लिए बाध्य करता है या फिर संघर्ष को तेज़ कर देने की ख़ामोश प्रेरणा देता है। यह उपन्यास गिरिराज किशोर की पहचान को ही गहरा नहीं करता बल्कि हिन्दी उपन्यास की परम्परा को समृद्ध भी करता है।
एक लड़ाकू जहाज़ की तरह ऊपर उठते-उठते फट पड़नेवाला, उसी वर्ग का एक पात्र रामउजागर आत्महत्या से पहले नोट लिखकर जेब में रख लेता है कि “मेरा जाना स्वेच्छा से है। गवेषणात्मक है। हालाँकि उसका प्रतिफल दूसरों को बाँट पाना सम्भव नहीं होगा।...किसी घृणा या शिकायत के कारण नहीं, एक आत्मीयता और आत्म-सन्तोष के कारण मेरा केवल यही प्रश्न है कि जब प्रकृति, जिससे हम सब कुछ पाते हैं, घृणामुक्त है, तो मनुष्य मुक्त क्यों नहीं?”... उपन्यास का नायक अनुकूल एक संकल्पशील व्यक्ति है जो सहता है, भोगता है और विचलित नहीं होता। वस्तुतः ‘परिशिष्ट’ संत्रास, संघर्ष और संकल्प की महागाथा है। ‘dinman’ (5-11 agast, 1984) ke ‘filhal’ stambh mein, ‘parishisht’ ke bare mein giriraj kishor ka kathan chhapa tha, “anusuchit koi jati nahin, manasikta hai. Jise abhijatvarg (jiska varchasv ho) pare dhakel deta hai, vah anusuchit ho jata hai. ” ‘parishisht’ isi bhayanak manasikta ko udghatit karnevala ek mahaabhiyog hai. Apne bahucharchit upanyas ‘yatha prastavit’ mein bhi giriraj ne isi varg ki darun pida ko chitrit kiya tha. Rashtriy mahattv ki mahan shiksha-sansthaon mein kisi tarah dakhila prapt karnevale sadhanhin aur tathakthit jatihin chhatron ki trasdi, ubalte tel mein daal diye janevale vyakti ke santras ki tarah hoti hai jo pahli baar ‘parishisht’ ke rup mein samne aai hai. Rashtriy star par uunch-nich aur chhuachhut ka vish phaila hai. Aarakshanvadi nitiyon ke bavjud insan ko jis amanviy sthiti ka samna karna padta hai, vah har ek ko apne girahban mein munh dalkar jhankane ke liye majbur karti hai. Upanyas se pata chalta hai ki lekhak us sabka antrang sakshi hai. Apni mukti ki ladai ladnevala har patr ek aise dabav mein jine ke liye majbur hai jo ya to use marne ke liye badhya karta hai ya phir sangharsh ko tez kar dene ki khamosh prerna deta hai. Ye upanyas giriraj kishor ki pahchan ko hi gahra nahin karta balki hindi upanyas ki parampra ko samriddh bhi karta hai.
Ek ladaku jahaz ki tarah uupar uthte-uthte phat padnevala, usi varg ka ek patr ramaujagar aatmhatya se pahle not likhkar jeb mein rakh leta hai ki “mera jana svechchha se hai. Gaveshnatmak hai. Halanki uska pratiphal dusron ko bant pana sambhav nahin hoga. . . . Kisi ghrina ya shikayat ke karan nahin, ek aatmiyta aur aatm-santosh ke karan mera keval yahi prashn hai ki jab prkriti, jisse hum sab kuchh pate hain, ghrinamukt hai, to manushya mukt kyon nahin?”. . . Upanyas ka nayak anukul ek sankalpshil vyakti hai jo sahta hai, bhogta hai aur vichlit nahin hota. Vastutः ‘parishisht’ santras, sangharsh aur sankalp ki mahagatha hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year