Paon Ka Sanichar

Regular price Rs. 145
Sale price Rs. 145 Regular price Rs. 156
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Paon Ka Sanichar

Paon Ka Sanichar

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अपने समय के चर्चित पत्रकार और लेखक अखिलेश मिश्र के इस पहले उपन्यास में आज़ादी से पूर्व के उत्तर भारत के ग्रामीण परिवेश के सौहार्दपूर्ण सामाजिक जीवन का जीवन्त चित्रण हुआ है।
बटोहियों की बतकही के अद् भुत कथारस से आप्लावित यह आख्यान ग्रामीण जीवन के कई अनछुए पहलुओं से साक्षात्कार कराता है।
इसमें एक बच्चे के युवा होने तक के जीवनानुभव की कथा के माध्यम से देश-काल के हरेक छोटे-बड़े विडम्बनापूर्ण क्रिया-व्यवहारों, रूढ़ियों और अन्धविश्वासों पर मारक व्यंग्य किया गया है। पूरा उपन्यास इस विद्रोही ‘जनमदागी’ नायक की शरारतों (और शरारतें भी कैसी-कैसी—नुसरत की नानी की अँगनई में बैठकर चोटइया काट डालने, छुआछूत नहीं मानने की ज़िद में नीच जाति से रोटी लेकर खाने, उसी की गगरी से पानी पीने, गुलेल से निशाना साधने, तालाब में तैरने आदि की पूरी कथा) से भरा पड़ा है। यही विद्रोही मानसिकता आगे चलकर धार्मिक कर्मकांडों और अंग्रेज़ों की सत्ता के विरुद्ध संघर्ष में तब्दील हो जाती है।
इसमें तत्कालीन समाज में स्त्रियों की स्थिति-नियति का जिस संवेदनापूर्ण ढंग से चित्रण हुआ है और उस स्थिति के ख़िलाफ़ लेखकीय व्यंग्य की त्वरा जिस रूप में उभरकर सामने आई है, वह भी विशेष रूप से उल्लेखनीय है।
इस उपन्यास को विरल कथ्य के साथ-साथ शैली लाघव और कहन की भंगिमा के लिए भी लम्बे समय तक याद रखा जाएगा। Apne samay ke charchit patrkar aur lekhak akhilesh mishr ke is pahle upanyas mein aazadi se purv ke uttar bharat ke gramin parivesh ke sauhardpurn samajik jivan ka jivant chitran hua hai. Batohiyon ki batakhi ke ad bhut katharas se aaplavit ye aakhyan gramin jivan ke kai anachhue pahaluon se sakshatkar karata hai.
Ismen ek bachche ke yuva hone tak ke jivnanubhav ki katha ke madhyam se desh-kal ke harek chhote-bade vidambnapurn kriya-vyavharon, rudhiyon aur andhvishvason par marak vyangya kiya gaya hai. Pura upanyas is vidrohi ‘janamdagi’ nayak ki shararton (aur shararten bhi kaisi-kaisi—nusrat ki nani ki anganai mein baithkar chotaiya kaat dalne, chhuachhut nahin manne ki zid mein nich jati se roti lekar khane, usi ki gagri se pani pine, gulel se nishana sadhne, talab mein tairne aadi ki puri katha) se bhara pada hai. Yahi vidrohi manasikta aage chalkar dharmik karmkandon aur angrezon ki satta ke viruddh sangharsh mein tabdil ho jati hai.
Ismen tatkalin samaj mein striyon ki sthiti-niyati ka jis sanvednapurn dhang se chitran hua hai aur us sthiti ke khilaf lekhkiy vyangya ki tvra jis rup mein ubharkar samne aai hai, vah bhi vishesh rup se ullekhniy hai.
Is upanyas ko viral kathya ke sath-sath shaili laghav aur kahan ki bhangima ke liye bhi lambe samay tak yaad rakha jayega.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products