BackBack
-11%

Pachpan Khambhe Lal Deewaren

Usha Priyamvada

Rs. 175 Rs. 156

उषा प्रियम्वदा की गणना हिन्दी के उन कथाकारों में होती है जिन्होंने आधुनिक जीवन की ऊब, छटपटाहट, संत्रास और अकेलेपन की स्थिति को अनुभूति के स्तर पर पहचाना और व्यक्त किया है। यही कारण है कि उनकी रचनाओं में एक ओर आधुनिकता का प्रबल स्वर मिलता है तो दूसरी ओर... Read More

Description

उषा प्रियम्वदा की गणना हिन्दी के उन कथाकारों में होती है जिन्होंने आधुनिक जीवन की ऊब, छटपटाहट, संत्रास और अकेलेपन की स्थिति को अनुभूति के स्तर पर पहचाना और व्यक्त किया है। यही कारण है कि उनकी रचनाओं में एक ओर आधुनिकता का प्रबल स्वर मिलता है तो दूसरी ओर उनमें चित्रित प्रसंगों तथा संवेदनाओं के साथ हर वर्ग का पाठक तादात्म्य का अनुभव करता है; यहाँ तक कि पुराने संस्कारवाले पाठकों को भी किसी तरह के अटपटेपन का एहसास नहीं होता।
‘पचपन खम्भे लाल दीवारें’ उषा प्रियम्वदा का पहला उपन्यास है, जिसमें एक भारतीय नारी की सामाजिक-आर्थिक विवशताओं से जन्मी मानसिक यंत्रणा का बड़ा ही मार्मिक चित्रण हुआ है।
छात्रावास के पचपन खम्भे और लाल दीवारें उन परिस्थितियों के प्रतीक हैं जिनमें रहकर सुषमा को ऊब तथा घुटन का तीखा एहसास होता है, लेकिन फिर भी वह उनसे मुक्त नहीं हो पाती, शायद होना नहीं चाहती।
उन परिस्थितियों के बीच जीना ही उसकी नियति है। आधुनिक जीवन की यह एक बड़ी विडम्बना है कि जो हम नहीं चाहते, वही करने को विवश हैं। लेखिका ने इस स्थिति को बड़े ही कलात्मक ढंग से प्रस्तुत उपन्यास में चित्रित किया है। Usha priyamvda ki ganna hindi ke un kathakaron mein hoti hai jinhonne aadhunik jivan ki uub, chhataptahat, santras aur akelepan ki sthiti ko anubhuti ke star par pahchana aur vyakt kiya hai. Yahi karan hai ki unki rachnaon mein ek or aadhunikta ka prbal svar milta hai to dusri or unmen chitrit prsangon tatha sanvednaon ke saath har varg ka pathak tadatmya ka anubhav karta hai; yahan tak ki purane sanskarvale pathkon ko bhi kisi tarah ke ataptepan ka ehsas nahin hota. ‘pachpan khambhe laal divaren’ usha priyamvda ka pahla upanyas hai, jismen ek bhartiy nari ki samajik-arthik vivashtaon se janmi mansik yantrna ka bada hi marmik chitran hua hai.
Chhatravas ke pachpan khambhe aur laal divaren un paristhitiyon ke prtik hain jinmen rahkar sushma ko uub tatha ghutan ka tikha ehsas hota hai, lekin phir bhi vah unse mukt nahin ho pati, shayad hona nahin chahti.
Un paristhitiyon ke bich jina hi uski niyati hai. Aadhunik jivan ki ye ek badi vidambna hai ki jo hum nahin chahte, vahi karne ko vivash hain. Lekhika ne is sthiti ko bade hi kalatmak dhang se prastut upanyas mein chitrit kiya hai.