BackBack

Odyssey

Homer, Tr. Ramesh Chandra Sinha

Rs. 550

विश्वप्रसिद्ध ट्रॉय-युद्ध के महान योद्धा ओडिसियस की घर वापसी का वृत्तान्त है—‘ओडिसी’। प्राचीन यूरोप के महान रचनाकार होमर की कथाकारिता का बेमिसाल नमूना है। यह ग्रन्थ जिसकी विशेषताओं की पुनरावृत्ति परवर्ती कथाकारों से सम्भव नहीं हो सकी। इस ग्रन्थ ने सम्पूर्ण विश्व के कथा साहित्य को प्रभावित किया है। इसका... Read More

readsample_tab

विश्वप्रसिद्ध ट्रॉय-युद्ध के महान योद्धा ओडिसियस की घर वापसी का वृत्तान्त है—‘ओडिसी’। प्राचीन यूरोप के महान रचनाकार होमर की कथाकारिता का बेमिसाल नमूना है। यह ग्रन्थ जिसकी विशेषताओं की पुनरावृत्ति परवर्ती कथाकारों से सम्भव नहीं हो सकी।
इस ग्रन्थ ने सम्पूर्ण विश्व के कथा साहित्य को प्रभावित किया है। इसका रचनाफलक व्यापक है जिसमें मानवीय सम्बन्ध, क्रिया-कलाप और समाज के सभी पक्षों का समावेश है।
नित परिवर्तनशील विश्व के सुख-दु:ख और संघर्षों के चित्रण के माध्यम से ‘ओडिसी’ में होमर ने जीवन और जगत् के यथार्थ को उजागर करते हुए यह रेखांकित किया है कि साहस, उत्साह और जिज्ञासावृत्ति से ही मनुष्य सफलता के शिखर पर पहुँचता है।
होमर के रचना-कौशल ने दृश्य-जगत् की वास्तविकताओं को कुछ इस तरह सहेजा है कि यह ग्रन्थ साहित्य ही नहीं अपितु इतिहास, पुरातत्त्व, समाजशास्त्र, राजनीतिशास्त्र और मनोविज्ञान के खोजी विद्वानों के आकर्षण की वस्तु बन गया है।
जटिल संरचना के बावजूद ‘ओडिसी’ का कथाप्रवाह पाठकों का औत्सुक्य बनाए रखता है। अपनी इन विशेषताओं के कारण ही ई.पू. 850 के आसपास जन्मे होमर की यह कृति आज भी प्रेरणादायी बनी हुई है। Vishvaprsiddh trauy-yuddh ke mahan yoddha odisiyas ki ghar vapsi ka vrittant hai—‘odisi’. Prachin yurop ke mahan rachnakar homar ki kathakarita ka bemisal namuna hai. Ye granth jiski visheshtaon ki punravritti parvarti kathakaron se sambhav nahin ho saki. Is granth ne sampurn vishv ke katha sahitya ko prbhavit kiya hai. Iska rachnaphlak vyapak hai jismen manviy sambandh, kriya-kalap aur samaj ke sabhi pakshon ka samavesh hai.
Nit parivartanshil vishv ke sukh-du:kha aur sangharshon ke chitran ke madhyam se ‘odisi’ mein homar ne jivan aur jagat ke yatharth ko ujagar karte hue ye rekhankit kiya hai ki sahas, utsah aur jigyasavritti se hi manushya saphalta ke shikhar par pahunchata hai.
Homar ke rachna-kaushal ne drishya-jagat ki vastaviktaon ko kuchh is tarah saheja hai ki ye granth sahitya hi nahin apitu itihas, puratattv, samajshastr, rajnitishastr aur manovigyan ke khoji vidvanon ke aakarshan ki vastu ban gaya hai.
Jatil sanrachna ke bavjud ‘odisi’ ka kathaprvah pathkon ka autsukya banaye rakhta hai. Apni in visheshtaon ke karan hi ii. Pu. 850 ke aaspas janme homar ki ye kriti aaj bhi prernadayi bani hui hai.

Description

विश्वप्रसिद्ध ट्रॉय-युद्ध के महान योद्धा ओडिसियस की घर वापसी का वृत्तान्त है—‘ओडिसी’। प्राचीन यूरोप के महान रचनाकार होमर की कथाकारिता का बेमिसाल नमूना है। यह ग्रन्थ जिसकी विशेषताओं की पुनरावृत्ति परवर्ती कथाकारों से सम्भव नहीं हो सकी।
इस ग्रन्थ ने सम्पूर्ण विश्व के कथा साहित्य को प्रभावित किया है। इसका रचनाफलक व्यापक है जिसमें मानवीय सम्बन्ध, क्रिया-कलाप और समाज के सभी पक्षों का समावेश है।
नित परिवर्तनशील विश्व के सुख-दु:ख और संघर्षों के चित्रण के माध्यम से ‘ओडिसी’ में होमर ने जीवन और जगत् के यथार्थ को उजागर करते हुए यह रेखांकित किया है कि साहस, उत्साह और जिज्ञासावृत्ति से ही मनुष्य सफलता के शिखर पर पहुँचता है।
होमर के रचना-कौशल ने दृश्य-जगत् की वास्तविकताओं को कुछ इस तरह सहेजा है कि यह ग्रन्थ साहित्य ही नहीं अपितु इतिहास, पुरातत्त्व, समाजशास्त्र, राजनीतिशास्त्र और मनोविज्ञान के खोजी विद्वानों के आकर्षण की वस्तु बन गया है।
जटिल संरचना के बावजूद ‘ओडिसी’ का कथाप्रवाह पाठकों का औत्सुक्य बनाए रखता है। अपनी इन विशेषताओं के कारण ही ई.पू. 850 के आसपास जन्मे होमर की यह कृति आज भी प्रेरणादायी बनी हुई है। Vishvaprsiddh trauy-yuddh ke mahan yoddha odisiyas ki ghar vapsi ka vrittant hai—‘odisi’. Prachin yurop ke mahan rachnakar homar ki kathakarita ka bemisal namuna hai. Ye granth jiski visheshtaon ki punravritti parvarti kathakaron se sambhav nahin ho saki. Is granth ne sampurn vishv ke katha sahitya ko prbhavit kiya hai. Iska rachnaphlak vyapak hai jismen manviy sambandh, kriya-kalap aur samaj ke sabhi pakshon ka samavesh hai.
Nit parivartanshil vishv ke sukh-du:kha aur sangharshon ke chitran ke madhyam se ‘odisi’ mein homar ne jivan aur jagat ke yatharth ko ujagar karte hue ye rekhankit kiya hai ki sahas, utsah aur jigyasavritti se hi manushya saphalta ke shikhar par pahunchata hai.
Homar ke rachna-kaushal ne drishya-jagat ki vastaviktaon ko kuchh is tarah saheja hai ki ye granth sahitya hi nahin apitu itihas, puratattv, samajshastr, rajnitishastr aur manovigyan ke khoji vidvanon ke aakarshan ki vastu ban gaya hai.
Jatil sanrachna ke bavjud ‘odisi’ ka kathaprvah pathkon ka autsukya banaye rakhta hai. Apni in visheshtaon ke karan hi ii. Pu. 850 ke aaspas janme homar ki ye kriti aaj bhi prernadayi bani hui hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8126721245
Pages 352p
Publishing Year

Odyssey

विश्वप्रसिद्ध ट्रॉय-युद्ध के महान योद्धा ओडिसियस की घर वापसी का वृत्तान्त है—‘ओडिसी’। प्राचीन यूरोप के महान रचनाकार होमर की कथाकारिता का बेमिसाल नमूना है। यह ग्रन्थ जिसकी विशेषताओं की पुनरावृत्ति परवर्ती कथाकारों से सम्भव नहीं हो सकी।
इस ग्रन्थ ने सम्पूर्ण विश्व के कथा साहित्य को प्रभावित किया है। इसका रचनाफलक व्यापक है जिसमें मानवीय सम्बन्ध, क्रिया-कलाप और समाज के सभी पक्षों का समावेश है।
नित परिवर्तनशील विश्व के सुख-दु:ख और संघर्षों के चित्रण के माध्यम से ‘ओडिसी’ में होमर ने जीवन और जगत् के यथार्थ को उजागर करते हुए यह रेखांकित किया है कि साहस, उत्साह और जिज्ञासावृत्ति से ही मनुष्य सफलता के शिखर पर पहुँचता है।
होमर के रचना-कौशल ने दृश्य-जगत् की वास्तविकताओं को कुछ इस तरह सहेजा है कि यह ग्रन्थ साहित्य ही नहीं अपितु इतिहास, पुरातत्त्व, समाजशास्त्र, राजनीतिशास्त्र और मनोविज्ञान के खोजी विद्वानों के आकर्षण की वस्तु बन गया है।
जटिल संरचना के बावजूद ‘ओडिसी’ का कथाप्रवाह पाठकों का औत्सुक्य बनाए रखता है। अपनी इन विशेषताओं के कारण ही ई.पू. 850 के आसपास जन्मे होमर की यह कृति आज भी प्रेरणादायी बनी हुई है। Vishvaprsiddh trauy-yuddh ke mahan yoddha odisiyas ki ghar vapsi ka vrittant hai—‘odisi’. Prachin yurop ke mahan rachnakar homar ki kathakarita ka bemisal namuna hai. Ye granth jiski visheshtaon ki punravritti parvarti kathakaron se sambhav nahin ho saki. Is granth ne sampurn vishv ke katha sahitya ko prbhavit kiya hai. Iska rachnaphlak vyapak hai jismen manviy sambandh, kriya-kalap aur samaj ke sabhi pakshon ka samavesh hai.
Nit parivartanshil vishv ke sukh-du:kha aur sangharshon ke chitran ke madhyam se ‘odisi’ mein homar ne jivan aur jagat ke yatharth ko ujagar karte hue ye rekhankit kiya hai ki sahas, utsah aur jigyasavritti se hi manushya saphalta ke shikhar par pahunchata hai.
Homar ke rachna-kaushal ne drishya-jagat ki vastaviktaon ko kuchh is tarah saheja hai ki ye granth sahitya hi nahin apitu itihas, puratattv, samajshastr, rajnitishastr aur manovigyan ke khoji vidvanon ke aakarshan ki vastu ban gaya hai.
Jatil sanrachna ke bavjud ‘odisi’ ka kathaprvah pathkon ka autsukya banaye rakhta hai. Apni in visheshtaon ke karan hi ii. Pu. 850 ke aaspas janme homar ki ye kriti aaj bhi prernadayi bani hui hai.