Nirala Kavya ki Chhaviyan

Regular price Rs. 646
Sale price Rs. 646 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Nirala Kavya ki Chhaviyan

Nirala Kavya ki Chhaviyan

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

निराला आज खड़ी बोली के सर्वश्रेष्ठ कवि के रूप में मान्य हैं, लेकिन इस मान्यता तक उनके पहुँचने की भी एक कहानी है—संघर्षपूर्ण। उन्होंने एक तरफ़ कविता को मुक्त किया और दूसरी तरफ़ उसमें ऐसे अनुशासन की माँग थी, जिसकी पूर्ति बहुत थोड़े कवि कर सकते हैं। उनकी विशेषता यह है कि प्रचंड भावुक होते हुए भी वे एक विचारवान कवि थे और उनकी विचारशीलता स्थिर न होकर अपनी जटिलता में भी गतिशील थी। वे वस्तुतः भारतीय स्वाधीनता-आन्दोलन की देन थे, लेकिन उनकी स्वाधीनता की धारणा अपने समकालीन कवियों से बहुत आगे ही नहीं थी, बल्कि क्रान्तिकार थी। यही कारण है कि वे नई पीढ़ी के लिए भी प्रासंगिक बने हुए हैं। ‘निराला-काव्य की छवियाँ’ नामक इस पुस्तक का पहला खंड इन तमाम बातों का विश्लेषणपूर्ण साक्ष्य प्रस्तुत करता
है।
दूसरा खंड निराला की कुछ पूर्ववर्ती और परवर्ती चुनी हुई कविताओं की पाठ-केन्द्रित आलोचना से सम्बन्धित है। ‘प्रेयसी’, ‘राम की शक्ति-पूजा’, ‘तोड़ती पत्थर’, ‘वन-बेला’ और ‘हिन्दी के सुमनों के प्रति पत्र’ निराला की ऐसी कविताएँ हैं, जो उनके पूर्ववर्ती काव्य के विषय-वैविध्य को दर्शाती हैं। यहाँ उनकी व्याख्या के प्रसंग में उनकी अखंडता को ध्यान में रखते हुए उन्हें परत-दर-परत उधेड़कर देखने का प्रयास किया गया है। पुस्तक के दूसरे खंड की अप्रतिम विशेषता यह है कि इसमें कदाचित् पहली बार निराला के परवर्ती काव्य का मार्क्सवाद और हिन्दी प्रदेश के कृषक-समाज से सम्बन्ध पूर्वग्रहमुक्त होकर निरूपित किया गया है। जैसे ‘सुमनों के प्रति पत्र’ निराला की पूर्ववर्ती आत्मपरक सृष्टि है, वैसे ही ‘पत्रोकंठित जीवन’ उनकी परवर्ती आत्मपरक सृष्टि। निराला-काव्य के अध्येता डॉ. नंदकिशोर नवल ने, जो निराला रचनावली के सम्पादक भी हैं; प्रस्तुत पुस्तक में निस्सन्देह निराला के काव्य-लोक की बहुत ही भव्य फलक दिखलाई है। Nirala aaj khadi boli ke sarvashreshth kavi ke rup mein manya hain, lekin is manyta tak unke pahunchane ki bhi ek kahani hai—sangharshpurn. Unhonne ek taraf kavita ko mukt kiya aur dusri taraf usmen aise anushasan ki mang thi, jiski purti bahut thode kavi kar sakte hain. Unki visheshta ye hai ki prchand bhavuk hote hue bhi ve ek vicharvan kavi the aur unki vicharshilta sthir na hokar apni jatilta mein bhi gatishil thi. Ve vastutः bhartiy svadhinta-andolan ki den the, lekin unki svadhinta ki dharna apne samkalin kaviyon se bahut aage hi nahin thi, balki krantikar thi. Yahi karan hai ki ve nai pidhi ke liye bhi prasangik bane hue hain. ‘nirala-kavya ki chhaviyan’ namak is pustak ka pahla khand in tamam baton ka vishleshanpurn sakshya prastut kartaHai.
Dusra khand nirala ki kuchh purvvarti aur parvarti chuni hui kavitaon ki path-kendrit aalochna se sambandhit hai. ‘preysi’, ‘ram ki shakti-puja’, ‘todti patthar’, ‘van-bela’ aur ‘hindi ke sumnon ke prati patr’ nirala ki aisi kavitayen hain, jo unke purvvarti kavya ke vishay-vaividhya ko darshati hain. Yahan unki vyakhya ke prsang mein unki akhandta ko dhyan mein rakhte hue unhen parat-dar-parat udhedkar dekhne ka pryas kiya gaya hai. Pustak ke dusre khand ki aprtim visheshta ye hai ki ismen kadachit pahli baar nirala ke parvarti kavya ka marksvad aur hindi prdesh ke krishak-samaj se sambandh purvagrahmukt hokar nirupit kiya gaya hai. Jaise ‘sumnon ke prati patr’ nirala ki purvvarti aatmaprak srishti hai, vaise hi ‘patrokanthit jivan’ unki parvarti aatmaprak srishti. Nirala-kavya ke adhyeta dau. Nandakishor naval ne, jo nirala rachnavli ke sampadak bhi hain; prastut pustak mein nissandeh nirala ke kavya-lok ki bahut hi bhavya phalak dikhlai hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products