Look Inside
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen
Nepali Kavitayen

Nepali Kavitayen

Regular price Rs. 186
Sale price Rs. 186 Regular price Rs. 200
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nepali Kavitayen

Nepali Kavitayen

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

नेपाली साहित्य या भाषा की प्राचीनतम रचना चौदहवीं शती का एक ताम्रपत्र माना जाता है। लेकिन मल्लकाल के अन्त के साथ ही नेपाली में साहित्य सर्जना होने लगी। सुवानन्द दास की पहली कविता, जिसमें पृथ्वीनारायण शाह (प्रथम नेपाल नरेश) की विजय-यात्रा इत्यादि का वर्णन है, नेपाली साहित्य की प्रथम कविता है। लेकिन नेपाली साहित्य की वास्तविक शुरुआत भानुभक्त आचार्य और उनके महाकाव्य ‘नेपाली रामायण’ से माननी चाहिए, जिसे भानुभक्त आचार्य ने जेल के अन्दर लिखा था।
इस काल को हम नेपाली मानस के निराशा-युग, पराजय-काल के रूप में ले सकते हैं। अंग्रेज़ों के साथ अपमानजनक सुगौली सन्धि (1816) के समय अनेक दरबारी षड्यंत्रों की बीभत्सता चरम रूप में थी। सत्ता के लिए हर कोई दूसरे की लाश पर खड़े रहने को तत्पर था। नेपाली इतिहास के लहूलुहान पन्ने इन्हीं दिनों लिखे गए। भानुभक्त की ‘रामायण’ इसी भक्तिकाल (1853) की सर्वश्रेष्ठ उपलब्धि है।
सत्ता और शास्त्रीयता के विरुद्ध भयंकर युद्ध के नायक गोपालप्रसाद रिमाल प्रथम कवि हैं जिनका प्रभाव आज तक बरकरार है। 1940 में ही महाकवि लक्ष्मीप्रसाद देवकोटा भी स्वतंत्रता युद्ध में कूद गए। रिमाल और देवकोटा दो ऐसे अद्वितीय कवि हैं, वे अब हमारे मध्य नहीं रहे, जिन्होंने नेपाल को नई जागृति दी। 1950 में नेपाल में प्रजातंत्र की स्थापना हुई। 1950-60 के दशक को हम नेपाली साहित्य का अभूतपूर्व दशक कह सकते हैं।
इस संग्रह में 1961 के बाद के कवियों को ही प्रस्तुत किया गया है—अपवाद के रूप में सर्वश्री गोपालप्रसाद रिमाल, लक्ष्मीप्रसाद देवकोटा और मोहन कोइराला हैं।
संग्रह के कवियों में दुरूहतावादी और ‘कला कला के लिए’ माननेवाले और अपने को प्रगतिशील कहनेवाले किसी वाद के समर्थक कवियों को शामिल नहीं किया गया है।
नेपाली कविता में साठ के दशक के बाद जो पीढ़ी उभरी है, वह साहित्य को आदमी की व्यथा, वेदना, विसंगति, कटुता और जीवन के घिनौने यथार्थ को प्रकट करने का माध्यम स्वीकारती है और उसे आम आदमी तक ले जाना चाहती है। ऐसे सभी कवियों को इस संग्रह में शामिल करने का प्रयास किया गया है जो सौ साल बाद के पाठक के लिए नहीं लिखते बल्कि आज के पाठकों के सामने आज की संवेदना को लेकर जाना चाहते हैं। Nepali sahitya ya bhasha ki prachintam rachna chaudahvin shati ka ek tamrpatr mana jata hai. Lekin mallkal ke ant ke saath hi nepali mein sahitya sarjna hone lagi. Suvanand daas ki pahli kavita, jismen prithvinarayan shah (prtham nepal naresh) ki vijay-yatra ityadi ka varnan hai, nepali sahitya ki prtham kavita hai. Lekin nepali sahitya ki vastvik shuruat bhanubhakt aacharya aur unke mahakavya ‘nepali ramayan’ se manni chahiye, jise bhanubhakt aacharya ne jel ke andar likha tha. Is kaal ko hum nepali manas ke nirasha-yug, parajay-kal ke rup mein le sakte hain. Angrezon ke saath apmanajnak sugauli sandhi (1816) ke samay anek darbari shadyantron ki bibhatsta charam rup mein thi. Satta ke liye har koi dusre ki lash par khade rahne ko tatpar tha. Nepali itihas ke lahuluhan panne inhin dinon likhe ge. Bhanubhakt ki ‘ramayan’ isi bhaktikal (1853) ki sarvashreshth uplabdhi hai.
Satta aur shastriyta ke viruddh bhayankar yuddh ke nayak gopalaprsad rimal prtham kavi hain jinka prbhav aaj tak barakrar hai. 1940 mein hi mahakavi lakshmiprsad devkota bhi svtantrta yuddh mein kud ge. Rimal aur devkota do aise advitiy kavi hain, ve ab hamare madhya nahin rahe, jinhonne nepal ko nai jagriti di. 1950 mein nepal mein prjatantr ki sthapna hui. 1950-60 ke dashak ko hum nepali sahitya ka abhutpurv dashak kah sakte hain.
Is sangrah mein 1961 ke baad ke kaviyon ko hi prastut kiya gaya hai—apvad ke rup mein sarvashri gopalaprsad rimal, lakshmiprsad devkota aur mohan koirala hain.
Sangrah ke kaviyon mein duruhtavadi aur ‘kala kala ke liye’ mannevale aur apne ko pragatishil kahnevale kisi vaad ke samarthak kaviyon ko shamil nahin kiya gaya hai.
Nepali kavita mein saath ke dashak ke baad jo pidhi ubhri hai, vah sahitya ko aadmi ki vytha, vedna, visangati, katuta aur jivan ke ghinaune yatharth ko prkat karne ka madhyam svikarti hai aur use aam aadmi tak le jana chahti hai. Aise sabhi kaviyon ko is sangrah mein shamil karne ka pryas kiya gaya hai jo sau saal baad ke pathak ke liye nahin likhte balki aaj ke pathkon ke samne aaj ki sanvedna ko lekar jana chahte hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products