BackBack
-11%

Neeloo Neelima Neelofar

Bhishma Sahni

Rs. 495 Rs. 441

‘नीलू नीलिमा नीलोफ़र’ प्रेम कहानी है। प्रेम कहानियों में अडचनें उठती हैं, कभी आर्थिक विषमताओं के कारण, कभी जाति-भेद के कारण, कभी पारिवारिक मतभेद के कारण। इस कहानी में भी अवरोध उठते हैं, परस्पर प्रेम के कोमल तन्‍तुओं को कुचलने के लिए। अन्‍तर केवल इतना है कि इस प्रेम कहानी... Read More

BlackBlack
Description

‘नीलू नीलिमा नीलोफ़र’ प्रेम कहानी है। प्रेम कहानियों में अडचनें उठती हैं, कभी आर्थिक विषमताओं के कारण, कभी जाति-भेद के कारण, कभी पारिवारिक मतभेद के कारण। इस कहानी में भी अवरोध उठते हैं, परस्पर प्रेम के कोमल तन्‍तुओं को कुचलने के लिए। अन्‍तर केवल इतना है कि इस प्रेम कहानी में उठनेवाले अवरोध कुछ ऐसे पूर्वग्रह लिए हुए हैं जिनकी जड़ें समाज में बड़ी गहरी हैं, और जिनकी भूमिका कभी-कभी दारुण, भयावह रूप ले लेती है।
लेकिन मनुष्य के जीवन में प्रेम की भूमिका निश्चय ही इन पूर्वग्रहों से ऊँचा उठकर, दिलों को जोड़नेवाली, निश्छल, सात्त्विक भूमिका होती है। गहरा, सच्चा, निस्वार्थ प्रेम गहरी मानवीयता से प्रेरित होता है। दूसरी ओर पूर्वग्रहों की भूमिका कभी-कभी तो अमानवीय स्तर पर क्रूर हो जाती है।
इन अवरोधों से जूझना एक तरह से अपने परिवेश से जूझना भी है, इस परिवेश में अपने को खोजना भी है, अपने को पहचान पाने का प्रयास भी है।
इसी माहौल में उपन्यास के पात्र अपनी जिन्‍दगी का ताना-बाना बुनते हैं...! ‘nilu nilima nilofar’ prem kahani hai. Prem kahaniyon mein adachnen uthti hain, kabhi aarthik vishamtaon ke karan, kabhi jati-bhed ke karan, kabhi parivarik matbhed ke karan. Is kahani mein bhi avrodh uthte hain, paraspar prem ke komal tan‍tuon ko kuchalne ke liye. An‍tar keval itna hai ki is prem kahani mein uthnevale avrodh kuchh aise purvagrah liye hue hain jinki jaden samaj mein badi gahri hain, aur jinki bhumika kabhi-kabhi darun, bhayavah rup le leti hai. Lekin manushya ke jivan mein prem ki bhumika nishchay hi in purvagrhon se uuncha uthkar, dilon ko jodnevali, nishchhal, sattvik bhumika hoti hai. Gahra, sachcha, nisvarth prem gahri manviyta se prerit hota hai. Dusri or purvagrhon ki bhumika kabhi-kabhi to amanviy star par krur ho jati hai.
In avrodhon se jujhna ek tarah se apne parivesh se jujhna bhi hai, is parivesh mein apne ko khojna bhi hai, apne ko pahchan pane ka pryas bhi hai.
Isi mahaul mein upanyas ke patr apni jin‍dagi ka tana-bana bunte hain. . . !