Nanya

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Nanya

Nanya

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रभु जोशी, हिन्दी गल्प जगत् के ऐसे अनूठे कथा-नागरिक हैं, जो सूक्ष्मतम संवेदनाओं के रेशों से ही, विचार और संवेदना के वैभव का वितान रचते हैं, जिसमें रचना का स्थापत्य, अपने परिसर में, समय के भूगोल को चतुर्दिक् घेर लेता है। यही वजह है कि उनकी लम्बी और औपन्यासिक आभ्यन्तर वाली लगभग सभी कथा-रचनाएँ, वर्गीकृत सामाजिकता के अन्तर्विरोधों के दारुण दु:खों को अपने कथ्य का केन्द्रीय-सूत्र बनाकर चलती आई हैं।
प्रस्तुत कथा-कृति ‘नान्या’, औपनिवेशिक समय के विकास-वंचित अंचल के छोटे से गाँव में एक अबोध बालक के ‘मनस के मर्मान्तक मानचित्र’ को अपना अभीष्ट बनाती हुई, भाषा के नाकाफ़ीपन में भी अभिव्यक्ति का ऐसा नैसर्गिक मुहावरा गढ़ती है कि भाषा के नागर-रूप में, तमाम ‘तद्भव’ शब्द अपने अभिप्रायों को उसी अनूठेपन के साथ रखने के लिए राज़ी हो जाते हैं, जो लोकभाषा की एक विशिष्ट भंगिमा रही है। कहने कि ज़रूरत नहीं कि हिन्दी गद्य में, मालवांचल की भाषिक सम्पदा से पाठकों का परिचय करानेवाले प्रभु जोशी निर्विवाद रूप से पहले कथाकार रहे हैं, जिनकी ग्राम-कथाओं के ज़रिए पाठकों ने सत्तर के दशक के पूर्वार्द्ध में इस क्षेत्र के यथार्थ को उसकी समूची जटिलता के साथ जाना। जबकि इस अंचल से आनेवाले पूर्ववर्तियों से यह छूटता रहा था।
अबोधता के इस अकाल समय में ‘नान्या’ की यह दारुण कथा जिस गल्पयुक्ति से चित्रित की गई है, उसमें प्रभु जोशी का कुशल गद्यकार, दृश्य-भाषा से रची गई कथा-अन्विति को, पर्त-दर-पर्त इतनी घनीभूत बनाता है कि पूरी रचना में कथा-सौष्ठव और औत्सुक्य की तीव्रता कहीं क्षीण नहीं होती। कहना न होगा कि यह हिन्दी गल्प की पहली ऐसी कृति है, जिसमें बाल-कथानायक के सोचने की भाषा के सम्भव मुहावरे में, इतना बड़ा आभ्यन्तर रचा गया है। इसमें उसकी आशा-निराशा, सुख-दु:ख, संवेदना के परिपूर्ण विचलन के साथ बखान में उत्कीर्ण हैं, जहाँ लोक-स्मृति का आश्रय, पात्र की बाल-सुलभ अबोधता को, और-और प्रामाणिक भी बनाता है। कहानी में यह वह समय है, जबकि नगर और ग्राम का द्वैत इतना दारुण नहीं था, और लोग ग्राम से पलायन में जड़-विहीन हो जाने का भय अनुभव करते थे। कथा में एक स्थल पर दादी की कथनोक्ति में यह सामाजिक सत्य जड़ों से नाथे रखने के लिए तर्क पोषित रूप में व्यक्त भी होता है कि ‘जब कुण्डी में पाणी, कोठी में नाज, ग्वाड़ा में गाय, और हाथ में हरकत-बरकत होय तो, गाँव का कांकड़ छोड़ के हम सेरगाम क्यों जावाँ?’
बहरहाल, नान्या अपनी दादी और बड़े ‘बा’ के बीच ही मानसिक गठन की प्रश्नाकुलता से भिड़ता हुआ, यक़ीनों की विचित्र और उलझी हुई गाँठों में, और-और उलझता हुआ, हमें रुडयार्ड किपलिंग, चेख़व और दॉस्तोयेव्स्की के बाल-पात्रों की त्रासदियों का पुनर्स्मरण कराता हुआ, करुणा और संवेदना की सार्वभौमिकता के वृत्त के निकट ला छोड़ता है। प्रभु जोशी के कथाकार की दक्षता इस बात में भी है कि ‘नैरेटर’ की उपस्थिति कलात्मक ढंग से ‘कैमोफ्लेज्ड’ कर दी गई है। नान्या की यह कथा, अपने भीतर के एकान्त में घटनेवाले आत्मसंवाद का रूप ग्रहण करती हुई इतनी पारदर्शी हो जाती है कि पाठक एक अबोध की त्रासदी के पास निस्सहाय-सा, व्यथा के वलय में खड़ा रह जाता है। कथा, काल-कीलित होते हुए भी, सार्वभौमिक सत्य की तरह हमारे समक्ष बहुत सारे मर्मभेदी प्रश्न छोड़ जाती है। विस्मय तो यह तथ्य भी पैदा करता है कि कथाकृति, काल के इतने बड़े अन्तराल को फलाँग कर, साहित्य के समकाल से होड़ लेती हुई अपनी अद्वितीयता का साक्ष्य रखती है। Prabhu joshi, hindi galp jagat ke aise anuthe katha-nagrik hain, jo sukshmtam sanvednaon ke reshon se hi, vichar aur sanvedna ke vaibhav ka vitan rachte hain, jismen rachna ka sthapatya, apne parisar mein, samay ke bhugol ko chaturdik gher leta hai. Yahi vajah hai ki unki lambi aur aupanyasik aabhyantar vali lagbhag sabhi katha-rachnayen, vargikrit samajikta ke antarvirodhon ke darun du:khon ko apne kathya ka kendriy-sutr banakar chalti aai hain. Prastut katha-kriti ‘nanya’, aupaniveshik samay ke vikas-vanchit anchal ke chhote se ganv mein ek abodh balak ke ‘manas ke marmantak manchitr’ ko apna abhisht banati hui, bhasha ke nakafipan mein bhi abhivyakti ka aisa naisargik muhavra gadhti hai ki bhasha ke nagar-rup mein, tamam ‘tadbhav’ shabd apne abhiprayon ko usi anuthepan ke saath rakhne ke liye razi ho jate hain, jo lokbhasha ki ek vishisht bhangima rahi hai. Kahne ki zarurat nahin ki hindi gadya mein, malvanchal ki bhashik sampda se pathkon ka parichay karanevale prabhu joshi nirvivad rup se pahle kathakar rahe hain, jinki gram-kathaon ke zariye pathkon ne sattar ke dashak ke purvarddh mein is kshetr ke yatharth ko uski samuchi jatilta ke saath jana. Jabaki is anchal se aanevale purvvartiyon se ye chhutta raha tha.
Abodhta ke is akal samay mein ‘nanya’ ki ye darun katha jis galpyukti se chitrit ki gai hai, usmen prabhu joshi ka kushal gadykar, drishya-bhasha se rachi gai katha-anviti ko, part-dar-part itni ghanibhut banata hai ki puri rachna mein katha-saushthav aur autsukya ki tivrta kahin kshin nahin hoti. Kahna na hoga ki ye hindi galp ki pahli aisi kriti hai, jismen bal-kathanayak ke sochne ki bhasha ke sambhav muhavre mein, itna bada aabhyantar racha gaya hai. Ismen uski aasha-nirasha, sukh-du:kha, sanvedna ke paripurn vichlan ke saath bakhan mein utkirn hain, jahan lok-smriti ka aashray, patr ki bal-sulabh abodhta ko, aur-aur pramanik bhi banata hai. Kahani mein ye vah samay hai, jabaki nagar aur gram ka dvait itna darun nahin tha, aur log gram se palayan mein jad-vihin ho jane ka bhay anubhav karte the. Katha mein ek sthal par dadi ki kathnokti mein ye samajik satya jadon se nathe rakhne ke liye tark poshit rup mein vyakt bhi hota hai ki ‘jab kundi mein pani, kothi mein naaj, gvada mein gaay, aur hath mein harkat-barkat hoy to, ganv ka kankad chhod ke hum sergam kyon javan?’
Baharhal, nanya apni dadi aur bade ‘ba’ ke bich hi mansik gathan ki prashnakulta se bhidta hua, yaqinon ki vichitr aur uljhi hui ganthon mein, aur-aur ulajhta hua, hamein rudyard kipling, chekhav aur daustoyevski ke bal-patron ki trasadiyon ka punarsmran karata hua, karuna aur sanvedna ki sarvbhaumikta ke vritt ke nikat la chhodta hai. Prabhu joshi ke kathakar ki dakshta is baat mein bhi hai ki ‘nairetar’ ki upasthiti kalatmak dhang se ‘kaimophlejd’ kar di gai hai. Nanya ki ye katha, apne bhitar ke ekant mein ghatnevale aatmsanvad ka rup grhan karti hui itni pardarshi ho jati hai ki pathak ek abodh ki trasdi ke paas nisshay-sa, vytha ke valay mein khada rah jata hai. Katha, kal-kilit hote hue bhi, sarvbhaumik satya ki tarah hamare samaksh bahut sare marmbhedi prashn chhod jati hai. Vismay to ye tathya bhi paida karta hai ki kathakriti, kaal ke itne bade antral ko phalang kar, sahitya ke samkal se hod leti hui apni advitiyta ka sakshya rakhti hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products