Look Inside
Nagarjuna Aur Unki Kavita
Nagarjuna Aur Unki Kavita
Nagarjuna Aur Unki Kavita
Nagarjuna Aur Unki Kavita

Nagarjuna Aur Unki Kavita

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nagarjuna Aur Unki Kavita

Nagarjuna Aur Unki Kavita

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

खड़ीबोली कविता की परम्परा भी प्रचुर समृद्ध है। नागार्जुन इस परम्परा की महत्त्वपूर्ण कड़ी हैं। उनकी कविता के अनेक पक्ष हैं, यथा—आत्माभिव्यक्ति, प्रगतिशीलता, राजनीति, प्रकृति आदि। कुछ कथात्मक कविताओं में उन्होंने पौराणिक आख्यानों को भी आधार बनाया है, पर उसे आधुनिक संवेदना से नया बना दिया है।
नागार्जुन के प्रत्येक पक्ष की कविता में गजब का वैविध्य है। यह वैविध्य अन्तर्वस्तु के स्तर पर भी है और रूप के स्तर पर भी। उनकी तरह अनेक प्रकार की भाषाओं का प्रयोग करनेवाले कवि आधुनिक काल में निराला के अलावा शायद ही कोई हुए हों।
आम तौर पर उन्हें जन-कवि माना जाता है, लेकिन वे उसके साथ-साथ अभिजन-कवि भी थे। अभी कुछ दिन पहले ‘कवि अज्ञेय’ नामक डा. नवल की आलोचना-पुस्तक प्रकाशित हुई है। उससे स्पष्ट हो जाता है कि अज्ञेय और नागार्जुन एक-दूसरे के उलट नहीं थे, बल्कि उनमें मिलन के अनेक बिन्दु थे। अज्ञेय की कविता का नायक भी जनसाधारण था और नागार्जुन ने भी अनेक स्थलों पर अभिजात संवेदना का परिचय दिया है।
उनकी कविता के सम्बन्ध में ज्यादा न कहकर उनकी कुछ पंक्तियाँ उद्धृत की जाती हैं, जिससे उनकी अभिजात संवेदना और भाषा-शैली का भी पता चल सके। एक कविता में उन्होंने राष्ट्रगान की याद दिलानेवाला यह चित्र अंकित किया है: ‘दक्षिण में है नारिकेल-पूगीवन वलयित केरल जनपद/ तमिलनाडु की धनुष्कोटि-कन्याकुमारिका/पश्चिम जलनिधि सिंध-कच्छ-सौराष्ट्र/और गुर्जर- परिशोभित/उत्तर का दिक्पाल तुम्हारा महानाम उत्तुंग भाल/गौरीपति शंकर-तपःपूत कैलाश शिखर दंडायमान है/प्राची में है वरुणालय वह वंग-विभूषण/और वक्ष पर कौस्तुभ मणि-सा विंध्य पड़ा है/जाने कब से!’
डा. नवल की यह पुस्तक निश्चय ही लोकप्रियता प्राप्त करेगी, ऐसा विश्वास है। Khadiboli kavita ki parampra bhi prchur samriddh hai. Nagarjun is parampra ki mahattvpurn kadi hain. Unki kavita ke anek paksh hain, yatha—atmabhivyakti, pragatishilta, rajniti, prkriti aadi. Kuchh kathatmak kavitaon mein unhonne pauranik aakhyanon ko bhi aadhar banaya hai, par use aadhunik sanvedna se naya bana diya hai. Nagarjun ke pratyek paksh ki kavita mein gajab ka vaividhya hai. Ye vaividhya antarvastu ke star par bhi hai aur rup ke star par bhi. Unki tarah anek prkar ki bhashaon ka pryog karnevale kavi aadhunik kaal mein nirala ke alava shayad hi koi hue hon.
Aam taur par unhen jan-kavi mana jata hai, lekin ve uske sath-sath abhijan-kavi bhi the. Abhi kuchh din pahle ‘kavi agyey’ namak da. Naval ki aalochna-pustak prkashit hui hai. Usse spasht ho jata hai ki agyey aur nagarjun ek-dusre ke ulat nahin the, balki unmen milan ke anek bindu the. Agyey ki kavita ka nayak bhi jansadharan tha aur nagarjun ne bhi anek sthlon par abhijat sanvedna ka parichay diya hai.
Unki kavita ke sambandh mein jyada na kahkar unki kuchh panktiyan uddhrit ki jati hain, jisse unki abhijat sanvedna aur bhasha-shaili ka bhi pata chal sake. Ek kavita mein unhonne rashtrgan ki yaad dilanevala ye chitr ankit kiya hai: ‘dakshin mein hai narikel-pugivan valyit keral janpad/ tamilnadu ki dhanushkoti-kanyakumarika/pashchim jalanidhi sindh-kachchh-saurashtr/aur gurjar- parishobhit/uttar ka dikpal tumhara mahanam uttung bhal/gauripati shankar-tapःput kailash shikhar dandayman hai/prachi mein hai varunalay vah vang-vibhushan/aur vaksh par kaustubh mani-sa vindhya pada hai/jane kab se!’
Da. Naval ki ye pustak nishchay hi lokapriyta prapt karegi, aisa vishvas hai.

Shipping & Return

{%- if product.vendor == "Rekhta E-Books POD" -%}
Print On Demand
{% endif %}

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products