Nadi Ke Dweep

Regular price Rs. 925
Sale price Rs. 925 Regular price Rs. 995
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Nadi Ke Dweep

Nadi Ke Dweep

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

व्यक्ति अज्ञेय की चिंतन-धरा का महत्तपूर्ण अंग रहा है, और ‘नदी के द्वीप’ उपन्यास में उन्होंने व्यक्ति के विकसित आत्म को निरुपित करने की सफल कोशिश की है-वह व्यक्ति, जो विराट समाज का अंग होते हुए भी उसी समाज की तीव्रगामी धाराओं, भंवरों और तरंगो के बीच अपने भीतर एक द्वीप की तरह लगातार बनता, बिगड़ता और फिर बनता रहता है । वेदना जिसे मांजती है, पीड़ा जिसे व्यस्क बनाती है, और धीरे-धीरे द्रष्टा । अज्ञेय के प्रसिद्द उपन्यास ‘शेखर : एक जीवनी’ से संरचना में बिलकुल अलग इस उपन्यास की व्यवस्था विकसनशील व्यक्तियों की नहीं, आंतरिक रूप से विकसित व्यक्तियों के इर्द-गिर्द बुनी गई है । उपन्यास में सिर्फ उनके आत्म का उदघाटन होता है । समाज के जिस अल्पसंख्यक हिस्से से इस उपन्यास के पत्रों का सम्बन्ध है, वह अपनी संवेदना की गहराई के चलते आज भी समाज की मुख्यधारा में नहीं है । लेकिन वह है, और ‘नदी के द्वीप’ के चरों पत्र मानव-अनुभूति के सर्वकालिक-सार्वभौमिक आधारभूत तत्त्वों के प्रतिनिधि उस संवेदना-प्रवण वर्ग की इमानदार अभिव्यक्ति करते हैं । ‘नदी के द्वीप’ में एक सामाजिक आदर्श भी है, जिसे अज्ञेय ने अपने किसी वक्तव्य में रेखांकित भी किया था, और वह है-दर्द से मंजकर व्यक्तित्व का स्वतंत्र विकास, ऐसी स्वतंत्रता की उद्भावना जो दूसरे को भी स्वतंत्र करती हो । व्यक्ति और समूह के बीच फैली तमाम विकृतियों से पीड़ित हमारे समाज में ऐसी कृतियाँ सदैव प्रासंगिक रहेंगी । Vyakti agyey ki chintan-dhara ka mahattpurn ang raha hai, aur ‘nadi ke dvip’ upanyas mein unhonne vyakti ke viksit aatm ko nirupit karne ki saphal koshish ki hai-vah vyakti, jo virat samaj ka ang hote hue bhi usi samaj ki tivrgami dharaon, bhanvron aur tarango ke bich apne bhitar ek dvip ki tarah lagatar banta, bigadta aur phir banta rahta hai. Vedna jise manjti hai, pida jise vyask banati hai, aur dhire-dhire drashta. Agyey ke prsidd upanyas ‘shekhar : ek jivni’ se sanrachna mein bilkul alag is upanyas ki vyvastha vikasanshil vyaktiyon ki nahin, aantrik rup se viksit vyaktiyon ke ird-gird buni gai hai. Upanyas mein sirph unke aatm ka udghatan hota hai. Samaj ke jis alpsankhyak hisse se is upanyas ke patron ka sambandh hai, vah apni sanvedna ki gahrai ke chalte aaj bhi samaj ki mukhydhara mein nahin hai. Lekin vah hai, aur ‘nadi ke dvip’ ke charon patr manav-anubhuti ke sarvkalik-sarvbhaumik aadharbhut tattvon ke pratinidhi us sanvedna-prvan varg ki imandar abhivyakti karte hain. ‘nadi ke dvip’ mein ek samajik aadarsh bhi hai, jise agyey ne apne kisi vaktavya mein rekhankit bhi kiya tha, aur vah hai-dard se manjkar vyaktitv ka svtantr vikas, aisi svtantrta ki udbhavna jo dusre ko bhi svtantr karti ho. Vyakti aur samuh ke bich phaili tamam vikritiyon se pidit hamare samaj mein aisi kritiyan sadaiv prasangik rahengi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products