Look Inside
Nadi
Nadi
Nadi
Nadi

Nadi

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Nadi

Nadi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘बस—बहने दो जीवन सरिता को कहीं-न-कहीं—जल्दी या देरी से—कोई-न-कोई हल तो निकलेगा।' यही सूत्र है 'नदी' उपन्यास का। हिन्दी कथा-साहित्य में अविस्मरणीय ख्याति प्राप्त कर चुकीं उषा प्रियम्वदा का यह नया उपन्यास पठनीयता का पुनर्नवन है। नियति, अबूझ जीवन, प्रारब्ध—क्या नाम दें उस घटनाक्रम को जो 'नदी' की नायिका आकाशगंगा को जाने किस-किस रूप में कहाँ-कहाँ से विस्थापित करता है।
विदेश में निवास करती आकाशगंगा पुत्र भविष्य की मृत्यु के लिए इस सीमा तक अपने पति द्वारा उत्तरदायी मानी जाती है कि परिवार से विच्छिन्न कर दी जाती है। पति गगनेन्द्र दो बेटियों सहित भारत आ जाते हैं। यहीं से एकाकी छूट गई आकाशगंगा का संघर्ष प्रारम्भ होता है। वह अर्जुन सिंह और एरिक के प्रगाढ़ सम्पर्क में आती है। भारत लौटकर सास-ससुर, बेटियों की आत्मीयता में घिरने लगती है कि एक प्राय: अप्रत्याशित स्थिति उसे दूरदेश ले आती है।
प्रवीण दम्पति के साथ रहकर गंगा जीवन का नया अध्याय शुरू करती है। और एरिक के साहचर्य से उत्पन्न उसका बेटा स्तव्य स्टीवेन! आकाशगंगा अपने जीवन-प्रवाह में जिन ऊँचाइयों, गहराइयों, मैदानों, घाटियों, संकीर्ण-पथों प्रशस्त पाटों से गुज़रती है, उन्हें उषा प्रियम्वदा ने जीवन्त कर दिया है।
उषा प्रियम्वदा ने आकाशगंगा के बहाने स्त्री-जीवन के कटु-कठोर यथार्थ का मार्मिक चित्रण किया है। भाषा और शैली के लिए तो वे अलग से पहचानी ही जाती हैं।
‘नदी' जीवन-प्रवाह का ऐसा दृश्य...जिसमें अदृश्य के अँधेरे देर तक चमकते रहते हैं। ‘bas—bahne do jivan sarita ko kahin-na-kahin—jaldi ya deri se—koi-na-koi hal to niklega. Yahi sutr hai nadi upanyas ka. Hindi katha-sahitya mein avismarniy khyati prapt kar chukin usha priyamvda ka ye naya upanyas pathniyta ka punarnvan hai. Niyati, abujh jivan, prarabdh—kya naam den us ghatnakram ko jo nadi ki nayika aakashganga ko jane kis-kis rup mein kahan-kahan se visthapit karta hai. Videsh mein nivas karti aakashganga putr bhavishya ki mrityu ke liye is sima tak apne pati dvara uttardayi mani jati hai ki parivar se vichchhinn kar di jati hai. Pati gagnendr do betiyon sahit bharat aa jate hain. Yahin se ekaki chhut gai aakashganga ka sangharsh prarambh hota hai. Vah arjun sinh aur erik ke prgadh sampark mein aati hai. Bharat lautkar sas-sasur, betiyon ki aatmiyta mein ghirne lagti hai ki ek pray: apratyashit sthiti use durdesh le aati hai.
Prvin dampati ke saath rahkar ganga jivan ka naya adhyay shuru karti hai. Aur erik ke sahcharya se utpann uska beta stavya stiven! aakashganga apne jivan-prvah mein jin uunchaiyon, gahraiyon, maidanon, ghatiyon, sankirn-pathon prshast paton se guzarti hai, unhen usha priyamvda ne jivant kar diya hai.
Usha priyamvda ne aakashganga ke bahane stri-jivan ke katu-kathor yatharth ka marmik chitran kiya hai. Bhasha aur shaili ke liye to ve alag se pahchani hi jati hain.
‘nadi jivan-prvah ka aisa drishya. . . Jismen adrishya ke andhere der tak chamakte rahte hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products