BackBack
-11%

Mujhe Aise Padhao

Mukesh Kishore

Rs. 195 Rs. 174

सीखने का शिक्षा में और शिक्षा का मानव के गुणात्मक विकास में अहम योगदान है। गुणात्मक शिक्षण के लिए ‘उत्पादक शैक्षिक वातावरण’ पूर्वापेक्षित है। यह पुस्तक ‘उत्पादक शैक्षिक वातावरण के निर्माण’ में प्राथमिक से लेकर उच्च शिक्षा तक सीखने-सिखाने से जुड़े मार्गदर्शकों की सहायता करने का एक महत्त्वपूर्ण प्रयास है।... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Education
Description

सीखने का शिक्षा में और शिक्षा का मानव के गुणात्मक विकास में अहम योगदान है। गुणात्मक शिक्षण के लिए ‘उत्पादक शैक्षिक वातावरण’ पूर्वापेक्षित है। यह पुस्तक ‘उत्पादक शैक्षिक वातावरण के निर्माण’ में प्राथमिक से लेकर उच्च शिक्षा तक सीखने-सिखाने से जुड़े मार्गदर्शकों की सहायता करने का एक महत्त्वपूर्ण प्रयास है। ‘उत्पादक शैक्षिक वातावरण’ शिक्षक, छात्र तथा सीखने के परिवेश के बीच आवश्यक तालमेल के बिना असम्भव है।
इस पुस्तक में सीखने तथा सिखाने के उन व्यावहारिक अनछुए पहलुओं को सम्मिलित किया गया है, जो विद्यार्थियों में सीखने की ललक पैदा करने, विषय की ग्राह्यता बढ़ाने के अतिरिक्त शिक्षकों की अपने पेशे से रुचि एवं सन्तुष्टि बढ़ाने में सहायक सिद्ध होगी। सम्पूर्ण पुस्तक को चार भागों में बाँटकर इस उद्देश्य को पूरा किया गया है। पहले भाग में जहाँ छात्रों की पहचान के लिए उनमें पाई जानेवाली मनोवैज्ञानिक, सामाजिक तथा आर्थिक भिन्नताओं, मसलन—परिपक्वता, बुद्धि, लिंग, सामाजिक-आर्थिक स्तर इत्यादि पर प्रकाश डाला गया है, वहीं दूसरे भाग में उत्पादक शैक्षिक वातावरण के निर्माण के लिए सीखने में शिक्षकों की भूमिका के महत्त्व को रेखांकित किया गया है। पुस्तक के तीसरे भाग में सीखने के परिवेश को शिक्षण के अनुकूल बनाने के लिए आवश्यक पहलुओं पर चर्चा की गई है। चौथे और अन्तिम भाग में सीखने की प्रगति को सुनिश्चित करने के लिए मापन और मूल्यांकन तथा सीखने में पिछड़नेवाले विद्याथियों की काउन्सिलिंग की प्रक्रिया से अवगत कराया गया है।
किसी भी शिक्षक के जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि अपने जीवनकाल में ज़्यादा से ज़्यादा बच्चों के मन में घनात्मक परिवर्तन लाना है। इस पुस्तक के माध्यम से हमारा यह प्रयास है कि शिक्षक तथा अभिभावक अपने बच्चों के सर्वांगीण विकास को सुनिश्चित कर उनके सच्चे मार्गदर्शक बन पाएँ। Sikhne ka shiksha mein aur shiksha ka manav ke gunatmak vikas mein aham yogdan hai. Gunatmak shikshan ke liye ‘utpadak shaikshik vatavran’ purvapekshit hai. Ye pustak ‘utpadak shaikshik vatavran ke nirman’ mein prathmik se lekar uchch shiksha tak sikhne-sikhane se jude margdarshkon ki sahayta karne ka ek mahattvpurn pryas hai. ‘utpadak shaikshik vatavran’ shikshak, chhatr tatha sikhne ke parivesh ke bich aavashyak talmel ke bina asambhav hai. Is pustak mein sikhne tatha sikhane ke un vyavharik anachhue pahaluon ko sammilit kiya gaya hai, jo vidyarthiyon mein sikhne ki lalak paida karne, vishay ki grahyta badhane ke atirikt shikshkon ki apne peshe se ruchi evan santushti badhane mein sahayak siddh hogi. Sampurn pustak ko char bhagon mein bantakar is uddeshya ko pura kiya gaya hai. Pahle bhag mein jahan chhatron ki pahchan ke liye unmen pai janevali manovaigyanik, samajik tatha aarthik bhinntaon, maslan—paripakvta, buddhi, ling, samajik-arthik star ityadi par prkash dala gaya hai, vahin dusre bhag mein utpadak shaikshik vatavran ke nirman ke liye sikhne mein shikshkon ki bhumika ke mahattv ko rekhankit kiya gaya hai. Pustak ke tisre bhag mein sikhne ke parivesh ko shikshan ke anukul banane ke liye aavashyak pahaluon par charcha ki gai hai. Chauthe aur antim bhag mein sikhne ki pragati ko sunishchit karne ke liye mapan aur mulyankan tatha sikhne mein pichhadnevale vidyathiyon ki kaunsiling ki prakriya se avgat karaya gaya hai.
Kisi bhi shikshak ke jivan ki sabse badi uplabdhi apne jivankal mein zyada se zyada bachchon ke man mein ghanatmak parivartan lana hai. Is pustak ke madhyam se hamara ye pryas hai ki shikshak tatha abhibhavak apne bachchon ke sarvangin vikas ko sunishchit kar unke sachche margdarshak ban payen.