Look Inside
Meri Aatmakatha
Meri Aatmakatha
Meri Aatmakatha
Meri Aatmakatha

Meri Aatmakatha

Regular price Rs. 791
Sale price Rs. 791 Regular price Rs. 850
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Meri Aatmakatha

Meri Aatmakatha

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

बहरहाल, फ़िल्मी दुनिया के साथ मेरा दूसरा सम्पर्क किशोर साहू के माध्यम से हुआ। उन दिनों ‘हंस’ शुरू नहीं हुआ था और हम अक्षर प्रकाशन से पुस्तकें छाप रहे थे। किशोर की आत्मकथा मुझे अच्छी लगी और मैंने उसे छापने का मन भी बना लिया। किशोर की फ़िल्मों का मैं पुराना भक्त था। ‘राजा’, ‘कुँवारा बाप’, 'सावन आया रे’ इत्यादि फ़िल्में मैं कई-कई बार देख चुका था। सबसे अन्त में किशोर साहू को मैंने ‘गाइड’ में देखा। रमोला किशोर की प्रिय हीरोइन थी। नन्ही-मुन्नी-सी चंचल, चुलबुली और समर्पित लड़की। कलकत्ते में मुझे पता लगा कि इक़बालपुर रोड के जिस फ़्लैट में मैं रहता हूँ उसके चार-पाँच मकान बाद ही रमोला भी रहती है। एक रोज़ उस घर का दरवाज़ा खटखटाने पर निकली एक काली ठिंगनी बुढ़िया से जब मैंने रमोला का नाम लिया तो उसने धड़ाक से दरवाज़ा बन्द कर लिया। यह मेरे लिए भयंकर मोहभंग था। क्या इसी रमोला की तस्वीर मैं अपनी डायरी में लिए फिरता था और कविताएँ लिखता था।
किशोर साहू से मिलने से वर्षों पहले उनके पिता कन्हैयालाल साहू से मेरा लम्बा पत्र-व्यवहार रहा है। वे नागपुर के पास रहते थे और सिर्फ़ किताबें पढ़ते थे। उनके हिसाब से हिन्दी में एकमात्र आधुनिक लेखक किशोर साहू थे। मैंने भी किशोर साहू के दो-तीन कहानी-संग्रह पढ़े थे और वे सचमुच मुझे बेहद बोल्ड और आधुनिक कहानीकार लगे थे। दुर्भाग्य से हिन्दी कहानी में उनका ज़िक्र नहीं होता है, वरना वे ऐसे उपेक्षणीय भी नहीं थे। आत्मकथा प्रकाशन के सिलसिले में किशोर साहू ने मुझे बम्बई बुलाया। स्टेशन पर मुझे लेने आए थे किशोर के पिता कन्हैयालाल साहू। मैं ठहरा कमलेश्वर के यहाँ था। शाम को किशोर के यहाँ खाने पर उस परिवार से मेरी भेंट हुई। अगले दिन किशोर मुझे अपने वर्सोवा वाले फ़्लैट पर ले गए, जहाँ वे अपना पुराना बँगला छोड़कर शिफ़्ट कर रहे थे। यहाँ बीयर पीते हुए हमने दिन-भर आत्मकथा के प्रकाशन पर बात की। वे इस आत्मकथा में दुनिया-भर की तस्वीरें ख़ूबसूरत ढंग से छपाना चाहते थे। लागत देखते हुए हम लोगों की स्थिति उस ढंग से छापने की नहीं थी। उन्होंने शायद कुछ हिस्सा बँटाने की भी पेशकश की। मगर वह राशि इतनी कम थी कि आत्मकथा को अभिनन्दन-ग्रन्थ की तरह छाप सकना हम लोगों की सामर्थ्य के बाहर की बात थी। आख़िर बात नहीं बनी और मुझे दिल्ली वापस आना पड़ा। वैसे किशोर में एक ख़ास क़िस्म का आभिजात्य था और वह नपे-तुले ढंग से ही बातचीत या व्यवहार करते थे।
—राजेन्द्र यादव Baharhal, filmi duniya ke saath mera dusra sampark kishor sahu ke madhyam se hua. Un dinon ‘hans’ shuru nahin hua tha aur hum akshar prkashan se pustken chhap rahe the. Kishor ki aatmaktha mujhe achchhi lagi aur mainne use chhapne ka man bhi bana liya. Kishor ki filmon ka main purana bhakt tha. ‘raja’, ‘kunvara bap’, savan aaya re’ ityadi filmen main kai-kai baar dekh chuka tha. Sabse ant mein kishor sahu ko mainne ‘gaid’ mein dekha. Ramola kishor ki priy hiroin thi. Nanhi-munni-si chanchal, chulabuli aur samarpit ladki. Kalkatte mein mujhe pata laga ki iqbalpur rod ke jis flait mein main rahta hun uske char-panch makan baad hi ramola bhi rahti hai. Ek roz us ghar ka darvaza khatakhtane par nikli ek kali thingni budhiya se jab mainne ramola ka naam liya to usne dhadak se darvaza band kar liya. Ye mere liye bhayankar mohbhang tha. Kya isi ramola ki tasvir main apni dayri mein liye phirta tha aur kavitayen likhta tha. Kishor sahu se milne se varshon pahle unke pita kanhaiyalal sahu se mera lamba patr-vyavhar raha hai. Ve nagpur ke paas rahte the aur sirf kitaben padhte the. Unke hisab se hindi mein ekmatr aadhunik lekhak kishor sahu the. Mainne bhi kishor sahu ke do-tin kahani-sangrah padhe the aur ve sachmuch mujhe behad bold aur aadhunik kahanikar lage the. Durbhagya se hindi kahani mein unka zikr nahin hota hai, varna ve aise upekshniy bhi nahin the. Aatmaktha prkashan ke silasile mein kishor sahu ne mujhe bambii bulaya. Steshan par mujhe lene aae the kishor ke pita kanhaiyalal sahu. Main thahra kamleshvar ke yahan tha. Sham ko kishor ke yahan khane par us parivar se meri bhent hui. Agle din kishor mujhe apne varsova vale flait par le ge, jahan ve apna purana bangala chhodkar shift kar rahe the. Yahan biyar pite hue hamne din-bhar aatmaktha ke prkashan par baat ki. Ve is aatmaktha mein duniya-bhar ki tasviren khubsurat dhang se chhapana chahte the. Lagat dekhte hue hum logon ki sthiti us dhang se chhapne ki nahin thi. Unhonne shayad kuchh hissa bantane ki bhi peshkash ki. Magar vah rashi itni kam thi ki aatmaktha ko abhinandan-granth ki tarah chhap sakna hum logon ki samarthya ke bahar ki baat thi. Aakhir baat nahin bani aur mujhe dilli vapas aana pada. Vaise kishor mein ek khas qism ka aabhijatya tha aur vah nape-tule dhang se hi batchit ya vyavhar karte the.
—rajendr yadav

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products